पतेती पर निबंध Pateti festival essay in hindi

Pateti festival essay in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं पतेती पर लिखे इस निबंध को . चलिए अब हम इस आर्टिकल के माध्यम से पतेती पर लिखे इस निबंध को पढ़ेगे . पारसी समुदाय के लोग पतेती त्योहार मनाते हैं . पतेती  का यह त्योहार नव वर्ष के रूप में पारसी धर्म के लोग बड़े हर्ष उल्लास के साथ मनाते हैं . पतेती त्योहार को नव वर्ष एवं नवरोज भी कहा जाता है .

pateti festival essay in hindi
pateti festival essay in hindi

image source –https://www.indianetzone.com/1/parsi

यह त्योहार पारसी समुदाय के लोग बड़े धूमधाम से मनाते हैं . पतेती त्योहार 19 अगस्त को मनाया जाता है . जिस तरह से हमारे भारत देश में हिंदू , मुस्लिम धर्म के लोग अपने त्योहार मनाते हैं . उसी तरह से पारसी समुदाय के लोग भी 19 अगस्त को पतेती त्योहार बड़े धूमधाम से एवं हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं . जिस तरह से हिंदू धर्म के लोग होली , दिवाली बड़े धूमधाम से मनाते हैं ,मुसलमान ईद त्योहार को बड़े धूमधाम से मनाते हैं ठीक उसी तरह से पारसी समुदाय के लोग पतेती त्योहार को बड़े धूमधाम से मनाते हैं .

पारसी समुदाय के अनुसार करीबन 3000 साल पहले ईरान में साह जमशेद  इसी दिन सिंहासन पर बैठा था . इस दिन पारसी समुदाय के लोगों ने साह जमशेद का जलाभिषेक किया था और सिंहासन पर बैठाया था . उसी दिन से पारसी समुदाय के लोग यह वर्ष नव वर्ष के रूप में मनाने लगे थे . पतेती त्योहार पर सभी घरों में 1 महीने पहले से ही तैयारी शुरू हो जाती है . पारसी समुदाय के लोगों को पतेती त्योहार का इंतजार प्रतिवर्ष रहता है क्योंकि पारसी समुदाय के लोगों के लिए पतेती त्योहार खुशियां लेकर आता है .

उस दिन सभी खुशियां मनाते हैं , सभी के घरों में मछली , पुलाव , मीठा रवा , सिमैया और तरह-तरह के पकवान बनाए जाते हैं . पारसी समुदाय के लोग सह जमशेद को मानते हैं क्योंकि सह जमशेद ने पारसी समुदाय के लिए पारसी कैलेंडर बनाया था . यह त्यौहार पतेती त्योहार नव वर्ष और नवरोज के नाम से भी जाना जाता है . इस दिन सभी के घरों में साफ सफाई की जाती है , सभी नए नए कपड़े पहनते हैं , सभी के घरों में पूजा पाठ की जाती है . सभी पारसी अपने घरों में  पूजा पाठ करते हैं और मन्नत मांगते हैं .

इस दिन सभी खुशी खुशी से एक दूसरे से गले मिलते हैं . सभी एक दूसरे को  पतेती त्योहार की शुभकामनाएं देते हैं . पारसी समुदाय के लोग पतेती त्योहार पर एकत्रित होते हैं और कई तरह के कार्यक्रम पारसी समुदाय की तरफ से किए जाते हैं . पारसी समुदाय के लोग पतेती कार्यक्रम में उपस्थित होते हैं और अपने भाव व्यक्त करते हैं . भारत में पारसी समुदाय के लोग कम रहते हैं . ऐसा कहा जाता है की ईरान में 1380 ईस्वी पूर्व धर्म परिवर्तन की लहर चली थी और कई पारसियों ने अपना धर्म परिवर्तन कर लिया था .

वहां पर यह नियम बना दिया गया था की इरान में जो व्यक्ति रह रहा है उसको अपना धर्म परिवर्तन करना होगा . जो व्यक्ति ऐसा नहीं करेगा उसको इरान से बाहर कर दिया जाएगा . जिन लोगों को धर्म परिवर्तन करना मंजूर नहीं था वह ईरान को छोड़कर भारत में आकर रहने लगे थे और आज तक रह रहे हैं . जिस तरह से भारत में होली , दिवाली , ईद हर धर्म के त्योहार मनाए जाते हैं उसी तरह से पारसी समुदाय के लोग पतेती त्योहार मनाते हैं .

भारत में पारसी समुदाय की आबादी काफी कम है लेकिन फिर भी पारसी समुदाय के लोग पतेती त्योहार को बड़े धूमधाम से मनाते हैं .

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह जबरदस्त लेख पतेती पर निबंध pateti festival essay in hindi आपको पसंद आए तो सब्सक्राइब अवश्य करें और अपने दोस्तों में भी शेयर करें धन्यवाद .

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *