परीक्षा का महत्व पर निबंध Essay on pariksha ka mahatva in hindi

Essay on pariksha ka mahatva in hindi

दोस्तों हर व्यक्ति के जीवन में परीक्षा देने का अवसर जरूर आता है और उस परीक्षा में वह व्यक्ति कितना सफल होता है और कितना असफल होता है यह उसकी काबिलियत और मेहनत पर निर्भर करता है । दोस्तों आज हम सभी को इस दुनिया में सफल होने के लिए हर जगह पर परीक्षा देनी पड़ती है कुछ परीक्षाओं का हमें पता होता है कि वह कब देना है , कुछ परीक्षाएं ऐसी होती है जो अचानक से आ जाती हैं। हम परीक्षाओं की तैयारी करके सफल हो जाते हैं लेकिन जीवन के रास्ते में जो परीक्षाएं आती हैं उन परीक्षाओं में अगर हमें सफल होना है तो ज्ञान और बुद्धि का उपयोग करना पड़ेगा क्योंकि इस परीक्षा का कोई भी समय निर्धारित नहीं होता है यह कभी भी किसी भी रूप में आपके सामने आ सकती है ।

अगर आप पूरी बुद्धि और ज्ञान प्राप्त करके एक्सपीरियंस के साथ आगे बढ़ते हो तो आप अचानक से आने वाली परीक्षाओं में भी सफल हो सकते हो । परीक्षा का यह मतलब नहीं है कि कौन सफल होता है और कौन असफल। परीक्षा का सिर्फ एक ही मतलब है कि व्यक्ति की काबिलियत को पहचाना जा सके। परीक्षा के माध्यम से उस व्यक्ति के अंदर की काबिलियत को पहचाना जाता है कि उस व्यक्ति के अंदर कितनी काबिलियत है ।

Essay on pariksha ka mahatva in hindi
Essay on pariksha ka mahatva in hindi

जब हम स्कूल की परीक्षा की तैयारी करते हैं तो हम पूरी बुद्धि के साथ उसकी तैयारी करते हैं और हम सफल भी हो जाते हैं और सफल होने के लिए हम रात दिन पढ़ाई करते हैं क्योंकि हमें यह पता होता है कि अगर हम मेहनत नहीं करेंगे तो परीक्षा में पास नहीं हो पाएंगे इसी तरह से जब जीवन की परीक्षा होती है तो उसमें हमारा अनुभव काम में आता है हमारे अंदर कितना अनुभव है और हम किस तरह से अपने जीवन को और सुंदर बना सकते हैं ।

जब इंसान के अंदर अनुभव और हुनर आ जाता है तो वह हर परीक्षा में सफल हो जाता है, उसको किसी तरह की कोई भी परेशानी नहीं आती जैसे कि आज हमारे बच्चे है उनको कैसे पढ़ाएंगे और किस तरह से उनको एक सफल इंसान बना पाएंगे इसकी भी परीक्षा मां बाप को देनी पड़ती है और यह परीक्षा तब तक चलती है जब तक की उनका बच्चा एक सफल इंसान ना बन जाए। जब वह बच्चा सफल इंसान बन जाता है तब जाकर मां बाप कि उस परीक्षा में जीत हो जाती है । जब हमारे सामने किसी तरह की परीक्षा की घड़ी आती है तो हम उस परीक्षा के प्रति सजग हो जाते हैं और हम ज्यादा से ज्यादा मेहनत करने लगते हैं।

हमारे सामने किसी भी तरह की परीक्षा हो चाहे वह स्कूल की परीक्षा हो और चाहे बो हमारे जीवन की परीक्षा हो उस समय हमको यह नहीं सोचना चाहिए कि हम सफल होंगे या असफल होंगे हमें बस अपना अनुभव का इस्तेमाल करना चाहिए । हमारे अंदर जितना भी अनुभव है उस अनुभव का उपयोग हमे जीवन में आने वाली परीक्षाओं में करना चाहिए जिससे हम एक सफल इंसान बन सके और इस दुनिया में सफल होकर अपना और अपने परिवार का नाम रोशन कर सकें ।

जब हम किसी ऑफिस में काम करते हैं तो ऑफिस का वर्क पूरा करने के लिए हमारे सामने एक शर्त रखी जाती है की आप अगर ऑफिस का वर्क सही समय पर पूरा कर लोगे तो आपका प्रमोशन कर दिया जाएगा, उस समय हमारे सामने परीक्षा का समय आ जाता है और हम पूरी मेहनत से उस काम को करने लगते हैं और हम उस काम को पूरा करने में सफल भी हो जाते है तो हम उस परीक्षा में पास हो जाते हैं । ऐसी कई परीक्षा हमारी जिंदगी में आती रहती हैं और हम हमारे अनुभव के साथ उस परीक्षा में सफल होते जाते हैं । अगर हमारे जीवन में परीक्षा का समय नहीं आएगा तो हम हमारे टैलेंट को नहीं पहचान पाएंगे। हमारे अंदर कितना अनुभव छुपा हुआ है यह परीक्षा के माध्यम से ही हमको पता चलता है।

यह लेख Essay on pariksha ka mahatva in hindi आपको कैसा लगा हमे जरुर बताये.

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *