काश मेरे पंख होते पर निबंध Hindi essay on kash mere pankh hote

Hindi essay on kash mere pankh hote

agar mere pankh hote in hindi-दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल काश मेरे पंख होते आप सभी के लिए बहुत ही मजेदार आर्टिकल है जब भी हम फ्री होते हैं तो हम कुछ ना कुछ करते रहते हैं हमारी कल्पना हमें कुछ भी सोचने देती है लेकिन जब हम असलियत की दुनिया में आते हैं तो उस माहौल को अपने से दूर जाता हुआ देखते हैं. हमारा आज का आर्टिकल भी एक कल्पना ही है ये एक सपने जैसा है तो चलिए पढ़ते हैं आज के इस आर्टिकल को

Hindi essay on kash mere pankh hote
Hindi essay on kash mere pankh hote

हर किसी इंसान की तरह मेरी भी एक सोच है कि काश मेरे पंख होते तो मैं आसमान में पक्षियों की तरह उड़ पाता और आसमान की सैर कर रहा होता यदि मेरे पंख होते तो मैं किसी की पकड़ में नहीं आता और मैं तेजी से कहीं-कहीं उड़ जाता.अक्सर हम इंसानों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए वाहनों की जरूरत पड़ती है लेकिन अगर मेरे पंख होते तो मुझे किसी भी वाहन की जरूरत ना होती क्योंकि मेरे पंख ही मुझे एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाते मेरे पंख होते तो कितना अच्छा होता.

हम सभी को जब भी अपने किसी नजदीकी रिश्तेदार या किसी दोस्त की याद आती है तो हम उससे फोन पर बातचीत करते हैं और इससे हमारा मनोरंजन भी होता है लेकिन मेरे पंख होते तो मुझे फोन पर बात करने की जरूरत नहीं पड़ती मैं पक्षियों की तरह आसमान में उड़ता हुआ उस जगह पर पहुंचकर अपने दोस्तों रिश्तेदारों से बातचीत करता तो मुझे बेहद खुशी होती मैं पक्षियों की तरह,एक पतंग की तरह आसमान की सैर कर रहा होता काश मेरे पंख होते.

मैं उड़ना चाहता हूं आसमान की सैर करना चाहता हूं.लोग वायुयानों के द्वारा आसमान की सैर करते हैं लेकिन इनके द्वारा आसमान में सैर करने की बात अलग है और अपने खुद के पंखों से आसमान में उड़ना एक बात अलग है काश मेरे पंख होते तो मैं आसमान की ऊंचाइयों में उड़ता और ऐसा करने में मुझे खुशी का अनुभव होता काश मेरे पंख होते.

मैं पक्षियों की तरह एक डाल से दूसरी डाल पर उड़कर पहुंच जाता और पेड़ पौधों की ठंडी ठंडी हवाएं लेता और मजेदार फल खाता.फलों के लिए मुझे कीमत नही चुकानी नहीं पड़ती.काश मेरे पंख होते तो मैं कहीं पर भी उड़कर चला जाता मुझे कोई भी रोक ना होती वास्तव में यदि मेरे पंख होते तो मुझे कितना अच्छा अनुभव होता. अगर मेरे पंख होते तो पक्षी मुझे भी अपना भाई बंधु समझते और ची ची की आवाज से मेरा मन मोह लेते और मेरा मनोरंजन करते काश मेरे पंख होते तो कितना अच्छा होता वास्तव में मुझे यह दुनिया और भी खूबसूरत लगती

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया है ये आर्टिकल Hindi essay on kash mere pankh hote पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *