पहला सुख निरोगी काया पर निबंध Pehla sukh nirogi kaya essay in hindi

Pehla sukh nirogi kaya essay in hindi

दोस्तों नमस्कार आज हम आपके लिए लाए हैं पहला सुख निरोगी काया पर हमारे द्वारा लिखित यह आर्टिकल आप इसे जरूर पढ़ें इस आर्टिकल को पढ़कर आप इस विषय पर अपने स्कूल, कॉलेजों में निबंध लिखने के लिए अच्छी तैयारी कर सकते हैं चलिए पढ़ते हैं आज के इस आर्टिकल को

Pehla sukh nirogi kaya essay in hindi
Pehla sukh nirogi kaya essay in hindi

किसी ने खूब कहा है कि पहला सुख निरोगी काया वास्तव में यह बात पूरी तरह से सत्य है कि पहला सुख हमारा शरीर निरोग होना ही है। इंसान अपने जीवन में धन कमाने के लिए काफी प्रयत्न करता है लेकिन यदि इंसान का शरीर निरोग नहीं है तो उसका सारा धन व्यर्थ है क्योंकि इंसान अपने निरोगी शरीर से ही जीवन में एक अच्छी जिंदगी जी सकता है, वह हर वह कार्य कर सकता है जिसको करने में उसे खुशी मिलती है, वह बड़ी से बड़ी सफलता प्राप्त कर सकता है और जीवन में एक खुशहाल जिंदगी जी सकता है लेकिन निरोगी मनुष्य के पास यदि सब कुछ है तो भी सब कुछ होते हुए भी उसके पास कुछ नहीं होता।

हम सभी को अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए सुबह जल्दी जगना चाहिए, नित्य व्यायाम आदि करना चाहिए, सूर्य नमस्कार भी करना चाहिए आपका भोजन संतुलित होना चाहिए जिससे हम अपने शरीर को स्वस्थ रख पाए। आज हम देखें तो मनुष्य कई तरह के ऐसे कामों में फंसता जा रहा है जिससे उसे नुकसान के सिवा कुछ नहीं होता। आज मनुष्य अपने नियमित क्रियाकलापों से पर्यावरण को प्रदूषित कर रहा है जिससे उसके शरीर पर काफी दुष्प्रभाव होता है।

आज हम सभी को कई मिलाबती चीजों का उपयोग करना पड़ता है क्योंकि आजकल के आधुनिक युग में बहुत कुछ बदलाव आ रहे हैं। आज बहुत सा सामान हमें बाजार में मिलावटी मिलता है जिससे हमारी सेहत पर दुष्प्रभाव पड़ता है। बहुत सारी जगह हमें ऐसा वातावरण देखने को मिलता है जिसको हम जल्द से जल्द नहीं बदल सकते लेकिन हम कोशिश जरूर कर सकते हैं जिससे हमारा शरीर निरोग रह सके। हम सभी को समझने की जरूरत है कि सबसे पहला सुख निरोगी काया होता है इसके लिए हमें अपने घर को स्वच्छ रखने की जरूरत है।

हमें चाहिए कि हम घर की नियमित साफ सफाई करें जिससे घर में मच्छर, मक्खी आदि ना हो। हमें चाहिए कि हम घर के आस पास कूड़ा करकट इकट्ठा ना होने दें एवं कई तरह की गंदगी भी ना फैलने दें जिससे वहां का वातावरण अस्वच्छ ना हो। हमें चाहिए कि हम अपने शरीर को लेकर जागरूक रहें जब भी हमारा शरीर रोगों से ग्रस्त हो तो हमें तुरंत डॉक्टर से सलाह लेकर उचित परामर्श लेना चाहिए। हमे अपने खानपान आदि पर विशेष ध्यान देना चाहिए तभी हम जीवन में सुखी रह सकते हैं।

दुनिया में कई लोग ऐसे होते हैं जिनके पास बहुत सारा पैसा होता है लेकिन बहुत सारा पैसा होने के बावजूद भी वह जीवन में अपनी बीमारी को दूर नहीं कर पाते क्योंकि कई बीमारियां ऐसी होती हैं जिनका इलाज संभव नहीं हो पाता इसलिए हम सभी को सबसे पहले अपने शरीर को महत्व देना चाहिए, शरीर को निरोगी रखने के लिए नियमित व्यायाम करना चाहिए और स्वच्छ वातावरण में हमें रहना चाहिए तभी हम जीवन को एक बहुत ही बेहतरीन ढंग से जी सकते हैं एवं कई तरह के सुख प्राप्त कर सकते हैं।

यदि आपको मेरे द्वारा लिखा यह लेख पहला सुख निरोगी काया पर निबंध Pehla sukh nirogi kaya essay in hindi पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों में शेयर जरूर करें धन्यवाद।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *