विद्यार्थी का कर्तव्य पर निबंध vidyarthi ka kartavya essay in hindi

vidyarthi ka kartavya essay in hindi

विद्यार्थी जीवन में पढ़ाई के साथ साथ समाज में जीने के तरीके भी सीखता है और विद्यार्थी जीवन में शिक्षा प्राप्त करके अपने भविष्य को बनाने की नीतियां सीखता है । विद्यार्थी जीवन कोई साधारण जीवन नहीं होता है क्योंकि विद्यार्थी जीवन में ही वह अपने भविष्य की कल्पना करता है. विद्यार्थी जीवन में वह जो भी सीखता है वही अपने जीवन में उपयोग करता है और सभी बच्चों का और विद्यार्थियों का कर्तव्य होता है कि वह अपने माता पिता का नाम रोशन करें और अपने देश का नाम रोशन करें ।

जब कोई विद्यार्थी जिला टॉप करता है तो जिस स्कूल में वह पढता है उस स्कूल का नाम रोशन करता है और उस बच्चे के माता पिता का नाम भी रोशन होता है । विद्यार्थी ही देश का नाम रोशन करता है विद्यार्थी को हमेशा अपने माता पिता गुरु की बात को मानना चाहिए और उनसे हमेशा सीख लेती रहनी चाहिए कि जीवन में किस तरह से आगे बड़ा जा सकता है और हम किस तरह से अपने जीवन को बेहतर से बेहतर बना सकते हैं. एक विद्यार्थी को अपने साथ साथ अपने मित्रों को भी एक अच्छा विद्यार्थी बनाने में योगदान देना चाहिए।

vidyarthi ka kartavya essay in hindi
vidyarthi ka kartavya essay in hindi

विद्यार्थी को अपने जीवन में संस्कार और अनेक तरह की कलाएं सीखना चाहिए जिससे वह अपना जीवन उज्जवल बना सके क्योंकि जब हम परीक्षा देते हैं तो हम पूरी मेहनत करके उस परीक्षा में सफल हो जाते है लेकिन जीवन की परीक्षा में ] अगर हमें सफल होना है तो हमें अपने गुरुओं से और अपने माता पिता से जीवन जीने के तरीके सीखते रहना चाहिए क्योंकि हमारे जीवन की परीक्षा निश्चित नहीं होती है उस परीक्षा को देने के लिए कोई समय भी निश्चित नहीं होता है. अगर हमें उस परीक्षा में उत्तीर्ण होना है तो हमें विद्यार्थी जीवन में संस्कार और कला सीखनी पडती हैं जिससे हम हमारा जीवन सुंदर बना सकें ।

किसी विद्यार्थी का विकास तभी संभव है जब वह विद्यार्थी अच्छी शिक्षा प्राप्त करके आगे बढ़ेगा । अच्छे विद्यार्थी का स्वभाव कोमल रहता है ना तो वह किसी से झगड़ा करता है और ना ही वह अपने आप पर कभी भी घमंड करता है । अच्छा विद्यार्थी कभी भी पढ़ाई करने में आलस नहीं करता हैं और वह पढ़ाई के साथ-साथ अपने माता पिता और गुरु का आदर भी करता हैं. वह सदैव अपना लक्ष्य पाने में लगा रहता हैं । जब वह अपने लक्ष्य को पाने के लिए मेहनत करता है तो पूरी लगन के साथ उस लक्ष्य को पाकर अपने माता पिता और अपने गुरु का नाम रोशन करता है ।

पढ़ाई करके सिर्फ धन कमाने से कुछ नहीं होता है जब तक वह अपने जीवन में अच्छे संस्कार और अच्छे विचार मन में नहीं लाएगा तब तक हम आगे नही बढ़ सकते. जो सिर्फ धन के लिए काम करता है वह सिर्फ अपने लिए ही काम करता है वह दूसरों की भलाई के लिए काम कभी नहीं कर सकता । विद्यार्थी जीवन में धन की लालसा नहीं होनी चाहिए बल्कि ज्ञान प्राप्त करने की लालसा होना चाहिए क्योंकि विद्यार्थी जीवन में हम जितना ज्ञान अर्जित करते हैं उसी ज्ञान के माध्यम से हम हमारे लक्ष्य को पाने में उस ज्ञान का उपयोग करते हैं उसी ज्ञान के माध्यम से हम अपने लक्ष्य के शिखर पर पहुंचते हैं ।

अगर हम विद्यार्थी जीवन में अच्छी तरह से ज्ञान प्राप्त नहीं करेंगे तो हमको हमारा लक्ष्य प्राप्त नहीं होगा और उस लक्ष्य को हम खो देंगे । हर विद्यार्थी को अपने विद्यालय को स्वच्छ रखना चाहिए और लोगों को भी स्वच्छता के प्रति जागरूक करना चाहिए । जब विद्यार्थी राष्ट्र के प्रति जागरूक होगा तो वह राष्ट्रहित में कार्य करने लगेगा जिससे हमारा देश उन्नति की ओर बढ़ेगा क्योंकि हमारे देश को आगे बढ़ाने के लिए ज्यादा से ज्यादा शिक्षा का प्रचार प्रसार होना आवश्यक है जिससे कि हमारे देश के लोग शिक्षित हो और सभी उन्नति कर सकें ।

ये लेख vidyarthi ka kartavya essay in hindi शेयर जरुर करे.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *