घरेलू हिंसा पर विचार quotes on domestic violence in hindi

quotes on domestic violence in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों घरेलू हिंसा औरतों के साथ की जाती हैं हम सभी को इस और जागरूक होना चाहिए और औरतों के साथ किसी भी तरह की घरेलू हिंसा नहीं करनी चाहिए।

quotes on domestic violence in hindi
quotes on domestic violence in hindi

आजकल हम देखें तो कई पढ़े लिखे लोग भी औरतों के साथ घरेलू हिंसा करते हैं। कई प्रथाओं की वजह से भी औरतों पर कई तरह की घरेलू हिंसा की जाती है आज हम पढ़ेंगे घरेलू हिंसा पर हमारे द्वारा लिखित विचार तो चलिए पढ़ते हैं आज के इन विचारों को

  1. औरतों पर घरेलू हिंसा अधिकतर दहेज प्रथा जैसी प्रथाओं की वजह से होती हैं
  2. घरेलू हिंसा से वास्तव में हमारे समाज पर, हमारे देश पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता है
  3. सही मायने में देश का विकास सही तरह से तभी हो सकता है जब औरतों के साथ घरेलू हिंसा ना हो
  4. हम यदि जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं और अपने देश को भी आगे बढ़ाना चाहते हैं तो हमें औरतों को भी कदम से कदम मिलाकर चलने देना होगा
  5. अक्सर घरेलू हिंसा लोगों के लालच के कारण होती है
  6. घरेलू हिंसा को अगर कोई खत्म कर सकता है तो हम सब खत्म कर सकते हैं
  7. अगर देश में घरेलू हिंसा होती रहे तो वास्तव में हमारा देश कभी भी तेजी से प्रगति नहीं कर सकता और यदि प्रगति करता है तो देश की प्रगति करने का कोई मतलब नहीं निकलता
  8. हमें ना घरेलू हिंसा करना चाहिए और ना ही घरेलू हिंसा सहनी चाहिए
  9. घरेलू हिंसा की वजह से कई लोगों की जिंदगी बर्बाद हो जाती हैं
  10. घरेलू हिंसा को खत्म करना हमारे लिए बहुत ही जरूरी है क्योंकि औरतें हमारे घर की लक्ष्मी होती है हमे उनका सम्मान करना चाहिए

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल quotes on domestic violence in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *