श्रीमद भागवत के बारे में इन हिंदी shrimad bhagwat puran in hindi

shrimad bhagwat puran in hindi

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से श्रीमद् भागवत इन हिंदी के बारे में बताने जा रहे हैं . चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस आर्टिकल को पढ़कर ज्ञान अर्जित करते हैं . श्रीमद् भागवत पुराण हिंदुओं के 18 पुराणों में से एक है . श्रीमद्भागवत पुराण को भागवतम भी कहते हैं . भगवान श्री कृष्ण को श्रीमद् भागवत में देवों के देव के रूप में प्रस्तुत किया है . श्रीमद् भागवत गीता में  श्री कृष्ण की लीलाओं का वर्णन किया गया है .

shrimad bhagwat puran in hindi
shrimad bhagwat puran in hindi

image source –http://www.indiaclub.com/Srimad-Bhagwat

श्रीमद्भागवत पुराण में  विष्णु भगवान के सभी अवतारों का वर्णन किया गया है . इस पुराण  को लिखने का श्रेय वेदव्यास जी को जाता है . यह पुराण संस्कृत भाषा में लिखा गया है . इस पुराण को लिखने में वेदव्यास जी को बहुत आनंद आया होगा क्योंकि जब हम श्रीमद्भागवत पुराण को सुनते हैं तो हमें आनंद आता है उसी तरह वेदव्यास जी को लिखते समय भी बड़ा आनंद आया होगा . श्रीमद्भागवत पुराण कृष्ण भक्ति के विषय में लिखा गया है . उसमें कृष्ण भक्ति की बाल लीलाओं से लेकर रासलीला की कथा लिखी गई है .

श्रीमद्भागवत पुराण को 335 अध्यायों में लिखा गया है . इसमें 18000 श्लोक एवं 12 स्कंध हैं जीनको पढ़कर मनुष्य मोक्ष प्राप्त करता है .  श्रीमद्भागवत पुराण में रस भाव् की भक्ति का निरूपण किया गया है . श्रीमद् भागवत कथा को सुनने के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है . भगवान और भक्त के मिलने का रास्ता साफ होता है . मोह माया के जाल में जो व्यक्ति फंसा हुआ होता है वह  श्रीमद् भागवत कथा को पढ़ने एवं सुनने के बाद उस मोह माया से बाहर आकर अच्छे इंसान की दुनिया में प्रवेश करता है .

भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं को देखकर हम सभी को ज्ञान प्राप्त होता है और किस तरह से अपने जीवन को जीना है  श्रीमद्भागवत पुराण को पढ़ने के बाद मालूम पड़ता है . कहते हैं जब भगवान श्री कृष्ण रास लीला करते थे तब भगवान शिव ने  श्री कृष्ण जी की रासलीला देखने के लिए गोपी का रूप धारण किया था . जब श्री कृष्ण की रासलीला को देखने के लिए भगवान शिव ने गोपी का रूप धारण कर लिया तब हमें यह सोचना चाहिए कि श्रीमद्भागवत पुराण पढ़ने से जो  संस्कार एवं फल प्राप्त होगा  उससे  शक्ति प्राप्त होगी तब हमारा उद्धार हो जाएगा और  हम सभी मोह माया  के जाल से छूट जाएंगे . कलयुग में श्रीमद्भागवत पुराण साक्षात श्रीहरि का रूप है .

जिस श्रीमद्भागवत पुराण को पढ़ने के बाद हमें मोक्ष प्राप्त होता है . जो व्यक्ति सच्चे मन से , सच्चे ह्रदय से श्रीमद्भागवत गीता का पाठ करता है उस व्यक्ति को करोड़ों पुण्य का फल प्राप्त होता है और वह अपने  जीवन के  मोह माया से मुक्त हो जाता है . श्रीमद्भागवत पुराण को सुनने के बाद भगवान श्री कृष्ण के  दर्शन होते हैं . श्रीमद्भागवत पुराण के 12 स्कंद में भगवान की लीला , रासलीला एवं धर्म , संस्कृति का वर्णन किया गया है .

कलयुग में श्रीमद्भागवत पुराण को सुनने मात्र से मन की शांति प्राप्त होती है . जो व्यक्ति श्रीमद्भागवत पुराण को सुनकर उनके विचारों को अपने जीवन में उतारता है , अपने  जीवन में उपयोग लाता है वह कभी भी असफल नहीं होता है क्योंकि कलयुग में यदि एक सच्चा इंसान बनकर रहना है तो श्रीमद् भागवत कथा के श्लोकों का अर्थ समझकर अपने जीवन में उतारना चाहिए . जब हम श्लोकों का अर्थ समझते हैं तब हमें अपने जीवन की कीमत मालूम पड़ती है और हम अपने जीवन को सही दिशा में ले जाते हैं .

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह बेहतरीन लेख श्रीमद् भागवत कथा इन हिंदी shrimad bhagwat puran in hindi आपको अच्छी लगे तो अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों में शेयर अवश्य करें धन्यवाद .

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *