हमारा राज्य झारखंड निबंध Hamara rajya jharkhand essay in hindi

Hamara rajya jharkhand essay in hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल Hamara rajya jharkhand essay in hindi आप सभी के लिए राज्य झारखंड के बारे में जानकारी देगा इसके अलावा हमारे इस निबंध का उपयोग विद्यार्थी अपने स्कूल,कॉलेज की परीक्षा में इस विषय पर निबंध लिखने के लिए जानकारी ले सकते हैं तो चलिए पढ़ते हैं हमारे आज के इस निबंध को

Hamara rajya jharkhand essay in hindi
Hamara rajya jharkhand essay in hindi

Image source- https://en.wikipedia.org/wiki/Jharkhand

झारखंड भारत का एक राज्य है.झारखंड जैसे कि नाम से ही स्पष्ट है यह दो शब्दों से मिलकर बना है एक झार यानी झाड़ और दूसरा खंड यानी कोई जगह या स्थान यानी स्पष्ट रूप से अगर हम इस राज्य के नाम को समझें तो इसका मतलब होता है ऐसा स्थान जहां पर पेड़-पौधे,झाड़ीया ज्यादा हो.झारखंड का ज्यादातर स्थान जंगलों से घिरा हुआ है यह एक वन प्रदेश है यह झारखंड आंदोलन के फलस्वरुप सृजित हुआ है.झारखंड राज्य पहले बिहार में ही था लेकिन सन 2000 में बिहार से अलग होकर झारखंड नाम से जाना जाने लगा.

आज से कई सालों पहले 1939 में भारतीय हॉकी के खिलाड़ी जयपाल सिंह ने बिहार के दक्षिणी जिलों को झारखंड राज्य बनाने का विचार किया था और यह विचार उन्होंने बहुत से लोगों को भी बताया था तभी से झारखंड बनाने का विचार किया जा रहा था और सन 2000 में भारत का एक और राज्य बन गया जिसे लोग झारखंड नाम से जानते हैं.

झारखंड राज्य में सड़कों की कुल लंबाई लगभग 4311 किलोमीटर है इस राज्य की प्रमुख फसल धान है झारखंड के उत्तर में बिहार,दक्षिण में उड़ीसा,पूर्व में पश्चिम बंगाल और पश्चिम में छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश हैं इस राज्य का राजकीय पक्षी कोयल है यहां पर मीथेन गैस का पहला प्लांट भी है जिससे बहुत सारे लोगों को रोजगार भी मिला है.भारत का पहला और विश्व का पांचवां सबसे बड़ा इस्पात का कारखाना टाटा स्टील जमशेदपुर में है जो कि झारखंड में ही है.

Related-कोयल पर कविता Hindi poem koyal by subhadra kumari chauhan

झारखंड की पूरी व्यवस्था वन संपदा से निर्देशित है यहां पर कोयला,लोहा,ग्रेफाइट,चूना,पत्थर और बहुत सी खनिज संपदा पाई जाती हैं जिस वजह से वहा पर उद्योग धंधे फैले हुए हैं.उद्योग धंधे रांची, जमशेदपुर आदि में स्थित हैं.झारखंड की राजधानी रांची है जिसमें रेल एवं सड़क मार्ग है जो कि पूरे देश से जुड़े हुए हैं झारखंड राज्य का राजकीय वृक्ष साल है झारखंड राज्य की प्रमुख भाषा हिंदी है लेकिन इस राज्य में नागपुरी,बंगाली आदि भाषाएं भी बोली जाती हैं.

झारखंड राज्य 1765 में अंग्रेजों के अधीन हो गया था और जिस वजह से वहां के निवासी अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रहे थे.यहां के अलग-अलग जाति वालो ने तरह तरह के विरोध किए जैसे की पहाड़ियां विद्रोह मुख्य रूप से पहाड़िया समाज के लोगों ने किया.वहा के समाज के लोगो पर अंग्रेजों के अत्याचार का काफी बुरा प्रभाव पड़ा जिस वजह से इस समाज के लोगों ने अंग्रेजों का विरोध किया और इसके बाद भी बहुत से विद्रोह जैसे कि मुंडा विद्रोह,खेवर विद्रोह आदि किए गए.

जिनका मुख्य उद्देश्य अंग्रेजों को अपने राज्य शासन से हटाने का था क्योंकि अंग्रेज इन आदिवासी वर्ग के लोगों को तरह तरह से प्रताड़ित किया करते थे अंग्रेजो के खिलाफ आदिवासियों ने तरह तरह के बहुत से विद्रोह किए इन विद्रोह को आदिवासी विद्रोह के नाम से भी जाना जाता है.

झारखंड प्रदेश में कई सरकारी एवं निजी स्कूल और कॉलेज हैं जहां पर विद्यार्थियों को तरह-तरह की सुविधाए दी है यहां पर कानून,अभियांत्रिकी,विज्ञान,डॉक्टरेट आदि की पढ़ाई करवाई जाती है.झारखंड राज्य में बहुत सारे संचार एवं समाचार का माध्यम भी है यहां पर मुख्य रुप से दैनिक भास्कर,दैनिक हिंदुस्तान , दैनिक जागरण,उदितवाणी जैसे बहुत से न्यूज़ पेपर पढ़े जाते हैं यहां पर संचार के माध्यमों के रूप में कई कंपनियां जैसे कि bSNL,एयरटेल,रिलायंस,वोडाफोन,आईडिया आदि प्रमुख रूप से हैं जिससे लोगों को बहुत सी सुविधाएं मिली हुई हैं.

पहले यहां पर आदिवासी जंगल में रहा करते थे लेकिन अब धीरे-धीरे विकास होने लगा है यहां पर बहुत सी फसलें भी वोई जाती हैं यहां के जंगलों में बहुत से जानवर जैसे कि हाथी,शेर देखने को मिलते हैं और राज्य का राजकीय पक्षी कोयल है जिसकी मधुर आवाज चारों ओर गूँजती रहती है देखा जाए तो झारखंड जंगलों से घिरा हुआ एक राज्य है.

आने वाले समय में हमारा झारखंड और भी तेजी से विकास करें इसमें ओर भी अन्य राज्यों की तरह सभी नई नई व्यवस्थाएं हो.रहन सहन,पहनावे आदि में भी इस राज्य में बहुत से नए बदलाव आये और ये राज्य दिनों दिन प्रगति करें हमारा राज्य झारखंड हर एक क्षेत्र में लगातार प्रगति की नई ऊंचाइयां छुए.हमारे देश के एक स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा का जन्म भी झारखंड में हुआ था वास्तव में वह एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे झारखंड धीरे धीरे जंगली इलाकों से विकास की ओर आगे बढ़ रहा है.

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल Hamara rajya jharkhand essay in hindi पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंट के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा इसी तरह के नए-नए आर्टिकल इमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें.

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *