प्रातःकाल भ्रमण पर निबंध Essay on pratahkal brahman in hindi

Essay on pratahkal brahman in hindi

Essay on pratahkal brahman in hindi-दोस्तों कैसे हैं आप सभी,आज का हमारा ये आर्टिकल Essay on pratahkal brahman in hindi आप सभी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण साबित होगा क्योंकि आज हमारे जीवन में प्रातः काल भ्रमण बहुत ही ज्यादा महत्व रखता है.मैंने इससे पहले बहुत से निबंध आपके सामने प्रस्तुत किए हैं आपने काफी अच्छा रिस्पांस भी दिया लेकिन आज का हमारा निबंध आपको बहुत ही अच्छा लगेगा क्योंकि हमारे जीवन में जो भी शुरू होता है वह प्रात काल से ही शुरु होता है और अगर प्रातकाल ही अच्छा हो तो हमें बहुत ही खुशी होती है और हमारा दिन अच्छे से निकलता है.

Essay on pratahkal brahman in hindi
Essay on pratahkal brahman in hindi

दोस्तों प्रातकाल  भ्रमण बहुत ही जरूरी है आज के इस आधुनिक युग में बहुत से लोग ऐसे हैं जो देरी से जागते हैं, कुछ लोग ऐसे हैं जो जल्दी जाग जाते हैं और प्रात काल भ्रमण के लिए जाते हैं वह हमेशा खुश रहते हैं और बीमारियों से हमेशा दूर रहते हैं.प्रातः काल भ्रमण आज के युग में बहुत ही जरूरी है इसके कई कारण हैं जैसे कि आज हमारे देश में बहुत सारी बीमारियां फैल रही हैं क्योंकि लोगों की दिनचर्या सही नहीं है.

लोग सुबह जल्दी नहीं जागते हैं और ना ही वो सुबह भ्रमण करने के लिए जाते हैं.हम सभी को सुबह जल्दी जागना चाहिए क्योंकि प्रातः काल भ्रमण ना करने की वजह से हमें शुद्ध और ठंडी हवा नहीं मिलती है साथ में हमें सूरज की पहली किरण की रोशनी नहीं मिल पाती है जिससे हमारे जीवन में बहुत सी मुसीबते आती हैं,हम बहुत सी बीमारियों के शिकार हो जाते हैं साथ में दिन भर आलस रहता है.अगर हम प्रातः काल भ्रमण करें तो हमारा जीवन सुखी रहेगा.

प्रातकाल भ्रमण हम कहीं पर भी कर सकते हैं इसके लिए उचित स्थान ऐसा होना चाहिए जहां पर हरियाली हो और बहुत से पेड़ पौधे हो तो अच्छा रहता है क्योंकि पेड़ पौधे की हवाओं में ठंडी हवाओं में हमारा मन शांत होता है दोस्तों अगर आप अभी-अभी सुबह जागना शुरू किए
हैं तो और आप व्यायाम नहीं कर पाते हैं तो आपके लिए प्रात काल भ्रमण बहुत ही अच्छा रहेगा क्योंकि इसमें ना ही कोई ज्यादा मेहनत की जरूरत है और ना ही किसी प्रकार का कष्ट हो सकता है और रोजाना भ्रमण करने से आपका जीवन सुधर सकता है.

जैसे कि मैंने आपको ऊपर बताया था कि प्रातः काल भ्रमण से बहुत सारी बीमारियां दूर हो सकती हैं वाकई में यह सही है बहुत सारी किताबों में भी ऐसा लिखा है साथ में डॉक्टर हो चाहे कोई वेद हो हर कोई प्रात काल भ्रमण करने की सलाह देता है क्योंकि हर कोई जानता है कि प्रातः काल भ्रमण करने से जीवन सुखी होता है यह एक मुफ्त की दवाई है.

Related-सुबह जल्दी उठने के उपाय और फायदे       अगर सूरज न होता पर निबंध Agar suraj na hota essay in hindi

आज के आधुनिक युग में लोग जब भी बीमार होते हैं तो डॉक्टरों से मिलते हैं और वह दवाइयों का इस्तेमाल करना शुरू कर देते हैं लेकिन अपनी बीमारी को खत्म करने के लिए वह अपने दैनिक दिनचर्या को नहीं सुधारते वह सुबह जल्दी नहीं जागते हैं इसलिए अधिकतर बीमारियां सही नहीं हो पाती हैं अगर हम वाकई में प्रातः काल भ्रमण करें तो हमें बहुत से लाभ प्राप्त हो सकते हैं.

पहला जैसे कि मैंने आपको बताया हम बहुत सारी बीमारियों से मुक्त हो सकते हैं दूसरा आने वाली बीमारियां हमारे आसपास भी नहीं आएंगी दूसरा अगर आप प्रात काल भ्रमण करते हैं तो दिन भर आप खुशी महसूस करते हैं और आपके जीवन से आलस गायब हो जाता है.यह भी है कि आपका ध्यान एकाग्र होता है जिससे आप पढ़ाई कर करते हैं और जीवन में अपना अच्छा भविष्य बनाते हैं.

इसी के साथ में यह भी है कि अगर आप प्रात काल जल्दी जागते हैं तो आपके पास बहुत सा समय बचता है जिसमें आप कोई सा भी उपयोगी काम शुरू कर सकते हैं दोस्तों वाकई में प्रातः काल भ्रमण करने से काफी सारे लाभ हमको मिलते हैं और प्रात काल भ्रमण से अगर हानी की बात करें तो हानि तो कुछ है ही नहीं इसलिए हम सभी को प्रातः काल भ्रमण करना चाहिए.दोस्तों हमारे समाज में बहुत से लोग हैं
जैसे की बुजुर्ग बच्चे और युवा इन तीनों वर्गो के लोगों को प्रातः काल भ्रमण करना चाहिए क्योंकि इससे हमारी सेहत सही रहती है और हमको बहुत सारे लाभ होते हैं.

एक बच्चा अगर प्रात काल भ्रमण करता है तो वह अच्छे से पढ़ाई कर सकता है और परीक्षा में अच्छे नंबर ला सकता है.अगर कोई बुजुर्ग प्रातः काल भ्रमण करता है तो वह लंबी उम्र जी सकता है साथ में बहुत सी बीमारियां जो बुढ़ापे में आ जाती हैं वह उनको दूर भगा सकता है और नवयुवक जोकि अपने कैरियर की शुरुआत करता है,अपने कैरियर को बनाने के लिए कुछ अच्छा,कुछ करना चाहता है तो उसके लिए भी जरूरी है कि वह प्रात काल जागे.

प्राचीन काल में लोगो को घूमने का ज्यादा मौका मिलता था क्योकि उनके पास वाहनों की सुविधा नहीं थी लेकिन आजकल के जमाने में प्रातकाल की बात तोह दूसरी है ज्यादातर लोग दोपहर या शाम को भी टहलने नहीं जा पाते है.जिस वजह से हमारे भारत में बहुत सी बीमारिया जन्म ले रही है.हम सभी को प्राताकाल जागना चाहिए जिससे हम बीमारियों से दूर रहकर अपने आपको सुरक्षित कर सके.

देखा गया है कि एक सफल इंसान प्रातकाल जरूर जागता है.आप भी प्रातकाल जागे और अगर आप प्रातः काल भ्रमण नहीं करते हैं या
नहीं जागते हैं तो आप एक सफल इंसान की केटेगरी से नीचे हैं.आप किसी भी सफल इन्सान की दिनचर्या के बारे में जाने उनकी दिनचर्या में सुबह जल्दी जागकर भ्रमण करना होता है.इसलिए दोस्तों बहुत सारी बीमारियों से बचने के लिए,अपने समय को बचाने के लिए,समय का सदुपयोग करने के लिए और एक सफल इंसान बनने के लिए आप प्रात काल जागे और भ्रमण करें इसी में आपका लाभ है.

अगर आपको हमारा आर्टिकल essay on morning walk in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना न भूले और हमें कमेंट्स के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल Essay on pratahkal brahman in hindi कैसा लगा,अगर आप हमारी अगली पोस्ट को सीधे अपने ईमेल पर पाना चाहे तो हमें सब्सक्राइब करना ना भूले.

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *