तुलछा राम जी का जीवन परिचय tulcha ram biography in hindi

तुलछा राम जी का जीवन परिचय

दोस्तों आज मैं अपने आर्टिकल के जरिए आपको जिस महान शख्स के बारे में बताने जा रहा हूं वह एक ऐसे महान संत हैं जिन्होंने हमें कई तरह का ज्ञान दिया है, जो ब्रह्मचारी हैं जिन्होंने कई प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं का सम्मान भी किया है। वास्तव में वह एक ऐसे शख्स हैं जिनकी जितनी प्रशंसा की जाए उतनी कम है तो चलिए पढ़ते हैं महान संत तुलछाराम जी के जीवन के बारे में

महान संत तुलछाराम जी का जन्म 3 सितंबर 1952 में राजस्थान के जिला बाड़मेर मैं आने वाले एक गांव इंद्राणा मैं हुआ था। इनके पिता जी का नाम श्री प्रताप सिंह राजपुरोहित एवं इनकी माता जी का नाम लहरी देवी था। वो जब बड़े हुए तो बाल ब्रह्मचारी बने और अपने जीवन में कई परिश्रम किया। सबसे पहले इन्होंने अपने गुरु से गुरु दीक्षा ली इनके गुरु श्री संत खेतेश्वर महाराज जी हैं। इन्होंने कई समय तक अपने गुरु की सेवा भी की।

महान संत तुलछारामजी कि कई जगह शोभायात्रा भी निकाली जाती है इनके द्वारा कई कार्य किए गए जो काफी प्रशंसनीय हैं।

इनके कार्य एवं उपलब्धि- तुलछाराम जी ने संत श्री खेताराम जी महाराज जी की विशाल समाधि का निर्माण करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसके अलावा कई तरह के जो छात्र होते हैं जो प्रतिभाशाली होते हैं जो देश के लिए कुछ करना चाहते हैं ऐसे प्रतिभाशाली छात्र एवं छात्राओं को भी इस सम्मान देते हैं। हम सभी को कई ऐसी ज्ञान की बातें भी बताते हैं जिससे मानव का कल्याण हो सके।

दोस्तों मेरे द्वारा लिखित यह तुलछाराम जी की जीवनी आपको कैसी लगी हमें जरूर बताएं इसी तरह के और बेहतरीन आर्टिकल को पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करना ना भूलें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *