गुरु का उपहार “story on paropkar in hindi language”

काफी समय पहले एक गुरुकुल में एक ऋषि अपने शिष्यों को शिक्षा देते थे जब उन सभी शिष्यों की शिक्षा पूरी हुई तो एक दिन ऋषि ने उन सभी शिष्यों को विदा करने का विचार किया तभी गुरु ने अपने सभी शिष्यों को बुलवाकर उनसे कहने लगे की तुम सभी आज से तुम हमेशा के लिए दूर चले जाओगे

story on paropkar in hindi language

लेकिन आज आखिरी दिन मैं आपकी कुछ परीक्षा लेना चाहता हूं मैं देखना चाहता हूं की मेरी शिक्षा किस-किस ने ग्रहण की है,तभी सभी शिष्य बड़े ही उत्साहित हुए तब गुरु ने आगे कहा आज मैं तुम सभी को 1 रेस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए कहता हूं.

इस रेस में तुम कई मार्गो से होते हुए गुजरोगे,इस बीच में तुम्हें नदी,गुफाएं,अंधेरी गुफाएं मिलेंगी अब देखना है कि इन रास्तों से गुजरते हुए रेस में कौन जीतता है,ये सुनकर सभी सदस्य रेस में जीतने के लिए लाइन में लगे हुए थे तभी गुरु के आदेश को सुनकर दौड़ने लगे,सभी शिष्य नदी के पास से गुजरते हुए गए और वहां से निकलते हुए अंधेरी गुफा के पास में आए लेकिन सभी अभी तक लगभग बराबरी पर आ रहे थे लेकिन अंधेरी गुफाओं को देखकर वह एकदम चुप हो गये और फिर आगे चलकर उन्होंने देखा की अंधेरी गुफाओं में बहुत सारे तरह-तरह के पत्थर हैं.

कुछ शिष्यों ने पत्थरो को उठाकर अपनी जेब में भर लिया,कुछ ने पत्थरों को साइड में रखकर अपने मार्ग की ओर आगे बढ़ने लगे और उसी मार्ग पर दौड़ लगाने लगे तब दौड़ लगाते हुए सभी अपने गुरु के पास आए और गुरु ने जीतने वाले सदस्यों से कहा कि तुम यह रेस कैसे जीते कुछ बताओ अपनी रेस के बारे में तो उनमें से जो जीत चुके थे वह कहने लगे गुरुदेव हम मार्ग में पड़े हुए पत्थरो को उठाकर जेब में रख रहे थे ताकि हमारे दोस्त पीछे आ रहे है उनके पैरों में चोट न लग जाए तब गुरु ने कहा कि यह तुम्हारी जेब में है वह कोई मामूली नुकीला पत्थर नहीं बल्कि हीरा है मैं तुम्हें इस रेस प्रतियोगिता में जीतने के लिए इस हीरा को इनाम में देता हूं.

दोस्तों इसी तरह अगर हम को भी अपने जीवन में आगे बढ़ना है तो हमको दूसरों के बारे में सोचना होगा क्योंकि जब हम दूसरों के बारे में सोचते हैं तो कहीं ना कहीं उससे हमको फायदा होता है और हम जीवन में आगे बढ़ते हैं.

अगर आपको हमारी पोस्ट story on paropkar in hindi language पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा facebook पेज लाइक करना ना भूले और हमें कमेंट्स के जरिये बताइए की आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *