मेरा प्रिय खिलौना पर निबंध My Favorite Toy Essay in Hindi

My Favorite Toy Essay in Hindi

mera pasandida khilona essay-दोस्तों अक्सर स्कूल के विद्यार्थियों से कई विषयों पर निबंध पूछे जाते हैं इसलिए आज हम विद्यार्थियों के लिए लाए हैं मेरा पसंदीदा खिलौना पर लिखा गया निबंध तो चलिए पढ़ते हैं आज के हमारे इस निबंध को

My Favorite Toy Essay in Hindi
My Favorite Toy Essay in Hindi

हर एक बच्चे का एक पसंदीदा खिलौना होता है जब मैं छोटा था तो मुझे भी खिलौनों से खेलना बहुत भाता था जब भी मेरा जन्मदिन आता था तो मेरे चेहरे पर एक मुस्कान आ जाती थी क्योंकि मुझे पता होता था कि इस दिन मेरे मम्मी पापा, मामा मामी, चाचा चाची सभी रिश्तेदार मेरे लिए नए नए खिलौने लाएंगे जब मेरा जन्मदिन आया तो मेरे लिए सभी खिलौने लेकर आए लेकिन मेरे मामा जी मुझे एक रिमोट से चलने वाला खिलौना लाए यह थी एक लाल रंग की कार जो कि रिमोट से चलती थी।

जब जन्मदिन के दिन मामा जी ने मुझे वह कार गिफ्ट की तो पहले तो मैं ज्यादा खुश नहीं हुआ क्योंकि मैंने सोचा कि साधारण सी कार होगी लेकिन जब मुझे बताया गया कि यह कार रिमोट से चलती है तो मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा मुझे बहुत ही खुशी हुई और मैं अक्सर उसके साथ खेलता। मैं सुबह 7:00 बजे से 12:00 बजे तक स्कूल जाता था और स्कूल से आते ही मैं अपनी रिमोट वाली कार से खेलना शुरु कर देता था।

शाम को जब भी मुझे वक्त मिलता था मैं पढ़ाई के बाद अपनी रिमोट वाली कार से खेलता था यह मेरा बहुत ही पसंदीदा खिलौना था। सबसे बड़ी बात यह थी कि जब भी मैं किसी खिलौने के साथ खेलता था तो कुछ ही दिनों में मैं उस खिलौने से बोर हो जाता था लेकिन रिमोट वाली कार की तो बात ही कुछ अलग थी उसके साथ खेलना मुझे बहुत भाता था जब रविवार के दिन मेरे स्कूल की छुट्टी रहती थी तो सुबह से ही मैं अपने दोस्तों के साथ अपनी रिमोट वाली कार के साथ खेलता था।

रविवार के दिन मेरे मम्मी पापा मुझे ज्यादा खेलने से नहीं रोकते थे क्योंकि रविवार का दिन छुट्टी मनाने का ही दिन होता है उस दिन तो मुझे खेलना ही खेलना होता था। मुझे बहुत खुशी होती थी की मैं अपनी रिमोट वाली कार को कभी भी किसी को नहीं दू। एक बार जब बहुत दिनों के बाद मेरी रिमोट वाली कार खराब हो गई तो मैंने पापा से एक और नई कार लाने को कहा क्योंकि यह मेरा पसंदीदा खिलौना था

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल My Favorite Toy Essay in Hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *