मीठी वाणी बोलिए पर निबंध mithi vani boliye essay in hindi

mithi vani boliye essay in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं मीठी वाणी बोलिए पर निबंध । इस निबंध के माध्यम से हम आपको यह बताने जा रहे हैं कि मनुष्य की मीठी वाणी से वह सभी का दिल जीत सकता है एवं दुनिया में मिठास ला सकता है । चलिए अब हम पढ़ेंगे मीठी वाणी बोलिए पर निबंध ।

मीठी वाणी बोलिए यह लाइन 1 दोहे से ली गई है। इसका अर्थ है कि हम सभी को सदैव मीठी वाणी बोलना चाहिए । जब हम सामने वाले व्यक्ति से मीठी वाणी बोलते हैं तो वह प्रसन्न हो जाता है और हमारी इज्जत करता है । वह हमें सदैव मान सम्मान देता है। जिस व्यक्ति की मीठी वाणी होती है वह सदैव सोच-समझ करके बोलता है । वह कभी भी किसी व्यक्ति से गलत नहीं बोलता है । जब हम किसी से कोई गलत नहीं बोलेंगे तो दूसरा व्यक्ति भी हमसे कभी भी कोई गलत बात नहीं बोलता । हमें सदैव यह कोशिश करना चाहिए कि हम सामने वाले व्यक्ति से मधुर बोले, मीठा बोले । हमारे बोलने से उस व्यक्ति को किसी प्रकार से बुरा नहीं लगना चाहिए ।

mithi vani boliye essay in hindi
mithi vani boliye essay in hindi

image source – http://balsanskar.ashram.org/

मीठी वाणी बोलने से हमें शांति मिलती है । हमारे अंदर किसी तरह का छल कपट नहीं होता है । जब हम मीठी वाणी बोलते हैं तब हमारा कोई भी दुश्मन नहीं होता है । सभी हम से प्रेम करते हैं और हमारा सम्मान करते हैं । जो व्यक्ति दूसरे से क्रोध करता है उसको गलत बोलता है वह कभी भी सुखी नहीं रहता है, उसका दिल कभी भी शांत नहीं रहता है । वह सदैव परेशान रहता है । हमारे देश के कई कवियों ने कहानी, उपन्यास और दोहे के माध्यम से बताने की कोशिश की है कि हम सभी को सदैव मीठी वाणी बोलना चाहिए । जब हम मीठी वाणी बोलते हैं तो सामने वाला व्यक्ति हमारा मान सम्मान करता है । जो व्यक्ति मीठी वाणी बोलता है वह हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर लेता है । जब हम कोई बिजनेस करते हैं तब हमें सदैव लोगों से अच्छी बातें करना चाहिए उनसे कभी क्रोध नहीं करना चाहिए जिससे कि हमारे पास ज्यादा से ज्यादा ग्राहक आए और हमारी आमदनी बढ़ सके ।

हमें सदैव मीठी वाणी बोलना चाहिए जिससे कि लोग हमसे प्यार करें और हमारे पास आकर बैठे हमसे बातचीत करें । हमें सदैव दूसरों से अच्छी अच्छी बातचीत करना चाहिए । हमें कभी भी ऐसी बात नहीं करना चाहिए जिससे उसके दिल पर ठेस पहुंचे और वह हमसे नफरत करने लगे । जब कोई व्यक्ति किसी से नफरत करता है तो वह कुछ भी कर सकता है । हमें कभी भी दुश्मन नहीं बनाने चाहिए । सभी को अपनी मीठी वाणी से दोस्त बनाना चाहिए । इस दुनिया में जो व्यक्ति मीठी वाणी बोलता है वह कभी भी किसी से दुश्मनी नहीं करता है और ना ही क्रोध करता है । हमें ईश्वर ने बनाया है और हमें सब कुछ दिया है । ईश्वर ने हमें वाणी दी है इस वाणी से हमें सदैव मीठी वाणी बोलना चाहिए ।

हम जिस क्षेत्र में काम कर रहे हैं उस क्षेत्र में सफलता प्राप्त करना है तो हमें अपनी वाणी को मीठा करना होगा । जब हम सामने वाले व्यक्ति से अच्छे से बात करते हैं, विनम्रता से बात करते हैं तब वह व्यक्ति हमारी बातों को ध्यान से सुनता है और हमारी कही गई बात पर विचार करता है । जो व्यक्ति किसी व्यक्ति से बुरा बोलता है तब सामने वाला व्यक्ति यह सोचता है कि यह तो खराब व्यक्ति है इस से बातचीत करना नहीं चाहिए ,इसके संस्कार अच्छे नहीं है । यह किसी के साथ में अच्छा नहीं कर सकता है । उस व्यक्ति से कभी भी कोई व्यक्ति बोलता नहीं है । जो व्यक्ति दूसरों से अच्छा व्यवहार रखता है मीठी वाणी बोलता है उसके आसपास कई सारे लोग बैठे रहते हैं । उससे कोई भी बातचीत करने से घबराता नहीं है क्योंकि वह जानते हैं कि यह व्यक्ति बहुत ही अच्छा है । यह कभी भी किसी का बुरा नहीं कर सकता है । एक दोहा के माध्यम से कवि ने बताया है कि हमें सदैव मीठी वाणी बोलना चाहिए ।

दोहा – ऐसी वाणी बोलिए ,मन का आपा खोय । औरन को शीतल करे ,आपहु शीतल होय।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख मीठी वाणी बोलिए पर निबंध mithi vani boliye essay in hindi आपको पसंद आए तो शेयर जरूर करें धन्यवाद ।

5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *