जल है तो कल है निबंध Jal hai to kal hai essay in hindi

Jal hai to kal hai essay in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, आज का हमारा आर्टिकल जल है तो कल है आप सभी के लिए बहुत ही हेल्पफुल है। हमारे आज के इस आर्टिकल में हम आपको जल है तो कल है की विषय पर जानकारी देंगे तो चलिए पढ़ते हैं आज के इस निबंध को।

Jal hai to kal hai essay in hindi
Jal hai to kal hai essay in hindi

जल हमारे लिए बहुत ही जरूरी होता है जल का उपयोग हम पीने में, कपड़े धोने में, नहाने धोने में, खेती किसानी करने में एवं कई अनेक कार्य को करने में इसका उपयोग करते हैं। वास्तव में अगर हम देखें तो जल हमारे लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है जल के बगैर ना ही हम अपने लिए भोजन की व्यवस्था कर पाएंगे ना ही हम फसलें ऊगा पाएंगे। हम जिस अन्य की बनी रोटी खाते हैं वह भी जल के बगैर हमें उपलब्ध नहीं हो पाएंगी वास्तव में जल हमारे हर एक कार्य में उपयोगी होता है।

मनुष्य भोजन किए बगैर भले ही कुछ दिनों तक जीवित रह जाए लेकिन जल के बगैर ज्यादा समय तक जीवित रहना बहुत ही मुश्किल है क्योंकि जल ही जीवन है जल सिर्फ हमारा जीवन ही नहीं है बल्कि पेड़-पौधों, जानवरों , पशु ,पक्षियों सभी के लिए जल बहुत ही महत्वपूर्ण है। आज हम देखें तो बहुत से लोग ऐसे हैं जो जल का दुरुपयोग करते हैं वह जल को व्यर्थ बहते हैं इसका सही उपयोग नहीं करते है पानी की महत्वता को नहीं समझ पाते। हम सभी को जल को व्यर्थ नहीं बहाना चाहिए क्योंकि जल ही हमारा भविष्य है जल ही हमारा कल है यदि जल नहीं तो हमारा कल भी कभी नहीं आएगा।

जल के बगैर सब कुछ व्यर्थ है

आज हम देखें तो मनुष्य अपने समय का उपयोग पैसा कमाने के लिए कर रहा है बहुत से लोग पैसे का सदुपयोग भी करते हैं कुछ लोग पैसे का दुरुपयोग भी करते हैं। लोग अपनी सुख शांति के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। रात दिन एक कर देते हैं देश विदेश में नौकरी या बिजनेस करने के लिए जाते हैं लेकिन वास्तव में हम यदि जल का सदुपयोग ना करें और आने वाले समय में यदि जल की समस्या हमारे सामने आकर खड़ी हो जाती है। तो वास्तव में जल के बगैर सब कुछ व्यर्थ ही है हम कितनी भी सुख शांति से खुशहाल जिंदगी जीने के लिए परिश्रम करें लेकिन जल के बिना सब कुछ करना ही बेकार है इसलिए हमें जल को कभी भी व्यर्थ नहीं बहाना चाहिए।

जल की समस्या से निपटने के लिए क्या करें

अगर हमने जल का सदुपयोग नहीं किया या इसे व्यर्थ बहने से नहीं रोका तो हो सकता है आने वाले समय में हमें जल संकट से जूझना पड़े। जल की समस्या से निपटने के लिए हमें चाहिए कि हम पेड़ पौधे लगाएं क्योंकि पेड़ पौधे लगाने से हरियाली तो आती है साथ में पेड़ पौधे बरसा को आकर्षित करते हैं साथ में हमें चाहिए कि हम जल का सदुपयोग करें। अपने घरों में उपयोग किए जाने वाले जल का सदुपयोग करें यानी जल को व्यर्थ ना बहाएं नहाने ,कपड़े, धोने आदि में जल का अधिक उपयोग ना करें जल की कीमत को समझें क्योंकि जल अनमोल है हमें चाहिए कि हम जल संरक्षण करें।

हम वर्षा के जल का संचयन भी कर सकते हैं बड़ी बड़ी टंकियो आदि में वर्षा का जल संचयन करके वर्षा के जल का उपयोग हम कपड़े धोने या अन्य कार्यों में ले सकते हैं जिससे जल का उपयोग हम सही तरह से कर सकेंगे और जल व्यर्थ बहाने से भी बचेगा। हमें हर किसी को जल के महत्व को बताने की जरूरत है। आजकल हम देखें तो बाजार में पानी से भरी बोतले पानी की पाउच भी मिलने लगी हैं लेकिन पहले ऐसा नहीं था क्योंकि पहले पानी की कोई समस्या नहीं थी। आजकल शहरों में गर्मियों के दिनों में पानी की समस्या होती है जिसके लिए हमें पानी के विषय पर सोचने की जरूरत है और इसका सदुपयोग करने की जरूरत है।

उपसंहार

हमें समझने की जरूरत है कि हमारे जीवन में जल का बहुत ही महत्व है अगर हम जल का सदुपयोग करें और जल संचयन करें तो आने वाले भविष्य को हो सकता है जल संकट से बचा सके क्योंकि वास्तव में जल है तो कल है जल ही जीवन है जल के बगैर इस दुनिया का कोई भी अस्तित्व नहीं है जल का कोई मोल नहीं है क्योंकि जल वास्तव में अनमोल है हमें जल को व्यर्थ नहीं बहाना चाहिए। अपने परिवार वालों को, आस पड़ोस वालों को जल के प्रति जागरूक करना चाहिए और अपने कल को बचाने के लिए इस बारे में जरूर सोचना चाहिए क्योंकि जल है तो कल है।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Jal hai to kal hai essay in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *