सामाजिक मुद्दों पर कविता Poem on social issues in hindi

Poem on social issues in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज की हमारी कविता आपको समाज के उस मुद्दे के बारे में बताएंगी जिसके बारे में हमें जानना बेहद जरूरी है और उसके प्रति अपने आप में बदलाव लाना भी जरूरी है आज हम देखें तो हमारे समाज में हमारे देश में कई तरह के बदलाव आ रहे हैं पहले के जमाने में जहां लोग अपने मां बाप, भाई बहन, गुरु का मान सम्मान करते थे लेकिन आजकल के जमाने में कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जिनको इन रिश्तो की बिल्कुल भी परवाह नहीं रही है वह इनको नहीं मानते और सिर्फ अपने बारे में सोचते हैं.

समाज के मुद्दे आज हमको देखने को मिलते हैं हमने इस नए जमाने में भले ही बहुत सारे बदलाव महसूस किए हैं लेकिन हमें चाहिए कि हम इस तरह के बदलाव ना लाएं क्योंकि हमारे जीवन में हमारे रिश्ते नातों की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका है हमें चाहिए कि हम इन रिश्तो को वैल्यू दे और जीवन में खुशहाल जिंदगी जिए चलिए पढ़ते हैं आज की हमारी इस कविता को

Poem on social issues in hindi
Poem on social issues in hindi

ना जाने यह कैसा जमाना आ रहा है

बाप बेटे का रिश्ता पहले जैसा ना रहा है

जिसने गोद में पाला उसको मान ना रहा है

बेटा उनको बोझ समझ रहा है

 

यहां रिश्ता ना कोई रहा है

बस पैसे से ही रिश्ता रहा है

ना जाने यह कैसा जमाना आ रहा है

बाप बेटे का रिश्ता पहले जैसा ना रहा है

 

भाई से प्यारी घरवाली हो गई है

भाई भाई का दुश्मन हो गया है

ना कोई इज्जत है ना शर्म हया है

यहां तो रिश्तो से भी बढ़कर अपनी अदा है

 

प्यारी सी बहनिया बोझ हो गई है

बुढ़ापे में मा बाप बोझ हो गए है

ना जाने यह कैसा जमाना आ रहा है

बाप बेटे का रिश्ता पहले जैसा ना रहा है

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Poem on social issues in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *