जब मुझे बहुत अफ़सोस हुआ पर निबंध Jab mujhe bahut afsos hua essay in hindi

Jab mujhe bahut afsos hua essay in hindi

Jab mujhe bahut afsos hua – दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से जब मुझे बहुत अफसोस हुआ पर लिखे निबंध के बारे में बताने जा रहे हैं तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस आर्टिकल को पढ़कर जब मुझे बहुत अफसोस हुआ पर लिखे निबंध के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हैं ।

Jab mujhe bahut afsos hua essay in hindi
Jab mujhe bahut afsos hua essay in hindi

जब मुझे बहुत अफसोस हुआ के बारे में – जब कोई व्यक्ति कोई ऐसा कार्य करता है जिस कार्य को करने के बाद उसे ऐसा लगे की उस कार्य को करने से कई लोगों को हानि पहुंची है तब वह अपने मन में यह विचार लाता है की यदि मैं इस कार्य को ना करता तो कई लोगों को हानि नहीं पहुंचती । इसके बाद वह व्यक्ति जब किसी दूसरे व्यक्ति को इस घटना के बारे में बताता है तब वह उस व्यक्ति से कहता है कि जब मैंने यह कार्य किया तब उस कार्य से कई लोगों को हानि पहुंची है जिसके बाद में बहुत ही बुरा लगने लगा है । जब मैंने अपने कार्य से उन लोगों की हानि के बारे में सुना तो मुझे बहुत ही अफसोस हुआ था ।

जब मुझे अफसोस हुआ तब बहुत देर हो चुकी थी । एक बार मैं कहीं दूसरे शहर जा रहा था । मैं ट्रेन के माध्यम से दूसरे शहर जा रहा था परंतु जिस समय पर मेरी ट्रेन रवाना होना थी उस समय से कुछ देरी पर मैं स्टेशन पहुंचा था । जब मुझे अफसोस हुआ तब मैंने अपने आप से यह वादा किया कि कभी भी मैं कहीं पर भी लेट नहीं पहुंचू़ंंगा । किसी गलती को करने के बाद व्यक्ति अफसोस जाहिर करता है । जब किसी व्यक्ति को अपनी गलती का एहसास हो और वह उस गलती को करने के बाद अफसोस जाहिर करता है तब वह कभी भी उस गलती को ना करने का वचन अपने आप से करता है ।

मनुष्य के जीवन में कई बार ऐसा समय आता है कि वह अफसोस जताता है । जब मेरी आंखों के सामने एक सड़क हादसा हुआ तब मुझे बढ़ा दुख हुआ था । जब मुझे अफसोस हुआ तब मुझे बहुत बुरा लग रहा था क्योंकि मैं कभी भी दुर्घटनाओं को नहीं देख सकता हूं । एक बार मुझे गरीबों तक भोजन पहुंचाने की जिम्मेदारी दी गई थी परंतु मैं एक दिन उन गरीब लोगों तक भोजन पहुंचाना भूल गया था जिसके बाद मुझे बहुत अफसोस हुआ था । जब किसी व्यक्ति को गुजर गए समय का अफसोस होता है तब वह समय तो वापस नहीं आता है परंतु आने वाले समय मैं वह जो गलतियां कर चुका है उन गलतियों को ना दोहराने का प्रण लेता है ।

जब किसी व्यक्ति को अपने किए का पछतावा होता है तब वह अपने किए पर अफसोस व्यक्त करता है । जब कोई व्यक्ति किसी कार्य को जी तोड़ मेहनत के साथ करता है तब वह व्यक्ति उस कार्य को सफल बनाने के लिए निरंतर मेहनत करता है । जब उस व्यक्ति का वह कार्य असफल हो जाता है तब वह अफसोस करता है ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह बेहतरीन लेख जब मुझे बहुत अफसोस हुआ पर निबंध Jab mujhe bahut afsos hua essay in hindi यदि आपको पसंद आए तो सबसे पहले आप सब्सक्राइब करें इसके बाद अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों में शेयर करना ना भूलें । दोस्तों यदि आपको इस लेख में कुछ गलती नजर आए तो आप हमें कृपया कर उस गलती के बारे में अवश्य बताएं जिससे कि हम उस गलती को सुधार कर यह आर्टिकल आपके समक्ष पुनः प्रस्तुत कर सके धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *