शिक्षा का अधिकार पर कविता Hindi poem on shiksha ka adhikar

Hindi poem on shiksha ka adhikar

दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज की हमारी कविता शिक्षा का अधिकार आप सभी के लिए बहुत ही हेल्पफुल है.हम सभी जानते हैं कि आजकल शिक्षा के कई अधिकार हमे प्राप्त हैं.शिक्षा हर किसी का मौलिक अधिकार भी है.पुरुष और नारी को समान रूप से शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार है. शिक्षा के क्षेत्र में किसी भी तरह के लोगों में भेदभाव नहीं रखा गया है शिक्षा के क्षेत्र में हर कोई समान है.किसी को भी जाति या धर्म मैं असमान होने के कारण अच्छी या बुरी शिक्षा नहीं दी जाती शिक्षा सभी को समान रुप से दी जाती है हमारी आज की कविता शिक्षा का अधिकार आपको इस बारे में जानकारी देगी तो चलिए पढ़ते है हमारी आज की इस कविता को

Hindi poem on shiksha ka adhikar
Hindi poem on shiksha ka adhikar

गरीब हो या अमीर हो
भले ही बेनशीव हो
सबको है शिक्षा का अधिकार
सबको है ज्ञान लेने का अधिकार

ना कोई जाति बंधन है
ना धर्म बंधन है
अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति
सबको ज्ञान लेने का अधिकार है

लड़का हो या लड़की
आदमी हो या औरत
सबको है शिक्षा का अधिकार
सबको ज्ञान लेने का अधिकार

ना कोई असमानता
ना कोई भेदभाव
सबको है ज्ञान लेने का अधिकार
सबको है शिक्षा का अधिकार

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया है ये आर्टिकल Hindi poem on shiksha ka adhikar पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *