मोर की आत्मकथा Mor ki atmakatha in hindi

Mor ki atmakatha in hindi

Mor ki atmakatha – दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मोर की आत्मकथा के बारे में बताने जा रहे हैं । तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस आर्टिकल को पढ़कर मोर की आत्मकथा के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हैं ।

Mor ki atmakatha in hindi
Mor ki atmakatha in hindi

मोर की आत्मकथा – मैं मोर बोल रहा हूं , मैं बहुत ही सुंदर पक्षी हूं । जो भी मुझे देखता है वह मेरे सुंदर रंग बिरंगे पंखों को देखकर आनंद प्राप्त करता है । मुझे अकेले रहना पसंद नहीं है । मैं मेरे मोर मित्रों के साथ रहना पसंद करता हूं । मैं बड़े घने पेड़ की मोटी डाली पर बैठना पसंद करता हूं । मेरे पंख काफी बड़े होते हैं इसीलिए में आसानी से बहुत दूर तक उड़ने में समर्थ  हूं । यदि मेरे शरीर की बात आपको बताऊं तो मेरे शरीर का रंग चटक नीला और बैगनी रंग का होता है जिससे मेरी सुंदरता और भी सुंदर दिखाई देती है ।

जो भी व्यक्ति मुझे पंख फैलाते हुए देखता है वह अपने जीवन में सुख समृद्धि व आनंद प्राप्त करता है । पक्षियों की कई प्रजाति होती है उन सभी पक्षियों की प्रजातियों में मैं सबसे बड़ा पक्षी हूं । पंख बड़े होने पर मैं आसानी से एक पेड़ से दूसरे पेड़ पर उड़कर बैठने में समर्थ हूं । मुझे छोटे-छोटे बच्चों से लेकर बड़ी बड़ी उम्र के लोगों को भी मेरी सुंदरता बहुत ही सुंदर लगती है । बरसात के समय जब हल्की हल्की बारिश होती है तब में अपने रंग बिरंगे पंख फैलाकर झूमता नाचता गाता हू । मैं भारत देश में सबसे अधिक संख्या में पाया जाता हूं ।

मेरी प्रजाति सबसे अधिक भारत के राजस्थान , उत्तर प्रदेश , हरियाणा में सबसे अधिक पाई जाती है । जब दूर-दूर से आए हुए पर्यटक मुझे देखते हैं तब मेरी सुंदरता से बहुत प्रसन्न हो जाते हैं । आज मेरी प्रजाति के पक्षी जंगलों और चिड़िया घरो मे  पाए जाते हैं । मेरी सुंदरता को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं और चिड़िया घर आकर मेरी सुंदरता को देखकर अपने जीवन में सुख समृद्धि आनंद प्राप्त करते हैं । मेरी आवाज बहुत तेज होती है । जब मैं अपनी आवाज निकालती हू तब  मेरी आवाज तकरीबन 2 किलोमीटर दूर तक जाती है । मुझे पूरी दुनिया के लोग पसंद करते हैं ।

मुझे पूरी दुनिया के लोग इसलिए पसंद करते हैं  क्योंकि मेरे पंखों के रंग बहुत ही सुंदर मन मोह लेने वाले दिखाई देते हैं । जब छोटे छोटे बच्चे मेरी सुंदरता को देखते हैं तब वह सभी   बच्चे मेरी सुंदरता को बार बार देखने के लिए जिद करते है । जब चिड़िया घरो मे बच्चे मुझे देखते हैं तब बच्चे आनंद ही आनंद प्राप्त करते हैं । मेरे पंखों को बहुत ही शुभ माना गया है क्योंकि मेरे पंखों को भगवान श्री कृष्ण के द्वारा अपने मुकुट में लगाया गया है । मुझे भगवान श्री कृष्ण भी पसंद करते हैं । मैं गांव के खेतों , जंगलों में सबसे अधिक निवास करता हूं क्योंकि मुझे उछलना कूदना और अपने पंख फैलाना बहुत अच्छा लगता है ।

जब रिमझिम रिमझिम पानी की बूंदे गिरती है तब मुझे बहुत अच्छा लगता है और मैं पखं फैला कर नाचने लगता हू । मैं एक शाकाहारी पक्षी हू । मेरी मुख्यतः दो प्रजाति होती हैं । भारत , श्रीलंका , नेपाल में मैं नीले रंग का सबसे अधिक होता हूं । हरे रंग की प्रजाति इंडोनेशिया , म्यामार में सबसे अधिक पाई जाती है । अफ्रीका के वर्षा वनों के क्षेत्रों में मेरी कांगो प्रजाति पाई जाती है । इस तरह से मैं हरे और नीले रंग की प्रजाति का हूं ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह बेहतरीन आर्टिकल मोर की आत्मकथा Mor ki atmakatha in hindi यदि आपको पसंद आए तो सबसे पहले आप सब्सक्राइब करें । इसके बाद अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों में शेयर करना ना भूले । दोस्तों यदि आपको इस आर्टिकल में कुछ कमी नजर आए तो आप कृपया कर उस कमी के बारे में हमारी ईमेल आईडी पर अवश्य बताएं जिससे कि हम उस कमी को दूर करके यह आर्टिकल आपके समक्ष पुनः प्रस्तुत कर सके धन्यवाद ।

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *