मेरा मनोरंजन पर निबंध mera manoranjan 250 essay in hindi

mera manoranjan 250 essay in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, आज हम आपके लिए लाए हैं मेरा मनोरंजन पर मेरे द्वारा लिखित यह निबंध आप इसे पढ़ें और अपनी स्कूल की परीक्षाओं की तैयारी यहां से करें

mera manoranjan 250 essay in hindi
mera manoranjan 250 essay in hindi

मनोरंजन के आजकल के आधुनिक युग में कई तरह के साधन हैं जैसे कि खेलना कूदना, टीवी देखना, इंटरनेट चलाना, कई मनोरंजक कहानियां पढ़ना आदि। इन मनोरंजन के साधनों के जरिए हम अपने जीवन के खाली समय को सही तरह से बिता पाते हैं और एक बहुत ही बेहतरीन जिंदगी जी पाते हैं।

लोगों के मनोरंजन के साधन अलग-अलग होते हैं मेरा मनोरंजन का साधन मनोरंजक किताबें पढ़ना है। कई किताबें जिनमें कई तरह की जंगली जानवरों आदि की बेहतरीन कहानियां होती हैं वह किताबें मैं पढ़ने के लिए ही जागरुक हो जाता हूं। मैं रोजाना शाम को सोने से पहले रोजाना अपनी पसंदीदा किताबें पढ़ता हूं यह मेरी आदत तब से हैं जब मैं बहुत छोटा था।

मैं पहले कॉमिक्स की किताबें पढ़ता था उसमें भी बड़ी ही मनोरंजक कहानियां आती थी, मेरी उन कहानियों की किताबों में जंगली जानवरों की कहानियों के अलावा सिंदबाद जहाजी, अकबर बीरबल आदि की किताबें भी शामिल हैं, यह किताबें मेरा काफी मनोरंजन तो करती हैं साथ में मुझे बहुत ही नॉलेज भी देती हैं। मेरे पिताजी मेरे लिए कई तरह की मनोरंजन की किताबें लाते हैं इन किताबों से मेरा मनोरंजन होता है।

मेरा मनोरंजन करने का तरीका मेरे माता-पिता सभी को बहुत ही भाता है जब भी कोई मेरे घर में रिश्तेदार आते हैं तो वह मेरे माता-पिता से कहते हैं कि आपका लड़का तो बहुत ही अच्छा है यह हमेशा पढ़ाई पर ध्यान देता है ज्यादातर बच्चों को खेलना कूदना बहुत ही भाता है, कुछ बच्चों को क्रिकेट खेलना बहुत ही पसंद आता है लेकिन मेरा मनोरंजक साधन सबसे ज्यादा केवल शिक्षाप्रद कहानियां पढ़ना ही है, जो मुझे बहुत ही भाता है।

दोस्तों मुझे बताएं कि मेरे द्वारा लिखित यह निबंध आपको कैसा लगा, यदि आपको पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूलें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *