स्वास्थ्य ही जीवन है पर निबंध Hindi essay on swasthya hi jeevan hai

Hindi essay on swasthya hi jeevan hai

Hindi essay on swasthya hi jeevan hai
Hindi essay on swasthya hi jeevan hai

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आप सभी के लिए लाए हैं स्वास्थ्य ही जीवन है पर लिखित निबंध आप इसे जरूर पढ़ें तो चलिए पढ़ते हैं आज के इस आर्टिकल को

हमारे भारत देश में आजकल सब कुछ बदल रहा है मनुष्य के जीवन का तरीका बदल रहा है पहले जो मनुष्य कई मीलों की दूरी साइकिल से या पैदल चल कर ही कर लेता था आजकल के जमाने में वही मनुष्य अगर घर से किसी छोटे से काम के लिए भी जाता तो पैदल या साइकिल से नहीं जाता बल्कि मोटरसाइकिल से जाता है। आजकल के इस जमाने में विज्ञान ने हमें इतनी सुख सुविधाएं दे दी हैं की हमने उन सुख-सुविधाओं का दुरुपयोग किया है और आज का मनुष्य आलसी होता जा रहा है कहते हैं कि आलस्य मनुष्य का शत्रु होता है

वास्तव में यह बात सही है हम आजकल के जमाने में विज्ञान के द्वारा प्रदान की गई चीजों का दुरुपयोग करते जा रहे हैं जिस वजह से हमारा स्वास्थ्य खराब होने लगा है। आज चारों तरफ हम देखें तो हमारे किए हुए क्रियाकलापों की वजह से पर्यावरण प्रदूषित है हमारा स्वास्थ्य खराब रहता है हमें अपनी दैनिक दिनचर्या में सुधार लाने की जरूरत है क्योंकि स्वास्थ ही जीवन है जिस तरह से एक मशीन खराब हो जाती है तो वह काम करना बंद कर देती है उसको हमें सही करवाना होता है तभी वह कार्य करती है उसी तरह से स्वास्थ अगर ठीक न हो तो वह कोई काम का नहीं।

स्वास्थ्य को सही रखना बेहद जरूरी है हम अपने स्वास्थ्य को ठीक करने के लिए कई उपाय कर सकते हैं हमें चाहिए कि हम सुबह जल्दी जागकर अपने पूरे दिन भर के कार्यों का एक टाइम टेबिल बनाएं और उस हिसाब से काम करें हम समय पर भोजन करें, एक्सरसाइज भी जरूर करें, खेलकूद भी जरूर करें तभी हमारा स्वास्थ्य ठीक रहेगा हमें चाहिए कि हम सुबह सुबह हरी घास में घूमने के लिए जाएं अपने स्वास्थ्य का पूरी तरह से ख्याल रखें, जंक फूड जैसे भोजन से दूरी रहे या कभी कभार ही खाये क्योंकि इससे भी हमारा स्वास्थ्य गड़बड़ हो सकता है.

हमें अपनी पूरी दैनिक दिनचर्या का एक शेड्यूल बना कर अपने जीवन को सही तरह से व्यतीत करना चाहिए अपने स्वास्थ्य का विशेष रूप से ख्याल रखना चाहिए क्योंकि वास्तव में स्वास्थ्य ही जीवन है स्वास्थ्य के बिना जीवन का कोई मोल नहीं है जिस इंसान का स्वास्थ्य ठीक रहता है उसके पास समझ लीजिए सब कुछ है और जिसका स्वास्थ्य ठीक नहीं रहता उसके पास सब कुछ होते हुए भी कुछ नहीं होता।

हम इस दुनिया में कुछ पाने के लिए आए हैं कुछ करने के लिए आए हैं लेकिन अगर हमारा स्वास्थ्य ठीक नहीं रहता तो हम किस तरह से जीवन व्यतीत कर सकते हैं इसलिए हमें समझने की जरूरत है कि स्वास्थ्य ही जीवन है हमें अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखना चाहिए और जीवन में आगे बढ़ते रहना चाहिए।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Hindi essay on swasthya hi jeevan hai पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *