महामारी एक अभिशाप पर निबंध mahamari ek abhishap essay in hindi

mahamari ek abhishap essay in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं महामारी एक अभिशाप पर मेरे द्वारा लिखित यह निबंध आप इसे जरूर पढ़ें तो चलिए पढ़ते हैं महामारी एक अभिशाप पर मेरे द्वारा लिखित इस निबंध को

महामारी एक अभिशाप है, जब कोई संक्रामक रोग बहुत ही तेजी से फैलने लगे जिसकी वजह से कई लोग एक साथ मरने लगे तो उसे महामारी कहते हैं। महामारी एक बहुत बड़ा अभिशाप है क्योंकि इस महामारी की वजह से हजारों लाखों करोड़ों लोग बहुत ही कम समय में मारे जाते हैं इससे देश दुनिया को काफी नुकसान झेलना पड़ता है।

इससे आर्थिक मंदी आने का भी खतरा रहता है। हर 100 साल में एक बड़ी महामारी देखी गई है जिसने लाखों करोड़ों लोगों की जानें ली हैं। पता नहीं यह एक संयोग ही है या फिर और कुछ है हर 100 साल में कोई ना कोई ऐसी महामारी जरूर आती है जो बहुत सारे लोगों की जान लेती है। सन 1720 में द ग्रेट फ्लैग ऑफ मार्सेल नामक बीमारी की वजह से 100000 लोग मारे गए थे इसके 100 साल बाद यानी सन 1820 में एशियाई देशों में एक और महामारी फैली जिसको कहते हैं हैजा, इस हैजा बीमारी की वजह से 100000 से भी ज्यादा लोगों की जानें गई थी

इसके 100 साल बाद लगभग 1920 में एक और नई बीमारी महामारी का रूप ले चुकी थी, इस बीमारी का नाम था स्पेनिश फ्लू। इस बीमारी की वजह से 5 करोड़ लोग मारे गए थे वैसे यह महामारी सन 1918 में भी आई थी लेकिन हमारे भारत देश में यह सन् 1920 में फैली थी। इसके बाद एक बार फिर से 100 साल बाद एक और महामारी आज हमारी इस पूरी दुनिया में है जो है कोरोनावायरस।

कोरोनावायरस एक ऐसी महामारी का रूप ले चुकी है जिसकी वजह से अभी हाल ही में हजारों लोग मारे गए हैं लेकिन अभी भी यह महामारी रुकने का नाम नहीं ले रही है, यह बहुत ही तेजी से फैलती जा रही है चीन, अमेरिका, इटली आदि ऐसे देश हैं जहां हजारों लोग मारे जा चुके हैं। अभी यह महामारी भारत देश में भी तेजी से फैलती हुई दिख रही है। सरकार ने इस महामारी को दूर करने के लिए लॉक डाउन करने का फैसला लिया, यह महामारी दिन प्रतिदिन एक विकराल रूप ले रही है यह एक अभिशाप की तरह है।

यदि हमने जल्द से जल्द इस महामारी से बचने के लिए एकमात्र उपाय लॉक डाउन का पालन नहीं किया तो इस पूरी दुनिया का बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है। हमारे भारत देश में भी हम सभी को काफी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

स्पेनिश फ्लू जब हमारे भारत देश में सन 1920 में तेजी से फैला था तो कई सारे लोग मारे गए थे, हर गांव हर शहर तक यह महामारी फैल चुकी थी कई लोगों ने अपने रिश्तेदार, बीवी, बच्चों, मां-बाप मैं से कई लोगों को खो दिया था। कई दशकों तक तो भारत देश की जनता इस महामारी को नहीं भूल पाई थी लेकिन समय गुजरता गया आज स्पेनिश फ्लू को 100 साल हो चुके हैं। आज कोरोना वायरस की वजह से कई सारे लोग दिन-प्रतिदिन मारे जा रहे हैं। हम सभी को इस भयंकर आपदा से बचने के लिए सरकार के निर्देशों का पालन करना चाहिए।

कोरोना वायरस हमारे देश के लिए, हमारे समाज के लिए एक बहुत बड़ा अभिशाप है यह एक ऐसी महामारी है जिसको यदि हमने अभी रोकने का प्रयत्न नहीं किया यानी कि हमने लॉक डाऊन का पालन नहीं किया तो वास्तव में हमें आने वाले समय में बहुत बुरे दिन देखने पड़ सकते हैं इसलिए हमें इस महामारी रूपी अभिशाप के विषय पर विचार करने की जरूरत है और सरकार के निर्देशों का पालन करने की जरूरत है तभी हम सुरक्षित रह सकते हैं।

दोस्तों मेरे द्वारा लिखित यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं इसी तरह के बेहतरीन आर्टिकल को पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *