नक्सलवाद पर निबंध इन हिंदी naksalwad essay in hindi

naksalwad essay in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं नक्सलवाद पर लिखे इस निबंध को । चलिए अब हम पढ़ेंगे नक्सलवाद पर लिखें इस निबंध को । नक्सलवाद हमारे भारत देश की सबसे बड़ी समस्या बनी हुई है । नक्सलवादियों के लिए इंसानियत नाम की कोई चीज नहीं होती है । नक्सलवादी किसी पर भी हमला करके उसको नुकसान पहुंचा देते हैं ।

नक्सलवादी के दिमाग में सिर्फ भारत के सैनिकों एवं पुलिस पर हमला करने की सोच होती है । नक्सलवादी भारत के विकास में बांधा डालते हैं । ऐसी घटनाएं हम नक्सलवाद के द्वारा देख चुके हैं जिस घटना से हमें काफी नुकसान हुआ है । हमारे देश को भी काफी नुकसान नक्सलवाद के कारण झेलना पड़ा है ।

naksalwad essay in hindi
naksalwad essay in hindi

image source –https://www.aajkiawaaz.com/

नक्सलवादी लोग सरकार के खिलाफ खड़े होकर सरकारी डिपार्टमेंट पर हमले करते हैं । छोटे-छोटे बच्चों को बंदी बनाकर सरकार से अपनी मांगे मनवाते हैं । हम कई बार नक्सलवादियों के द्वारा किए गए हमलों को देख चुके हैं । उड़ीसा के कलेक्टर को बंधक बनाकर नक्सलियों ने यह बता दिया कि वह कभी भी हमला करने में सक्षम है ।

छत्तीसगढ़ के नारणपुरा में उन्होंने सीआरपीएफ के 36 जवानों को मार कर यह साबित कर दिया है कि वह कभी भी कुछ भी कर सकते हैं । नक्सलवादी हमेशा पुलिस एवं सुरक्षा बलों पर हमला करते रहते हैं । यह हमारे भारत देश के विकास को रोकते हैं । नक्सलवादियों ने 6 अप्रैल 2010 को दंतेवाड़ा क्षेत्र में हमारे भारत देश के सीआरपीएफ जवानों पर हमला कर दिया था और काफी हथियार लूट लिए थे ।

नक्सलवादी इन हथियारों को लूट कर देश में अफरा-तफरी मचाने का काम करते हैं । नक्सलवादी देश की सुख शांति को बर्बाद करने का काम करते हैं । नक्सलवादियों का कोई भी धर्म नहीं होता है । वह सभी धर्म के लोगों को मार देते हैं । 2009 में नक्सलियों ने बंगाल राज्य के लालगढ़ को बंदूक की ताकत दिखाकर बंदी बना लिया था । यह कहा जाता है कि भारत के लगभग 20 राज्यों के 170 जिलों में नक्सलवादी अपना नेटवर्क बना चुके हैं ।

हम आज देख रहे हैं की जम्मू कश्मीर में कई नक्सलवादी जन्म ले रहे हैं । वह नक्सलवादी भारतीय जवानों पर पत्थर से हमला करते हैं । नक्सलवादी भारत देश में नेपाल से आंध्र प्रदेश तक अपनी धाक जमा चुके हैं । 2008 में नक्सलवादी 1591 हमले कर चुके हैं जिसमें हमारे भारत के लगभग 200 सैनिक शहीद हो चुके हैं । गांव के लोगों को धर्म के नाम पर एवं देश के नाम पर भड़का कर नक्सलवादी बना देते हैं ।

उनके दिमाग में एक ही बात भर देते हैं की यह देश तुम्हारे साथ अन्याय कर रहा है यदि तुम न्याय चाहते हो तो अपने हाथों में हथियार उठा लो और वह अपने हाथों में हथियार उठा लेते हैं । सबसे ज्यादा अनपढ़ व्यक्ति ही नक्सलवादि बनते हैं क्योंकि उनमें सोचने समझने की शक्ति नहीं होती है । वह बंदूक की नोक पर सरकार से अपनी मांग मनवाते हैं । वह यह नहीं जानते हैं कि नक्सलवादी बनने से उनका कोई भी फायदा नहीं होने वाला है ।

नक्सलवादी कभी भी पुलिस की मुठभेड़ में मारे जा सकते हैं । छत्तीसगढ़ राज्य की सरकार एवं केंद्र की सरकार मिलकर नक्सलवादियों के खिलाफ जंग लड़ रही हैं । छत्तीसगढ़ राज्य में नक्सलवादियों के ठिकाने पर कई बार दबिश दी जा चुकी है काफी नक्सलवादियों को मारने में सीआरपीएफ के जवानों को सफलता मिली है । जब हम देखते हैं कि 15 से 18 साल के युवा नक्सलवादी बन रहे हैं तब हमें बड़ा ही दुख होता है । जिन लोगों के हाथ में किताबे होना चाहिए उनके हाथो में बंदूके हैं । हमारे भारत देश की संसद ने भी नक्सलवादियों को लेकर काफी चिंता व्यक्त की है ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल नक्सलवाद पर निबंध इन हिंदी naksalwad essay in hindi आपको पसंद आए तो सब्सक्राइब जरूर करें धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *