डाकिया पर अनुच्छेद व कविता Postman paragraph, poem in hindi

Postman paragraph in hindi

डाकिया एक ऐसा व्यक्ति होता है जो हम सभी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है डाकिए का मुख कार्य घर घर जाकर पत्र, मनीऑर्डर, पार्सल आदि पहुंचाना है डाकिए को हम इंग्लिश में पोस्टमैन भी कहते हैं यह पोस्टमैन हर शहर और गांव में होता है।

Postman paragraph, poem in hindi
Postman paragraph, poem in hindi

पहले मोबाइल टेलीफोन आदि की सुविधा ना होने के कारण डाकिये के ऊपर बहुत जोर रहता था वह हर एक मौसम में अपना कार्य ईमानदारी पूर्वक करता था चाहे ठंड हो चाहे गर्मी या बरसात हो हर एक मौसम में वह लोगों को पत्र, पार्सल आदि पहुंचाता था। आज भी वह यह कार्य करता है लेकिन मोबाइल, टेलिफोन के जमाने में बहुत ही कम लोग पत्र लिखकर भेजते हैं लेकिन फिर भी पार्सल उपहार भेजने के लिए डाकिए को अपना कार्य करना पड़ता है। डाकिया पहले सिर पर पगड़ी पहनता था लेकिन समय के साथ डाकिये की पोशाक में बदलाव हुआ।

डाकिए का कार्य करने वाला व्यक्ति एकदम स्वस्थ एवं अच्छे स्वभाव का होता है क्योंकि डाकिए को अपना कार्य करने के लिए कई जगह पैदल जाना पड़ता हैं, कई परेशानियों का सामना डाकिए को करना पड़ता है यह सब एक स्वस्थ और अच्छा व्यक्ति कर पाता है। डाकिए के जीवन में कोई भी विशेष बदलाव नहीं होता वह जीवनभर अपना कार्य करता जाता है उसका पूरा जीवन गरीबी में ही निकल जाता है वास्तव में डाकिया हम सभी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

Postman poem in hindi

देखो देखो डाकिया आया
हम सबको उपहार वो लाया
रिश्तो को गहरे बनाने आया
जीवन में खुशहाली लाने आया

खाकी रंग का थैला लेकर आया
उसमें पत्र उपहार वो लाया
बरसात के इस मौसम में भी आया
हमको अपनी सेवाएं देने आया

खुशाली उसके चेहरे पर होती
दूसरे की खुशी में खुशी  होती
देखो देखो डाकिया आया
हम सबको उपहार वो लाया

दोस्तो इसी तरह के लेख Postman paragraph, poem in hindi पढ़ने के लिए हमे कमैंट्स के जरिये जरूर बताये धन्यवाद।

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *