विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर निबंध world no tobacco day essay in hindi

world no tobacco day essay in hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर निबंध आप सभी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। हमारे आज के इस निबंध का उपयोग बच्चे अपने स्कूल, कॉलेज की परीक्षा में निबंध लिखने के लिए यहा से जानकारी ले सकते हैं तो चलिए पढ़ते हैं हमारे आज के इस निबंध को।

world no tobacco day essay in hindi
world no tobacco day essay in hindi

आजकल हम देखें तो तम्बाकू आजकल के युवाओं की एक तरह से जरूरत बन चुका है आज के युवा तम्बाकू से होने वाले खतरों के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं लेकिन फिर भी वह तंबाकू का सेवन करते हैं. आजकल के नौजवान कुछ तम्बाकू जैसे बीड़ी, सिगरेट, जर्दा, गुटखा आदि का उपयोग कुछ ज्यादा करते हैं यानी कि किसी किसी को इसकी लत लग चुकी है वो लोग तंबाकू का नशा छुप-छुपकर करते है इस तंबाकू के सेवन की वजह से आजकल के युवा अपने जीवन को अंधकार में पहुंचाते हैं वह अपने जीवन को खतरे में डाल लेते हैं इस तम्बाकू के वजह से एक नहीं कई सारी बीमारियों के शिकार हो जाते हैं .

कैंसर जो सबसे खतरनाक बीमारी है वह जिन लोगों को हो जाता है उनका पूरा जीवन बर्बाद हो जाता है इसी वजह से हर साल 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस यानी वर्ल्ड नो टोबैको डे मनाया जाता है। इस तंबाकू दिवस की शुरुआत विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा की गई थी सबसे पहले यह दिवस सन 1987 में मनाया गया था तभी से यह हर साल मनाया जाता है।

आज हम देखें तो इस तम्बाकू के वजह से लाखों लोग हर साल मर जाते हैं और इस धीमे धीमे जहर से अपने जीवन को बर्बाद कर डालते हैं.तम्बाकू दिवस W.H.O द्वारा उठाया गया एक कदम हम सभी के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि तम्बाकू इस देश और पूरी दुनिया के लिए सबसे खतरनाक है यह धीमा धीमा जहर लोगों को कई सारी परेशानियों में डाल रहा है इससे एक नहीं कई सारी बीमारियां हो जाती हैं।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस कैसे मनाया जाता है

यह दिवस तम्बाकू के विरोध में मनाया जाता है इस दिवस के अवसर पर कई तरह के विज्ञापन आते हैं, कई तरह के संगठन मिलकर बहुत से बैनर लगाते हैं, रेलिया निकालते हैं और इस दिवस के अवसर पर तम्बाकू के ऊपर कई तरह के भाषण भी दिए जाते हैं, कई कविताएं कही जाती जाती हैं जिससे लोग इसके प्रति जागरुक हो और तंबाकू का सेवन ना करें.

तंबाकू निषेध दिवस का प्रमुख उद्देश्य यही है कि लोग स्वस्थ रहें और अपने कीमती जीवन को बचाए। कहते हैं कि हर साल 1000000 से भी ज्यादा लोग तंबाकू छोड़ देते हैं क्योंकि वह इस दुनिया में ही नहीं रहते. हम सभी को विश्व स्वास्थ्य संगठन के इस कदम की सराहना करनी चाहिए और अपने आस पड़ोस में, शहर में तम्बाकू का विरोध करना चाहिए। वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन द्वारा यह दिवस हर साल एक नए थीम के साथ आता है जिसका उद्देश्य यही होता है कि लोग तंबाकू का इस्तेमाल ना करें।

तंबाकू की लत कैसे हो जाती है

जैसे कि हमने जाना कि तम्बाकू हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है शुरुआत में कोई भी व्यक्ति तम्बाकू कम मात्रा में उपयोग करता है वह कभी कबार ही इसका उपयोग करता है लेकिन धीरे-धीरे वह इस तम्बाकू यानी बीड़ी, सिगरेट, जर्दा आदि का उपयोग अधिक मात्रा में करने लगता है. कोई व्यक्ति सामने इन चीजों का उपयोग करता है और कोई अपने मां-बाप से छुपकर अपने दोस्तों के साथ इनका उपयोग करता है जिससे उसकी एक इमेज भी बनी रहे और तंबाकू का सेवन भी होता रहे लेकिन वह यह सिर्फ शौक के लिए करता है समय के साथ यह सब उसकी लत में परिवर्तित हो जाता है.

जब उसको इस तम्बाकू के खतरे के बारे में पूरी जानकारी पता चल पाती है वह समझ जाता है कि अब मेरा जीवन बर्बाद हो जाएगा अगर मैंने इस तम्बाकू को नहीं छोड़ा तो. लेकिन तब तक तंबाकू की लत की वजह से वो इतना घिर जाता है कि वह चाहते हुए भी तम्बाकू को नहीं छोड़ पाता. अगर किसी वजह से वह छोड़ने की कोशिश करता है तो उसको और भी कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं लेकिन वास्तव में सही तरह से अगर इसको छोड़ने की कोशिश की जाए यानी परेशानी होने पर कुछ आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट लिया जाए तो इस लत को दूर किया जा सकता है। तंबाकू की लत तंबाकू सेवन करने वाले व्यक्ति का धीरे-धीरे जीवन बर्बाद कर डालती है।

तंबाकू उत्पादकों के सेवन से नुकसान

दरअसल तंबाकू उत्पादकों यानी बीड़ी, सिगरेट, जर्दा आदि के उपयोग से कई तरह की समस्याएं या कई नुकसान हमें हो सकते हैं इस तम्बाकू के इस्तेमाल से श्वास नली का कैंसर हो जाता है जिससे सांस लेने में परेशानी का सामना करना पड़ता है और कई लोगों की इस वजह से मौत भी हो जाती है जिस व्यक्ति को मुंह का कैंसर होता है उससे खाना भी निगला नहीं जाता उसको भी कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है.उसकी  जिंदगी में सिर्फ दुख के सिवा कुछ नहीं होता.

अगर किसी को गले का कैंसर हो जाता है वो उसके लिए बहुत ही खतरनाक होता है कोई भी चीज अंदर निगलने में उसे परेशानी आती है इसके अलावा और भी समस्याएं जैसे कि उच्च रक्तचाप आदि हो जाता है. कहने का मतलब यह है कि यह तम्बाकू हम सभी के लिए एक जहर से कम नहीं है हमें इस तम्बाकू का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए, इससे जितना हो सके दूर रहना चाहिए और अगर हमारे आसपास ऐसे लोग हैं जो तंबाकू का सेवन करते हैं तो उनको भी इस आदत से दूर रखने में उनकी हमें मदद करना चाहिए, हमें हर किसी को तंबाकू से होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी देना चाहिए।

तंबाकू की आदत से छुटकारा पाना

अगर तंबाकू की आदत आपको लग चुकी है तो आपको चाहिए कि इसको आप धीरे-धीरे खत्म करें यानी जिस तरह से आदत धीरे-धीरे लगती है और आप पर हावी होती जाती है उसी तरह से आपको तंबाकू लेने की आदत धीमे धीमे कम करनी हैं यानी आप जितना तम्बाकू 10 दिन में लेते हैं उतना आप 2 महीने में लीजिए यानी एकदम से बंद ना करते हुए आप तम्बाकू की मात्रा निरंतर कम करते रहिए इस तरह से आप तंबाकू की आदत भूल पाएंगे क्योंकि अगर आप एक दम से तम्बाकू को छोडेंगे तो यह आपके लिए लगभग नामुमकिन ही होगा.

आपको तम्बाकू छोड़ने की दिल से कसम खानी होगी आपको यह सब अपने दोस्तों, मित्रों इन सब लोगों में कहनीं होगी जो आपकी बहुत इज्जत करते हैं और जब तक तंबाकू की आदत आप छोड़ ना दें तब तक आप अकेले में ना रहें क्योंकि अगर आप अकेले में रहेंगे तो आपको तम्बाकू खाने के बारे में याद आएगा और अगर आप सबके साथ में रहेंगे तो आप चाहते हुए भी तंबाकू सेवन नहीं कर पाएंगे.

अगर आपको तम्बाकू की कुछ ज्यादा ही लत लग चुकी है और अगर आप किसी दिन तंबाकू नहीं खाते हो तो बहुत ही बुरा लगता है, आपको नींद नहीं आती, भूख भी नहीं लगती एवं कई तरह की समस्याएं जैसे की बेचैनी, सर दर्द आदि भी आपके साथ होता है तो आपको चाहिए कि आप आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट करवाएं क्योंकि आयुर्वेद से आपको नुकसान भी नहीं होगा और आपका अच्छी तरह से इलाज हो जाएगा इस तरह से आप तंबाकू की लत से धीरे-धीरे छुटकारा पा सकते हैं।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल world no tobacco day essay in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने के प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *