सब धर्म एक समान निबन्ध sab dharm ek saman essay in hindi

सर्वधर्म समभाव निबंध

भारत देश में कई धर्म के लोग रहते हैं और सभी अपने-अपने धर्म के हिसाब से चलते हैं । आज कई लोग धर्म के नाम पर लड़ते हैं कई लोगों ने तो धर्म के नाम पर भगवान को ही बांट दिया है । क्या ईश्वर ने हम सभी को धरती पर इसलिए भेजा है कि हम सभी धर्म के नाम पर लड़ाई करें ? ईश्वर ने जब हमें इस धरती पर भेजा है तो हम लोगों को एक दूसरे की मदद करना चाहिए और सभी धर्म के लोगों के साथ मिलकर अच्छे-अच्छे काम करना चाहिए ।

मेरा मानना है कि सभी धर्मों के ग्रंथों में एक ही बात बताई गई है की आप कभी भी किसी पर अन्याय ना करें और जितना हो सके उतना गरीब लोगों की और असहाय व्यक्तियों की मदद करें जिससे वह व्यक्ति दुखों से बाहर निकल सके और अपने जीवन को जी सके।

sab dharm ek saman essay in hindi
sab dharm ek saman essay in hindi

 

आज सभी लोग अपने अपने धर्म को बढ़ावा देने में लगे हुए हैं । क्या सभी धर्म एक दूसरे से अलग हैं ? नहीं , सभी धर्म के लोग इंसान होते हैं जिस व्यक्ति के अंदर इंसानियत नहीं है वह किसी भी धर्म को अपनाने के लायक नहीं है। आज हम देखते हैं कि राजनीति के लोग धर्म के नाम पर एक दूसरे को लड़बा कर चुनाव में जीतने की कोशिश करते हैं । एक दूसरे से लड़ने पर हमारा फायदा नहीं होता है जबकि वह नेता अपने फायदे के लिए धर्म के नाम पर हम लोगों को लड़ाते हैं और हम उन लोगों की बातों में आकर अपनी इंसानियत भूल जाते हैं ।

हम लोगों को धर्म के नाम पर कभी नहीं लड़ना चाहिए । अगर कोई हिंदू मस्जिद में जाकर नमाज पढ़ेगा तो क्या अल्लाह उसको आशीर्वाद नहीं देंगे , अगर मुसलमान मंदिर में जाकर भगवान की पूजा करेगा तो क्या भगवान उसको आशीर्वाद नहीं देंगे ? यह सब हमारी सोच है यह धर्म और ईश्वर के प्रति श्रद्धा रखना इंसानों के लिए बनाए गए हैं । हम इंसानों के द्वारा ही ईश्वर , अल्लाह को बांटा गया है। जो व्यक्ति अपने फायदे के लिए दूसरों का नुकसान करता है वह इंसान नहीं होता।

हमारा सबसे बड़ा धर्म होता है शिक्षा और इंसानियत। शिक्षा प्राप्त करके हम लोगों को इंसानों की मदद करनी चाहिए ,उनको सही रास्ता दिखाना चाहिए जिससे कि वो व्यक्ति अपना विकास कर सके चाहे वह किसी भी धर्म का हो । मैं आप लोगों से पूछना चाहता हूं कि क्या सूरज धर्म के हिसाब से अपनी रोशनी देता है ? नहीं, जबकि सूरज का कोई धर्म नहीं होता है वह सभी को समान रूप से रोशनी देता है ,ना तो हवा का कोई धर्म होता है और ना ही जल का कोई धर्म होता है यह सभी को समान रूप से अपना योगदान देते हैं।

अगर कोई व्यक्ति धर्म के नाम पर हम लोगों को भड़काने की कोशिश करें तो हम लोगों को कोशिश करना चाहिए कि उनके बहकावे में ना आएं और उन लोगों से दूर रहना चाहिए जिससे कि वह हमारा फायदा उठाकर धार्मिक दंगा ना करवापाएं और हम सभी एक साथ मिल कर रहे । जिससे हमारा और हमारे देश का विकास होगा । सभी धर्म का एक ही उद्देश्य होना चाहिए कि लोगों का विकास हो और सभी लोग सभी धर्मों का पालन करें।

जब हमारी आत्मा पवित्र होगी और हम सच्चाई के साथ जिएंगे तो हम लोगों को धर्म के नाम पर कोई भी लड़ाई नहीं करवाएंगे और हम सभी आराम से रह सकेंगे और अपना विकास कर सकेंगे।

हमारा आर्टिकल sab dharm ek saman essay in hindi आपको पसंद आए तो शेयर करें ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *