फर्डीनांड मैगलन की जीवनी Ferdinand magellan biography in hindi

Ferdinand magellan biography in hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं फर्डिनाण्ड मैगलन के बारे में जानकारी, वह एक नाविक थे जिन्होंने पूरी दुनिया के चक्कर लगाए थे तो चलिए पढ़ते हैं इनके बारे में

जन्म और परिवार– फर्डिनाण्ड मैगलन का जन्म 3 फरवरी सन 1480 को पुर्तगाल में हुआ था। वह पुर्तगाल के एक नाविक थे, वह एक धनी परिवार से ताल्लुक रखते हैं। पुर्तगाल के राजा से इनके बहुत ही अच्छे संबंध थे वह उनके यहां उनके व्यापार का काम करते थे, साथ में इन्होंने कई समुद्री यात्राएं भी की।

Ferdinand magellan biography in hindi
Ferdinand magellan biography in hindi

note-https://en.wikipedia.org/wiki/Ferdinand_Magellan

कहां कहां भ्रमण किया– इन्होंने पूरी पृथ्वी के चक्कर नाव के द्वारा लगाए थे,वह 1505 में भारत भी आए थे, उनके साथ में पुर्तगाली दल के लोग भी थे। वह भारत में कुछ सालों तक रुके या भारत के गोवा और उसके आसपास के क्षेत्रों में रुके थे। इन्होंने अमेरिकी महाद्वीपों की यात्रा करते हुए पूरी दुनिया का चक्कर लगाया। वह प्रशांत महासागर भी पहुंचे, कहते हैं कि इन्होंने ही प्रशांत महासागर का नाम रखा था उनका मानना था कि यह सागर अन्य महासागरों से शांत है इसलिए उन्होंने इस महासागर का नाम प्रशांत महासागर रखा। मेगलन अपने ग्रुप के साथ में साउथ अमेरिका भी गए थे वह अपने ग्रुप के लोगों के साथ फिलिपिंस भी गए थे।

फर्डीनैंड मेगेलन भारत आए थे और भारत में कई सालों तक रुके थे। जब वह भारत आए थे तो वह उस रास्ते से आए थे जिसके जरिए यूरोप से भारत पहुंचने के लिए अफ्रीका महाद्वीप से होते हुए जाना पड़ता था लेकिन उन्होंने सोचा कि जब पृथ्वी गोल है तो यूरोप से भारत जैसे देशों में पश्चिम से होकर भी जाया जा सकता है तब उन्होंने अपने इस विचार पर अमल किया और फिर इस संबंध में उन्होंने पुर्तगाल के राजा से बात की और उनसे इस यात्रा के लिए फंड देने को कहा लेकिन पुर्तगाल के राजा ने उनकी बात नहीं मानी।

इसके बाद  वह स्पेन के राजा के पास गए और उन्होंने स्पेन के राजा को अपनी बात बताई तब स्पेन के राजा उनकी बात से सहमत हुए और इस यात्रा के लिए उनको फण्ड देने के लिए तैयार हुए। इस तरह से वह अपनी आगे की यात्रा करने के लिए तैयार हुए।

इन्होंने अपनी नाव के जरिए पूरी दुनिया का चक्कर लगाया। जब वो स्पेन से निकले थे तब उनके पास 5 नावे थी लेकिन पूरी दुनिया का चक्कर लगाते लगाते इनके पास अंत में केवल एक ही नाव बची थी, इस नाव का नाम था विक्टोरिया।
1521 में वो एक आइलैंड पर भी गए। यह आइलैंड मसालों वाला था, धीरे-धीरे इन्होंने कई महाद्वीपों और देश-विदेश के चक्कर लगाते हुए पूरी दुनिया का चक्कर लगा दिया। कहते हैं कि वो पहले एक ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने सबसे पहले पूरी पृथ्वी का चक्कर लगाया था।

इनकी मृत्यु- उन्होंने अपने जीवन में काफी परिश्रम किया, काफी मुश्किलों के बाद में यह एक आइलैंड में पहुंच गए, इनके द्वारा लिया गया फैसला यानी पश्चिम की ओर यात्राकर पूर्व की ओर जाने का उनका यह विचार एकदम सही साबित हुआ था लेकिन जब वह फिलीपींस पहुंचे तो उनका वहां के लोगों से कुछ विवाद हो गया, यह विवाद इतना बढ़ा कि वहां के लोगों के साथ में इनका युद्ध होने लगा और इस युद्ध में कई लोग मारे गए, इस युद्ध में इनकी भी मृत्यु हो गई थी।

दोस्तों हमें बताएं कि इनके बारे में हमारे द्वारा लिखा यह लेख Ferdinand magellan biography in hindi आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं, हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूलें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *