रामस्वरूप धाकड़ जी की जीवनी Ram Swaroop Dhakad imc success story in hindi

Ram Swaroop Dhakad imc success story

दोस्तो कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज मैं आपको जिस महान इंसान के बारे में बताने वाला हूं वाकई में वो एक ऐसे महान इंसान है जिन्होंने अपने जीवन में आ रही बहुत सी परेशानियों का सामना करते हुए एक ऐसी सफलता अर्जित की है जिसकी हर कोई तारीफ करता है क्योंकि बड़ी सफलता पाना बहुत मुश्किल होता है है चलिए जानते हैं रामस्वरूप धाकड़ जी के जीवन के बारे में

जन्म और परिवार

रामस्वरूप धाकड़ जी का जन्म 9 अगस्त सन 1979 को गुना जिले के ग्राम भुलाये मैं हुआ था इनके पिता का नाम रामप्रसाद धाकड़ एवं माता का नाम प्रेम बाई है जो कि एक किसान है.अपनी शुरुआती पढ़ाई करने के बाद ये बीकॉम करने के लिए गुना आ गए और इसी दौरान 2002 में इनकी शादी रेनू धाकड़ से हो गई.

कैरियर की शुरुआत

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद ये एक मार्केटिंग कंपनी के लिए कार्य करने लगे.रामस्वरूप धाकड़ जी के पास एक ऐसी खूबी हैं कि वह जिस काम को भी करते हैं उसको तब तक करते हैं जब तक की सफलता हाथ ना लग जाए उन्होंने इस मार्केटिंग कंपनी में पूरी लगन से काम किया और सफलता प्राप्त की.अपनी मेहनत के दम पर इनका बिज़नेस पांच राज्यों में चलने लगा।इन्होंने अपनी मेहनत से इस बिज़नेस में अच्छा पैसा भी कमाया इन्होंने 3 साल में करीब 70 लाख रुपए कमाए और अपनी मेहनत के दम पर कार खरीदी.इनके जीवन मे सब कुछ अच्छा चल रहा था.

मुश्किलें फिर भी आगे कदम बढ़ाना

कुछ समय बाद रामस्वरूप धाकड़ के जीवन में एकदम से एक तूफान सा आ गया वह जिस मार्केटिंग कंपनी के लिए कार्य करते थे वह कंपनी बंद हो गई और रामस्वरूप धाकड़ जी की इनकम जीरो हो गई.इस बीच रामस्वरूप धाकड़ जी को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ा था.इन्होंने आर्थिक परेशानी का सामना किया इन्होंने अपने जीवन मे कई उतार चढ़ाव देखें लेकिन कुछ सालों बाद 2015 में इन्हें एक और जबरदस्त मौका मिला.
इन्होंने एक बार फिर से एक दूसरी मार्केटिंग कंपनी imc के साथ काम किया.रामस्वरूप जी ने बिज़नेस के लिये अपने दोस्तों रिश्तेदारों से बात की लेकिन किसी ने भी इनका सहयोग नहीं किया लेकिन रामस्वरूप सर ने हार नहीं मानी वो प्रयास करते गए और धीरे-धीरे आगे बढ़ते गए.
कहते हैं की मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती इनकी लगातार कोशिश रंग लाई इनके कुछ बिजनेस पार्टनर बने और उनके साथ रामस्वरूप धाकड़ जी ने बिज़नेस जमाना शुरू किया. कहते हैं अगर कोई कोशिश करें तो उसको जीवन में सफलता जरूर मिलती है रामस्वरूप सर लगभग 20 महीने में imc के चेयरमैन लेवल पर पहुंच गए और इसके बाद इनकी हर महीने की इनकम लगभग एक से डेढ़ लाख के बीच में होने लगी.
2018 में ये और भी आगे बढ़ते चले जा रहे हैं.ये और भी अच्छी इनकम कमाने लगे है जिससे आज आई एम सी बिजनेस में इन्होंने अपनी मेहनत के दम पर वह कर दिखाया है कि इंसान के जीवन में उतार चढ़ाव तो आते ही रहते हैं लेकिन अगर वह फिर से कोशिश करे तो सफलता जरूर हाथ लगती है.
रामस्वरूप धाकड़ जी वाकई में गुना के एक सम्माननीय नागरिक हैं.रामस्वरूप धाकड़ जी ने हमें आगे बढ़ने के लिए एक संदेश दिया है कि
“हमेशा पॉजिटिव सोच रखे और अगर किसी काम को करना है तो लक्ष्य बनाकर ही करना चाहिए और जब तक आप उस लक्ष्य तक पहुंच ना जाए तब तक आपको कोशिश करते रहना चाहिए.व्यक्ति सपने बनाता तो है लेकिन वह किसी और काम को करता है तो सपना भूल जाता है और समस्या में फंसकर बैठ जाता है.सफलता पाना है तो सपने को बड़ा और समस्या को छोटा रखना चाहिए तभी जीवन में सफलता मिलती है.”
दोस्तों हम कामना करते हैं कि रामस्वरूप धाकड़ जी अपने जीवन में आगे भी बहुत कुछ अच्छा करे और जीवन में सफलता की बुलंदियों को छूते रहें.
अगर आपको हमारा यह आर्टिकल Ram Swaroop Dhakad imc success story in hindi पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूले और हमें कमेंट्स के जरिये बताये की आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा.इसी तरह के नए नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरुर करे.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *