सामाजिक असमानता पर निबंध Samajik asamanta essay in hindi

Samajik asamanta essay in hindi

हमारा भारत देश एक विशालकाय देश है इसमें अनेक जाति, धर्म के लोग रहते हैं अलग-अलग जाति, धर्म के लोगों की मान्यताएं, सोच अलग-अलग होती हैं इसी वजह से देश में कुछ असमानताएं हैं इसके अलावा समाज में गरीबी से भी लोग पीड़ित हैं अमीर,गरीब में भी असमानताएं हैं। गरीब लोग और गरीब होते जा रहे हैं और अमीर अमीर होते जा रहे हैं उनका रहन-सहन सभी अलग भी होता है इस तरह की समस्याएं असमानताएं हमारे देश में हैं।

Samajik asamanta essay in hindi
Samajik asamanta essay in hindi

शिक्षा के क्षेत्र में भी कई असमानताएं हैं कहीं-कहीं पर शिक्षा के बहुत बड़े-बड़े अच्छे संस्थान होते हैं तो कहीं पर शिक्षा की उचित व्यवस्था नहीं होती। आजकल हम देखें तो शिक्षा पर सरकार जोर दे रही है लेकिन शिक्षा के क्षेत्र में भी कई असमानताएं हैं गरीब लोग जो अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल में नहीं पढ़ा पाते जबकि अमीर लोग बड़े-बड़े प्राइवेट स्कूलों में बच्चों को पढ़ाते हैं यह सब असमानताएं हैं। अलग अलग धर्मों के लोगों कि मान्यता अनुसार कोई अपने भगवान को अल्लाह कहता है तो कोई ईश्वर कहता है तो कोई कुछ और कहता है .

यह सब लोगों की सोच है जिसकी वजह से समाज में कई असमानताएं देखने को मिलती हैं कई बार इस धार्मिक असमानता की वजह से लड़ाई दंगे भी होते रहते हैं। हमारे देश में अनेक जाति के लोग भी रहते हैं निम्न वर्ग के लोग जिनको काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है उच्च वर्ग के कुछ लोग निम्न वर्ग के लोगों का शोषण करते हैं वह उनके अधिकार छीन लेते हैं। गरीबी, अमीरी एवं जाति, धर्म का यह भेदभाव शुरू से ही हमें देखने को मिलता है .

समाज में इसी वजह से कई असमानताएं हैं जिनको खत्म करना बेहद जरूरी है। समाज में लैंगिक समानता भी देखने को मिलती हैं लड़का लड़की में फर्क समझा जाता है लोग अपने लड़के के जन्म पर बहुत ही खुश होते हैं वही कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो लड़की के पैदा होने से पहले ही कन्या भ्रूण हत्या जैसे अपराध करते हैं क्योंकि वह लोग कन्या को बोझ समझते हैं यह लैंगिक समानता भी हमारे देश में बढ़ती जा रही है।

लड़कियों को मां बाप बोझ समझते हैं एक और जहां लड़कों को उच्च शिक्षा दिलवाते हैं लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो लड़कियों को उचित शिक्षा का लाभ नहीं उठाने देते यह लैंगिक समानता भी हमारे देश में देखने को मिलती है। सरकार इस तरह की असमानताओं को दूर करने के लिए काफी प्रयास भी करती हैं वास्तव में हम सभी को मिलकर समाज की इन असमानताओं को दूर करने की जरूरत है और देश को एक सूत्र में बांधने की जरूरत है जब सामाजिक असमानताएं दूर होंगी तभी हमारे देश का विकास होगा और देश तेजी से आगे बढ़ेगा।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Samajik asamanta essay in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *