पेन कलम का इतिहास Pen history in hindi

Pen history in hindi

दोस्तों आज हम आपको पेन कलम के  इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं . चलिए अब हम इस आर्टिकल के माध्यम से पेन कलम के इतिहास को पढ़ेंगे . दुनिया में पेन कलम का इतिहास काफी पुराना माना जाता है . प्राचीन समय के लोग गुफाओं में रहते थे वह चित्रकारी करने एवं लिखने के लिए नुकीले पत्थरों का उपयोग किया करते थे .

आज हम उनके द्वारा बनाए गए चित्रों को देखते हैं तो हमें उनके जीवन के बारे में पता चलता है . नुकीले पत्थरों के द्वारा लिखने की शुरुआत हुई थी . ऐसा कहा जाता है के प्राचीन समय के लोगों को चित्र बनाने में  बहुत रुचि थी . वह दीवारों पर नुकीले पत्थरों के माध्यम से चित्र बनाया करते थे .

Pen history in hindi
Pen history in hindi

आज हमको प्राचीन समय का इतिहास चित्रों के माध्यम से पता चलता है . पहले  पेन  का निर्माण  इराक के लोगों ने किया था . इराक से ही पेन से  लिखने की शुरुआत  हुई  थी .  जब कागज नहीं था तब मॉम के पटल पर नुकीली धातु से लिखा जाता था . 6000 वर्ष पहले मिस्र के लोगों ने पेपर की खोज की थी . यह कहा जाता है की पहले यह बुनी हुई चटाई की तरह ही था फिर इसे कूट-कूट कर पतले पेपर का रूप दिया गया था .

मिस्र के लोगों ने रीड कलम का निर्माण किया था . कई वर्षों तक रीड कलम से लिखने का काम किया जाता रहा है . इसके बाद मिस्त्र के ही लोगों ने फाउंटेन पेन का निर्माण किया और सभी फाउंटेन पेन से लिखने लगे थे . भारत में पेन की शुरुआत 5000 वर्ष पहले हुई थी . 1300 इसवी पूर्व रोमनो ने एक धातु का कलम बनाया था . पेन में बहुत  ताकत  होती है . पेन के माध्यम से हम अपने विचार कई सारे लोगों तक पहुंचा सकते हैं . प्राचीन समय में हड्डियों के माध्यम से भी लिखने का काम किया जाता था .

समय बीतने के अनुसार नए नए तरीके लिखने के खोजे गए थे और नए-नए कलम का आविष्कार हुआ था . प्राचीन समय में मोरों के पंखो से इंक  के द्वारा भी लिखने का काम किया जाता था . ऐसा कहा जाता है कि भारत में हिन्दू  धर्म के सबसे बड़े ग्रंथ को लिखने में मोर के पंख का उपयोग किया गया था . समय के अनुसार लिखने की परंपरा बढ़ती गई और दुनिया में पेन भी बदलते गए . नए नए पेनो की खोज होती गई और आज हर कलर के पेन उपलब्ध हैं ।

कलम के बिना शिक्षा अधूरी थी । शिक्षा के क्षेत्र को दिन प्रतिदिन सफलता प्राप्त हुई है । शिक्षा के क्षेत्र को सफल  बनाने में सबसे बड़ा योगदान कलम का है । आज हर क्षेत्र में पेन बहुत उपयोगी है । पेन के बिना कोई भी काम आसान नहीं है । जब हमारा देश अंग्रेजों का गुलाम था तब कई महान लोगों ने कलम से लोगों को जागरूक किया था ।

अंग्रेजों का विरोध करने के लिए पेन  का सहारा लिया गया था । कई स्वतंत्रता सेनानी पेन के माध्यम से अंग्रेजों के विरुद्ध लेख लिखते थे और इन लेखों को पढ़कर भारत के लोगों के अंदर देश हित की भावना जागी थी ।  कलम से ही मनुष्य को ज्ञान प्राप्त हुआ था ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल पेन कलम का इतिहास Pen history in hindi यदि आपको पसंद आए तो अपने दोस्तों में शेयर अवश्य करें धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *