नेत्रदान पर निबंध Eye donation essay in hindi

Eye donation essay in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, आज हम आपके लिए लाए हैं नेत्रदान पर हमारे द्वारा लिखित यह निबंध आप इसे जरूर पढ़ें। नेत्रदान एक ऐसा दान है जिसके जरिए हम दूसरों का भला कर सकते हैं दूसरों के लिए कुछ कर सकते हैं।नेत्रदान हम मृत्यु के बाद कर सकते हैं। भारत देश में कई ऐसे लोग हैं जो नेत्र हीन हैं कुछ लोग होते हैं जिनको दूसरे नेत्र नहीं लगाए जा सकते क्योंकि उनमें नेत्र तंतुओ की कमी होती है लेकिन कुछ लोग दूसरों के नेत्र लगवाकर अपने जीवन को नॉर्मल व्यक्ति की तरह जीवन जी सकते हैं

Eye donation essay in hindi
Eye donation essay in hindi

वास्तव में नेत्रदान जरूर करना चाहिए। नेेत्रदान करने के लिये बहुत सारे लोगों का हम कर सकते हैं। कुछ लोग अपार धन-संपत्ति दान करते हैं बहुत ही कम लोग होते हैं जो इस तरह से अपने शरीर के अंगों का दान करते हैं। नेत्रदान का अपने आप में बड़ा ही महत्व है नेत्रदान हम सबसे बड़ा दान कह सकते हैं क्योंकि किसी अन्य व्यक्ति को अगर हम रोशनी प्रदान करें तो इससे बढ़ा बलिदान, इससे बढ़कर पुण्य का काम कोई भी नहीं हो सकता। आज हम देख रहे हैं नेत्रदान करने के लिए भारत के लोगों में जागरूकता होना बहुत जरूरी है। श्रीलंका में कई सारे लोग नेत्रदान करते हैं श्रीलंका कई अन्य देशों को भी नेत्रदान करती है उस देश से हमें बहुत कुछ सीखने की जरूरत है।

श्रीलंका भले ही छोटा सा देश है लेकिन नेत्रदान में वह आगे हैं। हमारे भारत देश के अगर लोग ज्यादा से ज्यादा नेत्र दान करें तो नेत्रहीन व्यक्ति की काफी मदद हो सकेगी। यदि कोई व्यक्ति नेत्र दान करना चाहता है तो इसके लिए वह अपने रिश्तेदारों, आस पड़ोस में यह जानकारी दे सकता है की वह नेत्र दान करना चाहता है। मृत्यु के पश्चात उन रिश्तेदारों के द्वारा उस मृत व्यक्ति की नेत्र दान की जाती हैं। किसी व्यक्ति की मृत्यु के बाद केवल 3 से 4 घंटे के अंदर नेत्रदान की जा सकती हैं कुछ विशेष परिस्थितियों में ज्यादा समय बाद भी की जा सकती हैं।

मृत व्यक्ति के नेत्रों को दान करने के लिए उसके रिश्तेदारों या आस पड़ोस वालों को चाहिए की मृत्यु के तुरंत बाद डॉक्टरों से संपर्क करें जिससे सही टाइम में उस मृत व्यक्ति के नेत्रों को दान कर सकें। नेत्रदान कोई भी कर सकता है बस नेत्रदान करने वाले व्यक्ति को कोई गंभीर बीमारी जैसे कि एड्स आदि नहीं होनी चाहिए। नेत्रदान किसी भी उम्र में किया जा सकता है नेत्रदान करने के लिए आप नेत्र संबंधी केंद्र में संपर्क कर सकते हैं और वहां पर यह सूचना भी दे सकते हैं कि आप मृत्यु के पश्चात में नेत्रदान करेंगे। आपको एक कार्ड प्राप्त होगा जो आप हमेशा अपने पास रखिए।

यदि आप नेत्रदान करना चाहते हैं तो यह अति आवश्यक है कि आप अपने दोस्तों रिश्तेदारों में यह बात कहै जिससे सभी लोग आपकी ही तरह नेत्रदान करने के प्रति जागरूक हो सकें इस तरह से हम समाज को जागरूक करके अधिक से अधिक नेत्रदान कर सकते हैं और जीवन में दूसरों को भी खुशी देने वाला कार्य कर सकते हैं।

दोस्तों यदि आपको हमारा यह आर्टिकल Eye donation essay in hindi पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों में शेयर जरूर करें और हमें कमेंट्स के जरिए जरूर बताएं कि यह आर्टिकल आपको कैसा लगा धन्यवाद।

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *