अप्रैल फूल दिवस का इतिहास history of april fools day in hindi

history of april fools day in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं अप्रैल फूल दिवस का इतिहास । 1 अप्रैल को अप्रैल फूल दिवस मनाया जाता है । 1 अप्रैल को हम अपने मित्रों को अप्रैल फूल बनाकर मजाक कर सकते हैं । अप्रैल फूल दिवस प्राचीन समय से ही लोग मनाते आ रहे हैं । इस दिन हम किसी को भी झूठ बोलकर मजाक कर सकते हैं । चलिए अब हम और भी जानेंगे एवं पढ़ेंगे अप्रैल फूल दिवस के इतिहास को ।

history of april fools day in hindi
history of april fools day in hindi

अप्रैल फूल दिवस क्या है

1 अप्रैल को अप्रैल फूल दिवस मनाया जाता है । इस दिन सभी को हम मूर्ख बना सकते हैं । 1 अप्रैल को हम किसी को भी मूर्ख बना सकते हैं । 1 अप्रैल को अपने परिवार के साथ मजाक कर सकते हैं । फोन के माध्यम से हम किसी को भी मूर्ख बनाकर अप्रैल फूल मनाते हैं । प्राचीन काल से अप्रैल फूल दिवस मनाया जाता है । इसे मूर्ख दिवस भी कहा जाता है ।

प्राचीन काल में रोमन लोग अप्रैल महीने में नव वर्ष मनाते थे । मध्यकालीन में नए वर्ष के रूप में 25 मार्च को सभी लोग एकत्रित होकर खुशी मनाते थे । पश्चिमी देशों ने 1852 में यह फैसला लिया की अब हम नया वर्ष जनवरी को मनाएंगे । 1952 में पोप ग्रेगरी अष्टम ने एक कैलेंडर बनाया जिसका नाम ग्रेगोरियन रखा था । कुछ देशों ने इस बात को स्वीकार कर लिया था कि हम 1 जनवरी को नए वर्ष के रूप में मनाएंगे ।

लेकिन कुछ लोगों को इसकी जानकारी नहीं थी वह लोग अप्रैल के महीने में ही नया वर्ष मनाते थे । जो लोग 1 अप्रैल को नया वर्ष मनाते थे उन लोगों को मूर्ख समझा जाता था । तभी से 1 अप्रैल को मूर्ख दिवस के रूप में मनाया जाने लगा था । पश्चिमी देशों में मूर्ख दिवस मनाया जाता है । कई साहित्यकारों का कहना है कि इस दिन सभी अपने दोस्तों ,रिश्तेदारों को फोन द्वारा मूर्ख बना सकते हैं ।

प्राचीन समय में भी कई लोगों ने 1 अप्रैल को अपने परिवार के लोगों को एवं अपने दोस्तों को मूर्ख बनाया है । इस दिन हम किसी को भी मूर्ख बनाकर मूर्ख दिवस का मजा ले सकते हैं ।

अप्रैल फूल क्यों मनाया जाता है

अप्रैल फूल दिवस लोगों के साथ मजाक करने के लिए मनाया जाता है । इस दिन हम किसी को भी मूर्ख बना सकते हैं , उसके साथ मजाक कर सकते हैं । यह दिवस मजाक दिवस के रूप में भी जाना जाता है । इस दिन हम किसी के साथ भी मजाक कर सकते हैं । 1 अप्रैल को सरकारी छुट्टी नहीं होती है । फिर भी सभी लोग 1 अप्रैल को अप्रैल फूल दिवस के रूप में मनाते हैं ।

वह एक दूसरे के साथ मजाक करते हैं । ऐसा करने में हमें बड़ा ही आनंद आता है । पूरे भारत में अप्रैल फूल दिवस मनाया जाता है । भारत के साथ-साथ पूरे विश्व में भी अप्रैल फूल दिवस मनाया जाता है । 1 अप्रैल के दिन सभी को एक दूसरे से मजाक करने की छूट होती है । यदि हम किसी व्यक्ति को मूर्ख बनाते हैं तो वह हमारे मजाक का बुरा नहीं मानता है । कुछ देशों में अप्रैल फूल दोपहर तक ही मनाया जाता है ।

कुछ देशों में अप्रैल फूल दिवस 1 अप्रैल को पूरे दिन मनाया जाता है । कुछ लोगों का यह मानना है कि इंग्लैंड के राजा रिचर्ड की एनी से सगाई होने की बात से लोगों ने अप्रैल फूल दिवस मनाना प्रारंभ किया था । पोलैंड देश में अप्रैल फूल दिवस प्राइमर एप्रिलिस के रूप में जाना जाता है । प्राचीन समय के सभी लोग अप्रैल फूल दिवस मनाते थे । कई राजाओं ने तो अपनी सेनाओं को मूर्ख बनाया है ।

कई राजाओं ने अपनी सेनाओं को मूर्ख बनाने के लिए उनको लड़ाई करने भेज दिया था जब की लड़ाई हुई ही नहीं थी । कई लोगों ने अपने परिवार को भी मूर्ख बनाया था ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल मूर्ख दिवस का इतिहास history of april fools day in hindi आपको पसंद आए तो सब्सक्राइब जरूर करें धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *