गोल्डन बाबा का जीवन परिचय Golden baba biography in hindi

golden baba history in hindi

दोस्तों आज हम जानने वाले हैं गोल्डन बाबा के जीवन के बारे में, गोल्डन बाबा जोकि अपने शरीर पर 13 किलो सोना धारण करते हैं। सोने की बीच में रहना, सोने ही पसंद है चलिए शुरू करते हैं इस प्रसिद्ध गोल्डन बाबा के जीवन के बारे में।

golden baba biography in hindi
golden baba biography in hindi

image source-https://www.patrika.com
गोल्डन बाबा जिनका नाम सुधीर कुमार है। गाजियाबाद के रहने वाले हैं इन्होंने अपनी शुरुआत एक दर्जी के रूप में की ए लोगों के कपड़े सिलते थे लेकिन शुरू से ही ए कुछ बड़ा करना चाहते थे। दर्जी के काम के बाद में उन्होंने कुछ समय तक प्रॉपर्टी का काम भी किया लेकिन कुछ समय बाद इन्होंने अपना मार्ग एकदम से बदल दिया।

कहते हैं कि गोल्डन बाबा यानी सुधीर कुमार कुछ समय के लिए हरिद्वार चले गए थे और जब वहां से वह वापस आए तो उन्होंने लोगों के बीच में एक नई पहचान बनाई। बाबा जी ने सबसे पहले वापस आकर अपने गांधीनगर में एक मंदिर बनवाया और फिर धीरे-धीरे इस मंदिर को आश्रम में परिवर्तित किया और फिर उस आश्रम के महंत बन गए।

वह आज भी हमेशा 13 किलो सोना धारण किए रहते हैं वह हमेशा अगर दान भी लेते हैं तो सोने के रूप में ही लेना पसंद करते हैं। गोल्डन बाबा अपने सोने की सुरक्षा के लिए कुछ सुरक्षा गार्ड भी लगाए हुए हैं वह उन्हें सैलरी देते हैं। गोल्डन बाबा की एक दूसरी छवि भी हम सभी के समक्ष है। गोल्डन बाबा के खिलाफ अभी तक लगभग 3 दर्जन मुकदमे चल रहे हैं ए मुकदमे बाबा पर कई आरोपों के तहत चल रहे हैं।

गोल्डन बाबा पर कई तरह के आरोप जैसे कि मारपीट,वसूली करना, जान से मारने की धमकी देना, अपहरण करना आदि के आरोप लगे हैं। कुछ लोग इन्हें हिसत्रीशूटर भी कहते हैं वास्तव में गोल्डन बाबाजी का जीवन बड़ा ही विचित्र है। गोल्डन बाबा की प्रसिद्ध टीवी पर काफी तेजी से हो रही है बाबा जी के आस पास उनके 10 वक्त हर समय उनके साथ रहते हैं।

दोस्तों मेरे द्वारा लिखी गोल्डन बाबा की जीवनी golden baba biography in hindi आपको कैसी लगी हमें जरूर बताएं, इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *