यदि मैं अध्यापक होता निबंध Yadi mai adhyapak hota essay in hindi

Yadi mai adhyapak hota essay in hindi

Yadi main shikshak hota essay in hindi-हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल yadi mai adhyapak hota essay in hindi आप सभी को काफी प्रेरित करेगा.दोस्तों हमारे समाज में तरह तरह के काम करने वाले लोग रहते है.जैसे की डॉक्टर,वकील,कलेक्टर,अध्यापक,बिज़नेसमेन लेकिन इनमे से कोई भी हो उसको वहा तक पहुचाने वाला,उन्हें शिक्षा देने वाला उनका एक अध्यापक जरुर होता हैं.जो उनको जीवन आगे बढ़ने की,सही और गलत समझने की शिक्षा देता हैं.

Yadi mai adhyapak hota essay in hindi
Yadi mai adhyapak hota essay in hindi

अध्यापक हमारे समाज के लोगों को,विद्यार्थियों को शिक्षा देते हैं,अध्यापक के द्वारा ही कोई देश आगे बढ़ सकता है,अध्यापक लोगों को ज्ञानवान बनाते हैं,लोगों को शिक्षा देते हैं,लोगों को सही और गलत की पहचान करने के लायक बनाते हैं.कहने का आशय यह हैं की अध्यापक हमारे समाज के छात्रो को मार्गदर्शन देते हैं जिससे हम जीवन में आगे बढ़ते हैं इसलिए आज हम पढेंगे Yadi mai adhyapak hota essay in hindi.

यदि मैं अध्यापक होता तो मैं बच्चों को ज्ञानवान बनाने के बारे में सोचता.आज के जमाने में बहुत से ऐसे अध्यापक हैं जो सिर्फ पैसा कमाने के बारे में सोचते हैं लेकिन यदि मैं अध्यापक होता तो पैसा कमाने से ज्यादा बच्चों को शिक्षा देने के बारे में सोचता क्योकि हमारे देश के बच्चे ही देश को आगे बढ़ा सकते हैं.अध्यापक होना वाकई में एक गर्व की बात है अध्यापक से ही देश का भविष्य बनता है इसलिए अगर मैं अध्यापक होता तो देश के लोगों के बारे में सोचता,देश में हो रही गतिविधियों के बारे में सोचकर अपने विद्यार्थियों को शिक्षा देता और जीवन में उनको आगे बढ़ने की सलाह देता.

यदि मैं अध्यापक होता तो गरीब विद्यार्थियों को भी पढ़ाता चाहे उससे मेरी आमदनी ना होती,मैं अध्यापक बनकर देश के बच्चों को अच्छी अच्छी शिक्षा देता,उनको ईमानदारी अपनाने की सलाह देता क्योकि अगर student ईमानदार हो तो वह हर क्षेत्र में इमानदारी अपनाकर जीवन में सही मायने में आगे बढ़ पाता हैं साथ में उनको सही रास्ते पर चलने की सलाह देता.

यदि मैं अध्यापक होता तो अपने विद्यार्थियों को उच्च स्तर की शिक्षा देता,उनको किताबी ज्ञान भी देता साथ में व्यवहारिक ज्ञान भी उनको देता क्योंकि वाकई में व्यवहारिक ज्ञान ही एक इंसान के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है.यदि मैं अध्यापक होता तो अपने विद्यार्थियों को अच्छी सलाह देता और जीवन में हमेशा आगे बड़ाने का प्रयत्न करता.शिक्षक का कर्तव्य होता है कि वह अपने छात्रों को सही तरह से समझाएं.

अगर कोई छात्र सही तरह से नहीं समझ पाता तो में उसे सही तरह से समझाने की दोबारा कोशिश करता क्योंकि एक विद्यार्थी कोई चीज तब ही समझ पाता है जब उसको सही तरह से समझाई जाए मारपीट करने से कुछ भी खास प्रभाव नहीं होता.मैं शिक्षक बनकर उनकी पढ़ाई के मामले में मदद करता.

Related-मेरे जीवन का लक्ष्य शिक्षक बनना Mere jeevan ka lakshya teacher essay in hindi

अगर मैं शिक्षक होता तो अपने छात्रों को देशभक्ति की शिक्षा देता क्योंकि देश भक्ति ही सबसे बड़ी शक्ति है,अपने देश के प्रति कर्तव्य के बारे में छात्रों को जानकारी देता और जीवन में उन्हें अपने देश के प्रति हर कर्तव्य निभाने के बारे में कहता,यदि मैं शिक्षक होता तो मैं अपने विद्यार्थियों को कोई भी विषय अच्छी तरह से पढ़ाता ऐसा नहीं समझता कि वह विद्यार्थी मेरे पास ट्यूशन आए तभी मैं उसको अच्छी तरह पढ़ाऊ.आज के जमाने में बहुत से student ऐसे होते हैं जो बिना कोचिंग लगाए भी अच्छी तरह पढ़ाई करते हैं वो अच्छी श्रेणी में पास होते हैं.

में इस बात को समझता और गरीब student को बिना शुल्क लिए ज्यादा भी पढ़ता.मैं पैसे को महत्व ना देकर विद्यार्थी को महत्व देता क्योंकि विद्यार्थी से ही हमारा देश आगे बढ़ता है,हमारे देश में पाई जाने वाली बुराइयां खत्म होती हैं.आज हमारे देश में पुराने जमाने के कुछ अंधविश्वासी पाए जाते हैं जैसे की दहेज प्रथा,जाति प्रथा.आज दहेज प्रथा तेजी से फेल रही है,लोग आधुनिक जमाने में भी दहेज मांगने से नहीं चूकते यदि मैं अध्यापक होता तो अपने विद्यार्थियों को दहेज के खिलाफ आवाज उठाने के लिए प्रेरित करता.

दहेज प्रथा हमारे देश को खोखला करती है और जाति प्रथा पहले के मामले में कम हो चुकी हैं लेकिन कुछ लोग अपनी जाति को उच्च समझते हुए अपने आपको श्रेष्ठ समझते है लेकिन में अपने स्टूडेंट्स को शिक्षा देता की इन्सान श्रेष्ठ सिर्फ अपने कर्मो से बनता है,अपने देश के विद्यार्थियों को एकता अपनाने की सलाह देता.मैं अध्यापक होकर अपने विद्यार्थियों के दिमाग में अच्छे विचार डालता और हर तरह से उनको एक अच्छा इंसान बनाने के बारे में सोचता.

विद्यार्थी ही इस देश के लिए सबसे महत्वपूर्ण होते हैं इसलिए मैं अपने विद्यार्थियों का एक लक्ष्य बनवाता और लक्ष्य को पूरा करने के लिए उनको सही मार्ग पर चलने की सलाह देता,साथ में अच्छी तरह पढ़ाई करने की भी सलाह देता.यदि मैं अध्यापक होता तो अपने विद्यार्थियों को बड़ों का आदर करने की सलाह देता और उनको गुरुओं की हर बात मानने की सलाह देता जिससे विद्यार्थी एक अच्छे इंसान बन सकते.

अगर विद्यार्थियों को मेरे द्वारा समझाई गयी बात समझ नहीं आती तोह में उन्हें प्रैक्टिकल करके समझाता क्योकि जब हम किसी विषय के बारे में प्रैक्टिकल देखते हैं तो हम सही तरह से समझ पाते हैं.में हर एक बच्चे को सही तरह से समझाता चाहे वोह बच्चा गरीब हो या अमीर में इस कारण उनमे कोई अंतर नहीं समझता.में बस अपने छात्रो में सिर्फ ये देखता की वोह पढाई के प्रति कितना लगनशील हैं.में लगनशील और अच्छी तरह पढाई करने वाले छात्र की तरह हर एक छात्र को बन्ने की सलाह देता.

में अपना सभी काम समय पर करता.क्योकि जब में समय पर आता तभी सभी विद्यार्थी समय के पावंद होते.में समय पर school आता और विद्यार्थियों का होमवर्क चेक करता.अगर होमवर्क में मुझे कुछ मिस्टेक दिखती तोह में विद्यार्थियों को उचित निर्देश देता.

इस तरह से यदि मैं अध्यापक होता तो अपने विद्यार्थियों को हर तरह से ज्ञानवान बनाता और अपने देश के विकास में सहायक सिद्ध होता.

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल Yadi mai adhyapak hota essay in hindi पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंट्स के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल yadi main shikshak hota essay in hindi कैसा लगा.अगर आप चाहे हमारी अगली पोस्ट को सीधे अपने ईमेल पर पाना तो हमें सब्सक्राइब जरूर करें.

3 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *