पंखे की आत्मकथा निबंध Pankhe ki atmakatha in hindi

Pankhe ki atmakatha in hindi

Pankhe – दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से पंखे की आत्मकथा पर लिखें निबंध के बारे में बताने जा रहे हैं । तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस आर्टिकल को पढ़कर पंखे की आत्मकथा पर लिखे निबंध के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हैं ।

Pankhe ki atmakatha in hindi
Pankhe ki atmakatha in hindi

पंखे की आत्मकथा – मैं पंखा बोल रहा हूं , मेरे माध्यम से लोग ठंडी ठंडी हवा प्राप्त करते हैं । मैं एक बिजली के माध्यम से चलने वाला पंखा हूं । मैं बिजली के माध्यम से चलके हवा देने का कार्य करता हूं । मैं तीन या चार पंखुड़ियों का बना हुआ होता हूं । जब बिजली के माध्यम से मेरी पंखुड़ियां घूमती हैं तब सभी लोग मेरे द्वारा हवा प्राप्त करते हैं । गर्मियों के समय में सभी लोग मेरा उपयोग करते हैं । मेरा जन्म एक इंसान के द्वारा किया गया है ।जिस तरह से आज दुनिया विज्ञान के क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर रही है उसी तरह से विज्ञान के चमत्कार से मेरा जन्म इंसान के द्वारा किया गया है । जब मेरा जन्म हुआ तब मेरी उपयोगिता बढ़ती गई थी ।

आज पूरी दुनिया में मेरा उपयोग किया जा रहा है । जब गर्मी का समय नजदीक आता है तब सभी मेरे उपयोग से ठंडी ठंडी हवा लेकर अपने जीवन में आनंद प्राप्त करते हैं । मैं कई रंगों में बनाया जाता हूं । जब इंसान के द्वारा मेरा अविष्कार किया गया तब मेरे आकार को छोटा बड़ा किया गया था । मैं छोटे आकार से लेकर बड़े आकार में पाया जाता हूं । आज पूरी दुनिया में मेरी उपयोगिता बढ़ती जा रही है । जब मैं विद्युत के माध्यम से गति प्राप्त करके लोगों को हवा देता हूं तब लोग मेरी हवा लेकर अपनी गर्मी को दूर भगाते हैं । जब अधिक गर्मी का मौसम आता है तब सभी लोग मुझे याद करते हैं और मेरे माध्यम से हवा प्राप्त करके आनंद प्राप्त करते हैं ।

जब वैज्ञानिकों के द्वारा यह महसूस किया गया कि पंखुड़ियों को घुमाने पर हवा प्राप्त होती है तब वैज्ञानिकों के अथक प्रयासों के बाद मेरा अविष्कार किया गया था । जब वैज्ञानिकों के द्वारा मेरा आविष्कार किया गया तब मेरे द्वारा किस तरह से लोगों को ठंडी हवा प्राप्त हो इस पर भी वैज्ञानिकों के द्वारा कार्य किया गया था । मुझे छत पर भी लगाया जा सकता और टेबल पर भी रखकर सभी लोग मेरे द्वारा ठंडी ठंडी हवा ले सकते हैं । मैं मोटर के माध्यम से गति प्राप्त करता हूं ।

जब मोटर में बिजली का करंट  प्रभावित होता है तब मोटर मेरी पंखुड़ियों को घुमाना प्रारंभ कर देती है और मेरी पंखुड़ियां तेज गति से घूमने लगती हैं जिससे एक हवा का निर्माण होता है और सभी लोग उस हवा के माध्यम से अपनी गर्मी को शांत करने का काम करते हैं । मेरी उपयोगिता गर्मियों के मौसम में बहुत अधिक बढ़ जाती है । यदि मैं किसी तरह की परेशानी या समस्या से जूझ रहा होता हूं तो सभी लोग मेरी मरम्मत कराने के लिए मैकेनिक के पास ले जाते हैं । जो मैकेनिक मेरे अंदर की कमी पहचान कर मेरी मरम्मत करता है और मैं एक अच्छी हवा देने लगता हूं ।

गर्मी के समय में जब लाइट चली जाती है तब मैं शांत रहता हूं और जब मैं शांत रहता हूं तो सभी पसीने में भीग जाते हैं और सभी को तेज गर्मी लगने लगती है । जब लाइट चली जाती है  तब सभी लोग लाइट के आने का इंतजार करते हैं और वह यह इंतजार करते हैं कि कब लाइट आएगी और कब हम पंखे के माध्यम से हवा प्राप्त करेंगे । जब लाइट आ जाती है तब मैं बहुत तेज गति से चलने लगता हूं , मेरी पंखुड़ियां तेज गति से चलने लगती है और मैं दूर तक हवा लोगों को देता रहता हूं ।

मेरा उपयोग आज सभी घरों के साथ-साथ बाजार की दुकानों में , सिनेमा थियेटरों में , मंदिरों में , मस्जिदों में कई धार्मिक स्थलों पर भी मेरा तेजी से उपयोग किया जा रहा है । आज कई कंपनियों के द्वारा मेरा आविष्कार किया जाने लगा है । मैं मोटर के माध्यम से  चलने वाला उपकरण हूं । शहरों के साथ साथ गांव में भी मेरा उपयोग तेज गति से किया जा रहा है । मेरी उपयोगिता को देखते हुए वैज्ञानिकों के द्वारा मुझे और भी सुलभ सरल बनाने के लिए , सुंदर अद्भुत बनाने के लिए कार्य किए जा रहे हैं ।मेरे निर्माण मे नई नई टेक्नोलॉजी का उपयोग आज किया जा रहा है ।

मैं एक पंखा होने पर गर्व महसूस करता हूं क्योंकि मैं पूरी दुनिया में पहचाना जाता हूं । पूरी दुनिया में मेरी उपयोगिता बड़ी है और सभी लोग मेरा उपयोग करके गर्मी के मौसम में ठंडी ठंडी हवा का अनुभव करते हैं ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह जबरदस्त आर्टिकल पंखे की आत्मकथा निबंध Pankhe ki atmakatha in hindi यदि आपको पसंद आए तो सबसे पहले आप सब्सक्राइब करें इसके बाद अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों में शेयर करना ना भूलें । दोस्तों यदि आपको इस आर्टिकल में कुछ कमी नजर आती है तो आप हमें उस कमी के बारे में अवगत अवश्य कराएं जिससे कि हम उस कमी को सुधार कर यह आर्टिकल आपके समक्ष पुनः अपडेट कर सकें धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *