कुम्भ मेला कहा कहा लगता है kumbh mela kaha kaha hota hai

kumbh mela kaha kaha hota hai

दोस्तों कैसे हैं आप सभी,आज के हमारे आर्टिकल में हम आपको बताने वाले हैं कुंभ मेला कहां-कहां होता है दोस्तों कुंभ मेला वह मेला है जो हर 12 वर्ष के अंतराल में लगता है.धार्मिक कथाओं के अनुसार जब देवताओं और असुरों में अमृत पाने के लिए युद्ध हुआ था तब अमृत की बूंदे जिन स्थानों पर गिरी उन स्थानों पर कुंभ मेला लगाया जाता है वास्तव में यह कुंभ मेला देखना जरूर चाहिए इस कुंभ मेले को देखने के लिए देश से ही नहीं बल्कि विदेश के भी बहुत सारे धार्मिक श्रद्धालु लोग इसे देखने के लिए आते हैं.

kumbh mela kaha kaha hota hai
kumbh mela kaha kaha hota hai

कुंभ मेला चार जगह लगाया जाता है क्योंकि कहते हैं कि इन चार जगहों पर ही अमृत की बूंदे गिरी थी चलिए जानते हैं इन पवित्र देव स्थानों के बारे में

हरिद्वार-

हरिद्वार एक बहुत ही पावन देवस्थान है इसे हम हरिद्वार के अलावा मायापुरी, गंगाद्वार और मोक्ष द्वार आदि नामों से भी जानते हैं यहां पर हर साल हजारों लाखों श्रद्धालु तीरथ करने के लिए आते हैं यहां पर अमृत की कुछ बूंदे गिरी थी इसलिए यहां पर कुंभ मेला लगाया जाता है.

इलाहाबाद-

इलाहाबाद में भी हमें बहुत सारे देव स्थानों के दर्शन होते हैं इस स्थान पर भी अमृत की कुछ बूंदे गिरी थी जिस वजह से यहां पर भी कुंभ का मेला लगाया जाता है इस स्थान के भी दर्शन का विशेष महत्व है.

Related- बूंद की आत्मकथा Boond ki atmakatha in hindi

नाशिक-

नाशिक-यह एक देवस्थान है यहां पर एक बहुत ही पवित्र गोदावरी नदी बहती हैं जिसमें नहाकर लोग अपने पाप कर्मों को दूर करते हैं और मोक्ष की प्राप्ति पाते हैं.यहां पर शिवरात्रि का त्यौहार भी बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है इस स्थान पर भी अमृत की कुछ बूंदें मिली थी जिस वजह से यहां पर भी कुंभ का मेला लगाया जाता है.

उज्जैन-

उज्जैन मध्य प्रदेश में स्थित है हर साल लाखों श्रद्धालू इस स्थान के दर्शन के लिए आते हैं यहां पर शिप्रा नदी बहती है यहां पर भी अमृत की कुछ बूंदे गिरी जिससे यहां पर 12 वर्षों में कुंभ का मेला लगाया जाता है.

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल kumbh mela kaha kaha hota hai पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा इसी तरह के नए-नए आर्टिकल पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *