वन रहेंगे हम रहेंगे पर निबंध Van rahenge hum rahenge essay in hindi

Van rahenge hum rahenge essay in hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल वन रहेंगे तो हम रहेंगे पर हमारे द्वारा लिखित आर्टिकल आप सभी के लिए काफी प्रेरणादायक है, इस आर्टिकल को पढ़कर हम समझ पाएंगे कि वन हमारे जीवन में कितने आवश्यक हैं तो चलिए पढ़ते हैं आज के इस आर्टिकल को

Van rahenge hum rahenge essay in hindi
Van rahenge hum rahenge essay in hindi

बन हम सभी के लिए अति आवश्यक हैं, वन हमें प्राणदायिनी ऑक्सीजन प्रदान करते हैं, वनों में कई तरह के पेड़ पौधे होते हैं जिनसे प्राप्त फल फूल आदि हमारे लिए काफी उपयोगी होती हैं एवं बनो में उपस्थित जड़ी बूटियां हम सभी की कई बीमारियों को दूर करने में सहायक सिद्ध होती हैं। बनो में कई तरह के जीव जंतु रहते हैं, जीव जंतुओ के लिए बन उनका घर होते हैं। हमें वनों की कटाई नहीं करना चाहिए क्योंकि वास्तव में बन रहेंगे तो हम रहेंगे। वनों के पेड़ पौधे हमें कई जरूरी चीजें उपलब्ध कराते हैं।

वन हमारे पर्यावरण को स्वच्छ रखते हैं एवं भूमि के कटाब को भी रोकते हैं। आज हम देख रहे हैं कि हमारे देश में कई तरह की बीमारियों का सामना हमें करना पड़ता है, वनों से प्राप्त कई औषधियों की वजह से हम सभी अपने जीवन को बचा सकते हैं और निरोगी जीवन जी सकते है। वनों की जड़ी बूटियों का उपयोग कई पुराने रोगों को दूर करने में भी किया जा रहा है। लक्ष्मण जी के जब शक्ति लगी थी तब श्री हनुमान जी महाराज ने वनों से बूटी लाकर उनके प्राणों को बचाया था वास्तव में वन हम सभी के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है।

वन बर्षा को भी आकर्षित करते हैं। आज हम देख रहे हैं कि लोग वनों की कटाई कर रहे हैं जिस वजह से मौसम चक्र बिगड़ रहा है बरसात के मौसम में ठीक तरह से बरसात नहीं होती जिससे किसानों को एवं हर किसी को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। हम सभी प्रकृति को दोष लगाते हैं लेकिन हम अपने आपको बदलने का प्रयत्न नहीं करते। यदि हम वास्तव में अपने आपको जागरूक करें और वनों के महत्व को समझकर यह समझे कि बन रहेंगे तो हम रहेंगे तो वास्तव में हमारा जीवन बहुत ही अच्छी तरह से गुजरेगा।

लोग अपने थोड़े बहुत फायदों के लिए वनों की अंधाधुंध कटाई करते हैं उन सभी को जागरूक होने की जरूरत है जिससे वह वनों की कटाई ना करें, उनकी सुरक्षा करें। बनो एवं पेड़ पौधों की सुरक्षा के लिए कई तरह के प्रयत्न भी किए गए, कुछ आंदोलन भी किए गए जिनमें से एक आंदोलन था चिपको आंदोलन। इस आंदोलन में वहां के रहने वाले लोगों ने पेड़ पौधों से चिपककर उनकी रक्षा की थी वास्तव में इसी तरह अगर हर एक इंसान पेड़ पौधों की, वनों की रक्षा करें तो हमारा देश कई तरह की समस्याओं से बच सकता है।

गर्मियों के मौसम में लोग बूंद-बूंद के लिए तरस जाते हैं, शहरों में पानी भरने के लिए लंबी-लंबी लाइनें लगती हैं यह सब क्यों हो रहा है क्योंकि हमने अपनी प्रकृति के साथ खिलवाड़ किया है, प्रकृति के वनों की कटाई की है। शहरीकरण में हम इतने अंधाधुंध से हो गए हैं कि हम नहीं सोचते कि वन ही हमारी प्रकृति हैं, वन नहीं तो हम नहीं। बन हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं वह हमें मुफ्त में ही प्राण दायिनी ऑक्सीजन देते हैं, वर्षा को आकर्षित करते हैं, भूमि की कटाई को रोकते हैं एवं हमें कई तरह की औषधियां, फल फूल आदि उपलब्ध करवाते हैं इसलिए हमें समझना चाहिए कि वन रहेंगे तो हम रहेंगे, वनों के बगैर हमारा कोई भी अस्तित्व नहीं है।

दोस्तों हमें बताएं कि वन रहेंगे तो हम रहेंगे पर हमारे द्वारा लिखित यह आर्टिकल Van rahenge hum rahenge essay in hindi आपको कैसा लगा, यह आर्टिकल यदि आपको पसंद आए तो सब्सक्राइब जरूर करें और अपने दोस्तों में इसे शेयर करना ना भूलें धन्यवाद।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *