खजुराहो मंदिर का रोचक इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi

Khajuraho Temple History in Hindi

दोस्तों आज हम आपको खजुराहो मंदिर का रोचक इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं । इस मंदिर में किस तरह की कला प्रदर्शित की गई है एवं यह मंदिर कब बनवाया गया था ? यह मंदिर किस साम्राज्य के द्वारा बनाया गया था ? यह अब हम जानेंगे।

खजुराहो मंदिर मध्य प्रदेश में है । यह उत्तर प्रदेश के झांसी से 175 किलोमीटर दूर स्थित है । यह मंदिर 950-1050 में चंदेल साम्राज्य में बनवाए गए थे । जब चंदेल साम्राज्य में मंदिर का निर्माण किया था तब यहां पर 85 मंदिर थे और ये मंदिर 20 किलोमीटर वर्ग में फेले हुए थे । यह उस समय सबसे प्रसिद्ध मंदिर थे। ये सभी मंदिर उस समय के अच्छे कलाकारों के द्वारा बनाए गए थे । जब हम आज इस मंदिर को देखते हैं तब हमें उन कलाकारों की कला पर गर्व होता है । धीरे-धीरे समय बीतता गया और यह मंदिर प्रसिद्ध होते चले गए । इस मंदिर में सबसे अच्छा मंदिर कंदारिया महादेव मंदिर है यह मंदिर ढंगा के शासनकाल में बनवाया गया था । यह मंदिर 1017- 1029 ईसवी मैं बनवाया गया था।

Khajuraho Temple History in Hindi
Khajuraho Temple History in Hindi

इस मंदिर की दीवारें एवं कुरीतियों को मूर्तियों के द्वारा दर्शाया गया है । मध्य भारतीय क्षेत्र में खजुराहो मंदिर स्थित है । यहां के मंदिर पर 13 वी शताब्दी से 18 वी शताब्दी तक मुस्लिम शासकों का राज रहा था । 1495 में सिकंदर लोदी ने अपनी सेना के द्वारा खजुराहो के कई मंदिरों को नष्ट किया था । इसके बाद समय बीतता गया और वहां के हिंदू और जैन धर्म के लोगों ने इस मंदिर को बचाने के लिए बातचीत की और इस मंदिर की सुरक्षा के लिए आगे बड़े थे । अंग्रेजों का जब शासनकाल हमारे भारत में था तब उनके द्वारा भी इस मंदिर को सुंदर बनाया गया था । 1852 में अंग्रेजों के शासन काल में खजुराहो मंदिर की कलाकृति भी बनवाई गई थी ।

यह मंदिर बहुत ही सुंदर और रोचक हैं यहां पर जो लोग घूमने के लिए जाते हैं उनका मनोरंजन यहां पर होता है । यहां की दीवारें बहुत मोटी और मजबूत बनाई गई हैं । इनकी दीवारों पर कामोत्तेजक कलाकृतियां बनी हुई हैं । कुछ महान लोगों का यह मानना था कि प्राचीन काल में यहां पर काममुकता का अभ्यास किया जाता होगा । कुछ लोगों का यह भी मानना था कि काममुक कलाकृतियां हिंदू परंपरा का ही एक हिस्सा है । अंग्रेजों के एक व्यक्ति गेम्स ने अपने कामसूत्र के इतिहास में खजुराहो के मंदिर का भी वर्णन किया हैं ।

इन मंदिरों के आसपास बहुत जंगल है वहां पर आज भी देश एवं विदेश के लोग घूमने के लिए आते हैं । जब वह कामोत्तेजक कलाकृतियां बाली मूर्तियां देखते हैं तो उन्हें बड़ा ही आनंद आता है । जब इन मंदिरों का निर्माण किया गया था तब 85 मंदिर यहां पर थे लेकिन आज यहां पर मात्र 20 मंदिर ही बचे हुए हैं जोकि 6 किलोमीटर वर्ग में फैले हुए हैं । यहां पर हिंदू धर्म के लोगों के एवं जैन धर्म के लोगों के मंदिर हैं और यहां पर हिंदू एवं जैन धर्म के लोग घूमने के लिए आते हैं । यहां पर कंदरिया महादेव मंदिर सबसे बड़ा मंदिर है हिंदू धर्म के लोग इस मंदिर को घूमने के लिए जरूर जाते हैं । पहले यहां पर कच्ची सड़के थी जिससे कि लोगों को यात्रा करने में परेशानियों का सामना करना पड़ता था लेकिन आज खजुराहो मंदिर को हाईवे की सड़क से जोड़ दिया गया है और आज कई साधन वहां पर चलाए जा रहे हैं ।

उन साधनों से लोग वहां पर घूमने के लिए जाते हैं कई लोग अपने परिवार के साथ फोर व्हीलर से घूमने के लिए भी जाते हैं । यह हमारे भारत का सबसे अच्छा खजुराहो का मंदिर है । यहां पर कई राजाओं ने कब्जा करने की कोशिश की थी । कई राजाओं ने यहां पर मंदिरों के निर्माण भी करवाए थे । दोस्तों हमें यहां पर घूमने में बड़ा ही आनंद महसूस होता है यदि आप यहां पर घूमने के लिए नहीं गए हो तो जरूर घूमने के लिए जाए । यह मध्य प्रदेश में स्थित है यहां की कलाकृतियों से हमारा मन प्रसन्न हो जाता है । आप लोग जरूर यहां पर घूमने के लिए जाएं धन्यवाद।

हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल खजुराहो मंदिर का रोचक इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi आपको पसंद आए तो शेयर जरूर करें धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *