साहित्य और समाज पर निबंध Sahitya aur samaj essay in hindi

Sahitya aur samaj essay in hindi

साहित्य समाज को सुंदर बनाने का काम करता हैं। साहित्यकारों के माध्यम से हम सभी को हमारे पुराने ग्रंथों और पुरानी सभ्यताओं के बारे में पूरी जानकारी मिलती है । समाज में कई धर्म के लोग रहते है जैसे कि हिंदू , सिख , ईसाई , पंजाबी और देश मे अलग-अलग भाषाएं भी हैं लेकिन देश के कई ऐसे राष्ट्रीय त्योहार हैं जिनको हम सभी धर्म और अलग अलग भाषाओ के लोग आपस में मिलकर एकजुट होकर एकता के साथ उन त्योहारों को मनाते हैं । उन त्यौहारों को मनाते समय किसी तरह का भेदभाव नहीं किया जाता है और पूरे हर्षोल्लास के साथ हम उन उत्सवों को मनाते हैं ।

साहित्यों के माध्यम से हमको कई बड़े-बड़े ग्रंथों के बारे में पढ़ने का मौका मिला है और साहित्यों के माध्यम से हमको यह भी सीखने का मौका मिला है कि हमारे द्वारा समाज को किस तरह से सही रास्ते पर चलाकर हमारे समाज और देश का विकास कर सके। साहित्यों के माध्यम से हमको यह पता चलता है कि पहले के जो राजा महाराजा होते थे वह किस तरह से जनता पर राज करते थे और किस किस राज्य के कौन कौन से राजा थे और कौन-कौन से युद्ध पहले हुए और उस युद्ध में किस राजा की जीत हुई और किस राजा की हार हुई, यह सब हमें साहित्यकारों के द्वारा लिखे गए साहित्य के माध्यम से पता चलता है ।

Sahitya aur samaj essay in hindi
Sahitya aur samaj essay in hindi

image source-https://www.pravakta.com

आज हमारे समाज को मजबूत बनाने में साहित्यों का सबसे बड़ा योगदान है क्योंकि जब समाज में गलत कार्य होने लगते हैं तो साहित्य ही हमको सही रास्ता दिखाते हैं । साहित्यों के माध्यम से कई ऐसे महान पुरुषों के बारे में हमको पढ़ने को मिलता है जिन्होंने इस समाज को मजबूत करने के लिए अपना पूरा जीवन लगा दिया और यह उन्होंने सिर्फ समाज के लिए किया क्योंकि जब तक समाज सही रास्ते पर नहीं चलेगा तब तक लोग भी सही रास्ते पर नहीं चलेंगे। समाज ही लोगों को संस्कृति के बंधन में बांधता है और हम उस बंधन में बंधकर अच्छे अच्छे कार्य करते हैं । जब साहित्यकार के द्वारा किसी महापुरुष के बारे में लिखा हुआ साहित्य हम पढ़ते हैं तो हमें गर्व होता है कि हम भी उसी देश में जन्मे हैं जिस देश में ऐसे महापुरुषों ने जन्म लिया है ।

आज हमारे देश में समाज को मजबूत करने में इन साहित्यकारों की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका रही है इन साहित्यकारों ने हमारे देश को कई ऐसे साहित्य भी दिए हैं जिनके माध्यम से हम समाज को सही रास्ते पर चलाने का काम कर सकते हैं । इन साहित्यों के माध्यम से हमें यह पता चलता है कि हमको हमारी जिंदगी में सच्चाई के साथ आगे बढ़ना चाहिए। जो लोग सच्चाई के साथ नहीं चलते वह आगे नहीं बढ़ सकते हैं क्योंकि सच्चाई के रास्ते पर जो व्यक्ति चलता है शुरुआत में थोड़ी कठिनाइयां जरूर आती हैं लेकिन जब वह सफल हो जाता है तो उसकी जीवन में आनंद ही आनंद आता है यह सब हमारे ग्रंथों में भी लिखा हुआ है। आज साहित्यकारों के माध्यम से हमको रामायण , विष्णुपुराण और कई ऐसे ग्रंथ भी प्राप्त हुए हैं जिनको पढ़ने से हमारी जिंदगी सच्चाई की ओर चल पड़ती है और हम सदैव समाज की भलाई के कार्य करते रहते हैं ।

बचपन से ही हमारे जीवन में समाज और साहित्य का बड़ा ही महत्व है क्योंकि जब हम स्कूल में पढ़ने के लिए जाते हैं तो हमको कई साहित्यकारों की लिखी हुई किताबों को पढ़ना पड़ता हैं और उन साहित्य के माध्यम से हमको अच्छी अच्छी सीख मिलती है जिसे हम सीखकर हमारा और हमारे अच्छे समाज का निर्माण करते हैं । जो हम सीखते है उसी से हमारा भविष्य बनता है। अगर हमारी जिंदगी में हमे आगे बढ़ना है तो अच्छे लोगों के बारे में पढ़ना चाहिए । हम जब अच्छे लोगों के बारे में पढ़ेंगे तो हमको यह एहसास जरूर होगा की हमको भी उनके जैसा बनना चाहिए और हमारे एक अच्छा इंसान बनने से एक अच्छे समाज का निर्माण होता है।

दोस्तों साहित्य और समाज पर हमारे द्वारा लिखा यह आर्टिकल Sahitya aur samaj essay in hindi आपको पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूलें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *