क्रोध पर नियंत्रण पर निबंध krodh par niyantran essay in hindi

Krodh par niyantran essay in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल krodh par niyantran essay in hindi आप सभी के लिए बहुत ही प्रेरक साबित होगा दोस्तों आज हमारे देश में बहुत सारे लोग ऐसे लोग हैं जो क्रोध करते हैं वह अपने क्रोध पर नियंत्रण पाना चाहते हैं उनके लिए हमारा ये आर्टिकल बहुत महत्वपूर्ण है और परीक्षा में लिखने के लिए भी यहाँ से जानकारी लेने के लिए हमारे द्वारा निबंध प्रस्तुत किया जा रहा है तो चलिए पढ़ते हैं हमारे आज के इस निबंध को

krodh par niyantran essay in hindi
krodh par niyantran essay in hindi

क्रोध इंसान के लिए बहुत ही खतरनाक होता है कहते है दुश्मन हमको बहुत नुकसान पहुचाता है लेकिन वास्तव में हमारा क्रोध किसी दुश्मन से कम नहीं होता वो दुश्मन से बढ़कर हमें नुक्सान पहुचा सकता हैं.आजकल के हमारे इस आधुनिक युग में हमारे देश में बहुत सारी समस्याएं हैं जिन समस्याओं के कारण लोग दुखी हैं और यही दुख कभी-कभी उनके क्रोध का कारण बन सकता है

लोगों के क्रोधित होने के कई कारण हो सकते हैं कोई अपने परिवार वालों से क्रोधित है,कोई अपने दोस्तों और रिश्तेदारों पर क्रोधित होता है तो कोई अपने बिजनेस पाटनर से.उनका क्रोधित क्रोधित होना अपने अपने हिसाब से सही या गलत भी हो सकता है लेकिन कभी-कभी ये क्रोध हमारे लिए बहुत ही घातक सिद्ध हो सकता है.

इंसान अक्सर क्रोध में आकर बहुत कुछ ऐसा कर देता है जो उसे नहीं करना चाहिए.कुछ लोग क्रोध में आकर अपशब्द कह देते हैं इसलिए ही क्रोध पर नियंत्रण रखना बहुत जरूरी है कहते हैं हमें हमेशा मीठी वाणी बोलना चाहिए लेकिन इंसान के द्वारा बोले गए कटु वचन जहर के समान होते हैं क्रोध नियंत्रित करके हम बहुत सारी परेशानियों से बच सकते हैं क्रोध पर नियंत्रण होना बहुत ही जरूरी है.

कभी-कभी इंसान क्रोध पर नियंत्रण न पाकर किसी दूसरे व्यक्ति पर हाथ उठा देता है जिसका पछतावा उसे बाद में होता है और क्रोध पर नियंत्रण ना होने के कारण इन्सान अपने parivar वालो से कभी कभी इतने अपशव्द कह देता है जिसके कारण उसके परिवार वाले उससे अलग हो जाते हैं हम सभी को क्रोध पर नियंत्रण रखना चाहिए क्योंकि क्रोध हमारे जीवन के लिए बहुत खतरनाक है.आज के जमाने में बहुत से लोग ऐसे हैं जिन्हें बार-बार क्रोध हो जाता है इसके लिए उनको ऐसे लोगों के साथ रहना चाहिए जिनका स्वभाव अच्छा हो,जो हमेशा खुश रहते हैं क्योंकि कहते हैं जैसी संगत होती है वैसी रंगत होती है अगर आप अच्छे इंसानों के साथ रहोगे तो आपका क्रोध नियंत्रित रहेगा.

Related-खुशी पर निबंध व कविता

अगर आपका क्रोध बहुत ज्यादा बढ़ जाता है तो आपको इसके अलावा डॉक्टर से भी सलाह लेने की जरूरत है आपका डॉक्टर आपको उचित सलाह भी देगा और कुछ दवाइयां भी देगा जिससे आपका क्रोध कुछ हद तक नियंत्रित हो सकता है.कुछ लोग तो क्रोध मैं इतने पागल हो जाते हैं कि उनका खुद पर बिल्कुल भी नियंत्रित नहीं होता,उन्हे पता ही नहीं चलता कि मैं क्या कर रहा हूं ऐसे लोगों के लिए जरूरी है कि वह अपने क्रोध को नियंत्रित रखने के लिए उचित डॉक्टर से मिले.जब भी आपको लगे की आपका क्रोध ज्यादा हो रहा हैं तो आपको चाहिए कि आप ठंडा ठंडा पानी पी लें इससे आपका क्रोध कुछ नियंत्रित हो सकेगा

इसके अलावा क्रोध पर नियंत्रित करने के लिए आप किसी दूसरे विषय पर भी सोच कर सकते हैं यानी जैसे की आप किसी से बात कर रहे है और आपको ऐसा लग रहा है की इन बातो से आपका क्रोध बढ़ सकता हैं तो आपको चाहिए की टॉपिक बदलकर बात करना शुरू करे या उस व्यक्ति से इस बारे में बात करने से माना करदे जिससे आप क्रोध को बढ़ने से रोक सके या उस जगह से दूर जा सकते हैं जहां पर आपको किसी बात को लेकर टेंशन हो रही है जैसे की मान लेते हैं आपकी किसी से लड़ाई चल रही है तो आपको चाहिए कि किसी भी तरह उस जगह से चले जाएं जिससे आपका क्रोध नियंत्रित हो सकेगा और आप क्रोध में कुछ बुरा करने से बच सकोगे.क्रोध पर नियंत्रित करना बहुत जरूरी है.

अक्सर देखा गया है कि क्रोध पर ज्यादातर उन लोगों का नियंत्रण नहीं होता जो अकेले रहते हैं.अकेले रहने के कारण वह अपनी ही धुन में कुछ ना कुछ विचार विमर्श करते रहते हैं और एक तरह से आपका दिमाग आपके काबू में नहीं रहता और क्रोध जैसी समस्या उत्पन्न होती है.क्रोध को नियंत्रित रखने के लिए हम सभी को चाहिए कि सुबह जल्दी जागे और नियमित व्यायाम करें, हरी-हरी घास के ऊपर चले किसी अच्छे स्थान पर जाना शुरू करें मंदिर में जाएं या किसी बगीचे की सैर करना शुरु करें

इससे हो सकता है कुछ हद तक क्रोध पर कंट्रोल हो सके इस में सबसे ज्यादा जरुरी यह है जैसे कि मैंने आपको ऊपर बताया कि आप अपनी संगति बदलें जिन लोगो के चहरे पर हमेशा मुस्कान रहती हो ऐसे लोगो के साथ रहना शुरू करें इससे वाकई में आपको बहुत बदलाव देखने को मिलेगा.जब आप देखोगे की हंसमुख स्वभाव वाले अच्छे लोगों की संगत बहुत से लोग पसंद करते हैं,उनके बहुत से दोस्त होते हैं,जीवन में वह सफल इंसान बनते हैं तो आप भी जीवन में अच्छे और हंसमुख व्यक्ति बन सकते हो और जीवन में आप अपने क्रोध को नियंत्रित करके एक सफल इंसान बनते हुए बहुत सी प्रॉब्लम से निकल सकते हो.

दोस्तों अगर आपको हमारा यह आर्टिकल krodh par niyantran essay in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना ना भूले हैं और हमें कमेंट्स के जरिए बताएं कि आपको हमारा ये आर्टिकल krodh par niyantran essay in hindi कैसा लगा.अगर आप चाहे हमारी अगली पोस्ट को सीधे अपने ईमेल पर पाना चाहे तो हमें सब्सक्राइब जरूर करें.

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *