नारी शिक्षा पर निबंध व महत्व Nari shiksha essay in hindi

नारी शिक्षा का महत्व पर निबंध Nari shiksha essay in hindi

Nari shiksha ka mahatva essay in hindi-दोस्तों कैसे हैं आप सभी, आज का हमारा आर्टिकल नारी शिक्षा पर निबंध व महत्व आप सभी के लिए बहुत ही हेल्पफुल होगा इस निबंध से आप अपने स्कूल की परीक्षा में निबंध लिखने के लिए अच्छी जानकारी पा सकते हैं और नारी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए भी हम सभी को चाहिए कि हम इस आर्टिकल को पढ़ें और स्त्री शिक्षा के महत्व को समझें तो चलिए पढ़ते हैं हमारे आज के इस निबंध को

Nari shiksha essay in hindi
Nari shiksha essay in hindi

हमारे देश में नारी का महत्वपूर्ण योगदान है नारी जगत जननी है,नारी के बिना इस सृष्टि का कोई भी अस्तित्व नहीं है नारी देवी का अवतार मानी जाती है. हमारे देश में आज हम देखे तो शिक्षा का महत्व समझा जाता है लोग बच्चों को पढ़ाने के प्रति जागरुक करते हैं और सरकार के द्वारा भी कई प्रयास किए जा रहे हैं कि हर एक बच्चा आगे पड़े और बढ़े.

नारी की शिक्षा पर सरकार द्वारा विशेष रूप से जोर दिया जाता है जब नारी पढ़ेगी तभी वह अपने परिवार को सही तरह से संभाल पाएगी जब नारी पढ़ेगी लिखेगी तभी अपने बच्चों का पालन पोषण करने का ज्ञान उसमें आएगा जब नारी पढ़ेगी तभी वह जीवन में सही और गलत को समझने का ज्ञान प्राप्त कर पाएगी वास्तव में नारी शिक्षा का हमारे जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान है.

बहुत सारी नारियां पढ़ लिखकर कुछ बनना चाहती हैं कुछ जॉब या बिजनेस करना चाहती हैं अब ये तो अपनी अपनी चॉइस है लेकिन शिक्षा सिर्फ नौकरी या बिजनेस करने वाली महिलाओं को ही नही बल्कि हर किसी नारी को करनी चाहिए चाहे वह नौकरी या बिजनेस करें या ना करें क्योंकि शिक्षा का प्रमुख उद्देश्य नारी को शिक्षित करना है उसको अपने समाज को, अपने परिवार को, अपने बच्चों के सही भविष्य के लिए भी शिक्षा लेना जरूरी है इसलिए नारी शिक्षा पर भी विशेष रूप से जोर देना चाहिए.

आज हम देखें तो बहुत से परिवार ऐसे भी होते हैं जो सोचते हैं कि लड़कियों को पढ़ाने से क्या होगा लड़की तो वैसे भी बोझ होती है उसको तो शादी के बाद वैसे भी खाना बनाना होगा लेकिन हम सभी को यह ना सोचकर अपनी बच्चियों को पढ़ाना जरूर चाहिए क्योंकि ज्ञान से ही इस समाज का, इस देश का विकास होता है नारी शिक्षा पर हमें विशेष रुप से जोर देना चाहिए.

नारी शिक्षा का महत्व Nari shiksha ka mahatva

जैसे कि हमने बताया कि जब नारी पढेगी लिखेगी तभी उसको अपने परिवार को सही तरह से संभालने का ज्ञान होगा जब नारी पढ़ेगी तभी वो अपने बच्चों को सही तरह से संभालना सीख सकेगी जब नारी पढेगी लिखेगी तभी वह अपने पति के साथ कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ेगी वास्तव में नारी शिक्षा का हर किसी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान है.

आज हमारे समाज मे पुराने जमाने से चली आ रहे हैं कहीं कुप्रथाएं हैं जिनकी वजह से नारी को समस्याओं का सामना करना पड़ता है चाहे नारी को बोझ समझने वाली एक प्रथा हो चाहे पर्दा प्रथा हो चाहे दहेज प्रथा हो कोई सी भी प्रथा हो नारी हमेशा पुरुष से कमजोर समझी जाती है अगर नारी पढेगी लिखेगी तो इन कुप्रथाओ को बढ़ावा नहीं देने देगी और इनके खिलाफ जीवन में आगे बढ़ेगी क्योंकि यह कुप्रथाएं हमारे समाज को,हमारे देश को पीछे रखती हैं नारी को भी शिक्षा लेने का अधिकार उतना ही है जितना कि पुरुष वर्ग को है क्योकि नारी जगत जननी है,जगत माता है उसका हमारे जीवन में बड़ा ही महत्वपूर्ण योगदान है.

कई बार ऐसा होता है कि घर में किसी तरह की समस्या आती है और अगर परिवार का कोई भी सदस्य नहीं होता तो अनपढ़ महिलाएं समस्याओं को खत्म करने के लिए कोई विशेष रूप से कदम नहीं उठा पाती लेकिन एक शिक्षित महिला उचित कदम उठाकर अपने आपको समस्या से मुक्त कर सकती है.

Related-नारी पर अत्याचार Nari Par Atyachar Essay in Hindi

आज हमारे देश में बहुत सी जगह देखा जाता है कि महिलाओं को पुरुष कमजोर समझता है जिस वजह से महिलाओं को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है अगर स्त्रियां पढ़ी लिखी होंगी तो वह पुरुष वर्ग से कदम से कदम मिलाकर चल सकेंगी.अगर पुरुष महिला को कमजोर समझता है और किसी भी वजह से उसको तलाक दे देता है तो बेचारी शिक्षित महिला खुद कमा सकेगी और अपने और अपने बच्चों की जीविका सही तरह से चला सकेगी वरना इसके विपरीत शिक्षा के बिना वह जीवन में कुछ भी विकास नहीं कर सकेगी.

आज हम देखें महंगाई तेजी से बढ़ रही है पुरुष जो नौकरी करते हैं इतनी सैलरी नहीं मिलती कि वह अपना खर्चा सही तरह से चला सके महिलाये शिक्षित होंगी तो वह वास्तव में पुरुष की तरह कुछ अच्छा काम काज कर सकेगी और अपने पति के साथ में मिलजुल कर कोई काम करके परिवार को चला सकेगी और अपने बच्चों और अपने भविष्य को सफल बनाने में वह अपने पति की मदद कर सकेगी और अपने पति की हर परेशानी में वह महिला कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ सकेंगी. हम देखें नारी शिक्षा सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है हमें हमारी बालिकाओं को पढ़ाने के लिए जागरुक होना चाहिए यही हमारा कर्तव्य है.

नारी शिक्षा की आवश्यकता

जैसे कि हमने ऊपर भी बताया है कि पुरुष की तरह एक महिला भी अगर पढ़ी लिखी होगी तो कदम से कदम मिलाकर जीवन को सफल बना सकेगी वह अपने परिवार को,अपने बच्चों को सही तरह से संभाल सकेगी अगर नारी शिक्षित होगी तो सही और गलत को समझने में उसे मदद मिलेगी और कई प्रकार की कुप्रथाओं से वह मुक्त होने के प्रयास कर सकेगी और किसी भी तरह के कामों को करने के लिए वह सही तरह से प्रयास कर सकेगी वास्तव में नारी शिक्षा की हमें बहुत ज्यादा आवश्यकता है.

स्त्री शिक्षा की समस्याएं

स्त्री को शिक्षित करवाने या शिक्षा दिलवाने में कुछ बाधाएं हैं,कुछ समस्याएं हैं जिनको खत्म करना बेहद जरूरी है आज हम देखें तो हमारे समाज का पुरुष वर्ग सोचता है कि स्त्री पढ़-लिखकर क्या करेगी वह तो सिर्फ दो वक्त का खाना बनाने के लिए ही है यही पुरुष वर्ग की सोच स्त्री को या बालिकाओं को आगे नहीं बढ़ने देती.

कई पुरुष वर्ग यह भी सोचते हैं कि स्त्री को मैं मुझसे ज्यादा नहीं पढ़ाऊंगा क्योंकि स्त्री पुरुष से ज्यादा पढ़ी-लिखी नहीं होनी चाहिए स्त्री हमेशा पुरुष से कमजोर समझी जानी चाहिए पुरुष वर्ग की यही सोच स्त्री शिक्षा के लिए एक समस्या भी है. स्त्री को हमेशा पुरुष वर्ग कमजोर समझते हैं वह सोचते हैं कि स्त्री पढ़ लिखकर कुछ खास क्या कर पाएगी जब मैं पढ़कर कुछ नहीं कर पाएगा तो यह मेरी पत्नी या बहन क्या कर पाएगी यही सोच स्त्री शिक्षा के प्रति समस्याएं उत्पन्न करती है. इसके अलावा हम देखें तो समाज का एक बड़ा वर्ग स्त्रियों की शिक्षा के प्रति ज्यादा जागरूक नहीं होता है इसी वजह से भी स्त्री शिक्षा में समस्याए उत्पन्न हैं.

इसके अलावा आज हम देखें तो स्त्रियों की समस्या देश में गंभीर है हमारे देश में स्त्रियों के साथ कई तरह के अत्याचार हो रहे हैं इस वजह से उनका घूमना फिरना,अकेले कही जाना यानी स्कूल, कॉलेज या कोचिंग में जाना थोड़ा मुश्किल होता क्योकि परिवार वाले उन्हें अकेले नहीं जाने देते और घर पर ही बैठा लेते हैं यह भी एक स्त्री शिक्षा की समस्याओं का एक सबसे महत्वपूर्ण पॉइंट है.हमें इन समस्याओं को खत्म करने की जरूरत है और नारी को शिक्षा दिलवाने की जरूरत है.

महिला शिक्षा का अधिकार

आज हम देखे हैं तो सरकार ने पुरुषों की तरह महिलाओं को भी समान शिक्षा के अधिकार दिए हैं सरकार महिलाओं या लड़कियों की शिक्षा पर बहुत ज्यादा जोर दे रही है वह लड़कियों को शिक्षित करवाने के लिए कई तरह की योजनाएं भी बनाती है जिससे लड़की पढ़े-लिखे और आगे बढ़े क्योंकि आजकल के जमाने में कुछ लोग पुराने जमाने की तरह सोच रखते हैं वह अपनी लड़कियों को बोझ समझकर ज्यादा नहीं पढ़ाना चाहते.

वास्तव में महिला और पुरुष दोनों प्रकृति की इस दुनिया के लिये सबसे महत्वपूर्ण हैं जिस तरह से पुरुष को मां-बाप पढ़ाते हैं उस तरह से महिला को भी पढ़ाना चाहिए यही महिला का अधिकार है.हमारे देश में पढ़ाई लिखाई आजकल अनिवार्य हो गई है महिलाओं को भी पढ़ना बेहद जरूरी है महिलाओं को भी शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार है.

नारी शिक्षा के पक्ष विपक्ष

नारी शिक्षा के पक्ष और विपक्ष में बहुत सारे लोग हैं हमारे देश में कुछ पढ़े लिखे युवा और महिलाएं नारी शिक्षा को जरूरी समझती है नारी शिक्षा के पक्ष में वह सोचती है कि भले ही लड़की पढ़-लिखकर कोई नौकरी करें या ना करें लेकिन हमें उसको पढ़ाना लिखाना जरूर चाहिए और समाज का एक वर्ग लड़कियों को पढ़ाने पर जोड़ देता है वहीं दूसरी ओर समाज का विपक्ष लड़कियों को कमजोर समझता है वह लड़कियों को बोझ समझता है वह लड़कियों को पढ़ाने पर बिल्कुल भी जोर नहीं देता वह उन्हें सिर्फ घर के कामकाज के लिए ही समझता है समाज का विपक्ष लड़कियों को आगे पढ़ाने का मतलब उनपर पैसे बर्बाद करना समझता है.

उपसंहार

हमें चाहिए कि हम नारी शिक्षा पर जोर दें क्योंकि वास्तव में हम देखें तो नारी शिक्षा का हमारे जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान है. नारी जब शिक्षित होगी तो वह हमारे परिवार को,हमारे समाज को आगे बढ़ने में मदद करेगी वह पुरुष के साथ कदम से कदम मिलाकर चलेगी इसलिए हम सभी को नारी शिक्षा पर जोर देना चाहिए।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया है ये आर्टिकल Nari shiksha essay in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल Nari shiksha ka mahatva essay in hindi कैसा लगा इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *