विश्व क्षयरोग दिवस पर निबंध World tuberculosis day in hindi

World tuberculosis day in hindi

World tuberculosis day – दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से विश्व क्षयरोग दिवस पर लिखे निबंध के बारे में बताने जा रहे हैं । तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस आर्टिकल को पढ़कर विश्व क्षयरोग दिवस के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हैं ।

World tuberculosis day in hindi
World tuberculosis day in hindi

विश्व क्षयरोग दिवस के बारे में – विश्व क्षयरोग दिवस 24 मार्च को पूरी दुनिया में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है ।क्षय रोग जिसे फेफड़ों का रोग भी कहा जाता है । क्षयरोग बहुत ही खतरनाक रोग है । क्षयरोग के बारे में ऐसा कहा जाता है कि यदि इस क्षय रोग को प्रारंभिक अवस्था में  रोका नहीं गया तो क्षय रोग के कारण व्यक्ति की मृत्यु हो सकती है । इस  क्षयरोग या टीवी रोग को कई नामों से जाना जाता है जैसे कि क्षयरोग , तपेदिक , यक्ष्मा आदि ।क्षयरोग के बारे में ऐसा कहा जाता है कि पूरी दुनिया में क्षयरोग के कारण दुनिया मे सबसे ज्यादा लोग इस बीमारी से ग्रसित हैं और उन सभी बीमार लोगों में से प्रतिवर्ष 25 से 3000000 लोगों की मौत होती है ।

भारत देश में भी क्षयरोग रोग के काफी मरीज हैं । भारत में क्षयरोग के कारण 3 मिनट में 2 मरीज की मृत्यु हो रही है । टीवी रोग से ग्रसित व्यक्ति काफी बीमार रहता है । यह रोग बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है जिस  रोग को फेफड़ों का रोग माना जाता है क्योंकि यह संक्रमण सबसे पहले फेफड़ों पर आक्रमण करता है और फेफड़ों के बाद रक्त में घुलनशील होकर शरीर के अन्य भागों जैसे हड्डियों , हड्डियों के जोड़ , लम्फ ग्रंथियां ,  मूत्र व प्रजनन तंत्र  अंग , त्वचा और मस्तिष्क के ऊपर बनी हुई झिल्ली को भी प्रभावित करती है ।

यह बहुत ही घातक बीमारी है । इस बीमारी का इलाज यदि सही समय पर नहीं किया गया तो इस बीमारी के कारण व्यक्ति की मौत भी हो सकती है । यह बीमारी एक घातक बीमारी है । टीवी के बैक्टीरिया सांस द्वारा शरीर के अंदर प्रवेश कर जाते हैं । टीवी का यह रोग इंसानों के साथ-साथ गाय में भी पाया जाता है । गाय को जब टीवी का रोग होता है तब गाय के दूध के साथ में टीबी के जीवाणु भी दूध में घुलनशील होते हैं । जब कोई व्यक्ति बिना उबाले गाय के दूध को पीता है तब उस दूध के साथ में टीवी के बैक्टीरिया शरीर में चले जाते हैं और वह व्यक्ति टीवी की बीमारी से ग्रसित हो जाता है ।

लोगों को टीवी की बीमारी के बारे में जागरूक करने के लिए और टीवी की बीमारी से बचने के लिए पूरे विश्व में क्षयरोग दिवस मनाया जाता है । क्षयरोग दिवस के उपलक्ष में सभी लोग एकत्रित होते हैं और क्षयरोग के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं । क्षयरोग फैलने का सबसे बड़ा कारण पोस्टिक आहार का ना मिलना है । जब शरीर मे पोस्टिक आहार की कमी होती हैं तब  क्षय रोग फैलता है । क्षयरोग की सबसे खास बात यह है कि यह अधिकतर व्यक्तियों में क्षयरोग के लक्षण दिखाई नहीं देते हैं जिस व्यक्ति के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता अधिक होती है उसके अंदर क्षय रोग के लक्षण आसानी से नहीं दिखाई देते हैं ।

जिस व्यक्ति के अंदर  रोग प्रतिरोधक  शक्ति कमजोर होती है उस व्यक्ति के अंदर क्षयरोग के लक्षण आसानी से दिखाई देने लगते हैं । जिस व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है उस व्यक्ति के फेफड़ों  अथवा लिम्फ ग्रंथियों के अंदर क्षय रोग के जीवाणु पाए जाते हैं । जिस व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती ह उस व्यक्ति के अंदर क्षयरोग के जीवाणु फाइब्रोसिस एवं कैल्शियम का आवरण चढ़ाकर अंदर बंद रहते है । जब शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता  कमजोर  हो जाती है तब उस व्यक्ति में भी क्षयरोग के लक्षण दिखाई देने GBलगते हैं ।

क्षयरोग के लक्षण इस तरह के होते हैं जिस व्यक्ति को क्षय रोग होता है उस व्यक्ति को भूख  नहीं लगती है , क्षयरोग से ग्रसित व्यक्ति को बेचैनी बहुत अधिक होती है , क्षयरोग से ग्रसित व्यक्ति को हल्का सा बुखार भी  आता रहता हैं । क्षय रोग से संबंधित जानकारी देने के उद्देश्य से विश्व क्षय रोग दिवस मनाने का निर्णय लिया गया था । जब किसी व्यक्ति को छह रोग हो जाता है तब उस व्यक्ति को एक चिकित्सक के पास जाकर सीने का एक्सरा कराना चाहिए । इसके साथ साथ क्षय रोग की बीमारी को खत्म करने के लिए उपचार सही समय पर कराते रहना चाहिए ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह बेहतरीन लेख विश्व क्षय रोग दिवस पर निबंध World tuberculosis day in hindi यदि आपको पसंद आए तो आप सब्सक्राइब अवश्य करें ।  दोस्तों यदि आपको इस आर्टिकल में कुछ गलती नजर आती है तो आप हमें उस गलती के बारे में हमारी ईमेल आईडी पर अवश्य बताएं जिससे कि हम उस गलती को सुधार सकें धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *