रामनवमी पर निबंध, कविता व पूजा विधि Ram navami essay, puja vidhi, poem in hindi

Ram navami essay in hindi

रामनवमी का त्यौहार भगवान श्री रामचंद्र जी के जन्मोत्सव की खुशी में मनाया जाता है कहते हैं कि इस दिन दशरथ जी और कौशल्या जी के यहां पर श्री रामचंद्र जी का जन्म हुआ था। दशरथ जी के कोई संतान नहीं थी उनकी तीन रानियां थी एक दिन उन्होंने अपनी समस्या अपने गुरुदेव को बताई और एक यज्ञ रखा।

Ram navami essay, puja vidhi, poem in hindi
Ram navami essay, puja vidhi, poem in hindi

यज्ञ के दौरान दशरथ जी के गुरु ने उन्हें खीर से भरा कटोरा देते हुए कहा कि यह तुम तीनों रानियों को खिला देना तो उनके संतान होगी। कुछ समय बाद ऐसा ही हुआ नवमी के दिन श्री रामचंद्र का जन्म हुआ उनके साथ में उनके भाइयों का भी जन्म हुआ इसी खुशी में हम हर साल रामनवमी का त्यौहार मनाते हैं। कहते हैं कि भगवान श्री राम भगवान विष्णु जी के दस अवतारों में से सातवें अवतार थे। हर साल रामनवमी का यह त्योहार चैत्र माह के शुक्ल पक्ष के नवे को मनाया जाता है इसी को हम रामनवमी कहते हैं .

रामनवमी का यह त्यौहार बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। हिंदू धर्म में श्रीराम को भगवान का अवतार माना जाता है उनकी पूजा की जाती है इसलिए भगवान श्रीराम के मंदिर बहुत ही अच्छी तरह से सजाए जाते हैं भक्तगण दूर-दूर से उन मंदिरों के दर्शन करने के लिए आते हैं। बहुत सारे लोग इन दिनों व्रत भी रहते हैं और 9 दिनों तक व्रत रहते हैं कहते हैं कि इन दिनों जो भी व्यक्ति व्रत रहता है, भगवान श्री राम की पूजा आराधना करता है वह हमेशा सुखी रहता है और भगवान उसकी मनोकामना भी पूरी करते हैं।

हमारे भारत देश में कुछ विशेष स्थान ऐसे भी हैं जैसे कि अयोध्या इस पवित्र स्थान पर बहुत सारे भक्तगण तीर्थ यात्रा करने के लिए आते हैं और अपने नेत्रों का लाभ उठाते हैं। श्री रामचंद्र जी की राम नवमी लोगों के लिए बहुत ही यादगार होती है इस रामनवमी के दिन कई कई जगह भक्तगण रथ यात्रा निकालते हैं, खुशियां मनाते हैं, अपने घरों में मंदिरों में भगवान श्री राम की पूजा करते हैं।

भगवान श्री राम जो मर्यादा पुरुषोत्तम राम हैं भक्तों के लिए वह सब कुछ हैं। भक्त गण इन 9 दिनों तक श्री रामचरितमानस की कथा रखते हैं और सुनते है वह अपने पापों से मुक्ति पाने के लिए भगवान श्री रामचंद्र जी की पूजा अर्चना करते हैं, उनका स्मरण करते हैं वास्तव में हमारे हिंदू धर्म में रामनवमी का त्योहार हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।

रामनवमी पूजा विधि Ram navami puja vidhi in hindi

राम नवमी की पूजा का बहुत ही महत्व है कहते हैं कि जो भी रामनवमी की पूजा करता है या व्रत रखता है उससे घर में सुख शांति आती है, भगवान की कृपा आप पर बनी रहती है हमें रामनवमी की पूजा करनी चाहिए। आप सबसे पहले सुबह जल्दी जागकर स्नान आदि करके तैयार हो जाएं उसके बाद दिन भर व्रत रखने का संकल्प लें।

रामनवमी की पूजा करने के लिए आपको चाहिए कि आप पूजा सामग्री जैसे कि रोली, चावल, फूल, स्वच्छ जल आदि रखें और भगवान श्री राम जी की मूर्ति पर अर्पण करें उन पर मुट्ठी भर के चावल चढ़ाएं, भगवान श्री रामचंद्र जी की कथा सुने, उनकी आरती उतारें, चालीसा करें। आरती के बाद पवित्र हुए जल को सभी जनों पर छिड़के और अपनी क्षमता अनुसार ब्राह्मणों को दान दे। रामनवमी पर ब्राह्मणों को दान देने का भी विशेष महत्व है।

रामनवमी के दिन श्री रामचंद्र जी की सोने की प्रतिमा दान करने का भी विधान है आप चाहें तो प्रतिमा को ब्राह्मण को दान कर दें वास्तव में रामनवमी का त्यौहार हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार है। श्री रामचंद्र जी मर्यादा पुरुषोत्तम थे उन्होंने अपने पिता की आज्ञा को पूरा करने के लिए 14 वर्षों तक वन की यातनाएं सही थी और इस धरती को राक्षसों से मुक्त किया था।

रामनवमी पर कविता Ram navami poem in hindi

खुशियों के गीत गाओ

मिलजुल कर अब मनाओ

आई है राम नवमी

पापों को दूर करेगी ये नवमी

 

मंदिरों को सजाएं

घर में सुख शांति हम लाए

अब तो दुख दूर होंगे

रामनवमी पर सुखी हम होंगे

 

यह है हमारे लिए शुभ अवसर

आओ शीश हम नवाये

ब्राह्मणों को दान करके

खुशी हम मनाये

 

श्री रामचरित मानस का श्रवण हम करें

मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम को नमन हम करें

आया है रामनवमी का त्यौहार

लाया है खुशियां बेशुमार

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Ram navami essay in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल Ram navami poem in hindi कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *