क़ुतुब मीनार पर निबंध essay on qutub minar in hindi

essay on qutub minar in hindi

हमारे भारत देश में कई ऐसे पर्यटन स्थल हैं जिन्हें देखना, वहां पर घूमने जाना वास्तव में लोग काफी पसंद करते हैं ऐसा ही एक प्रसिद्ध अद्भुत पर्यटन स्थल है कुतुब मीनार जो कि काफी प्रसिद्ध है. कुतुब मीनार दिल्ली के दक्षिण में महरौली में स्थित है इसका निर्माण कार्य सन 12 वीं शताब्दी में कुतुबुद्दीन ऐबक द्वारा किया गया था लेकिन इस के शासनकाल में कुतुब मीनार का पूरा निर्माण नहीं हो पाया था इसलिए आगे चलकर इल्तुतमिश ने इसका निर्माण कार्य पूरा किया।

essay on qutub minar in hindi
essay on qutub minar in hindi

कुतुबमीनार भारत की दूसरी सबसे बड़ी मीनारों में गिनी जाती है, यह काफी प्रसिद्ध है, यह लगभग 900 वर्ष पुरानी है, यह लगभग 72 मीटर ऊंची है, यह लोगों के लिए एक पर्यटन स्थल है इसीलिए यह सुबह 6:00 बजे से शाम तक खोली जाती है यहां पर कई लोग घूमने के लिए आते हैं लेकिन उन्हें इस मीनार के ऊपर नहीं जाने दिया जाता क्योंकि एक दरवाजा जो वहा की प्रशासन ने बंद कर रखा है ऐसा माना जाता है कि कुतुब मीनार के अंदर जो सीढ़िया बनी हुई हैं उन सीढ़ियों से एक ही व्यक्ति एक बार में ऊपर जा सकता है .

मीनार के अंदर कोई बाहर से आने वाली रोशनी की व्यवस्था नहीं है जिस वजह से वहां पर सुरक्षा की कोई व्यवस्था नहीं है वहां पर कुछ ऐसी घटना भी हो चुकी हैं जिस वजह से मीनार के ऊपर जाने का दरवाजा बंद रहता है जिससे किसी को भी ऊपर जाने की अनुमति नहीं है। कुतुब मीनार के चारों ओर एक बहुत ही सुंदर बगीचा है, कुतुब मीनार लाल पत्थरों एवं संगमरमर से बनी हुई है जो देखने में बहुत ही सुंदर दिखती है. कुतुब मीनार की 379 सीढ़ियां हैं, कुतुब मीनार को गुंबद वाली मीनार भी कहा जाता है कुछ विद्वानों का यह मानना है की कुतुब मीनार का निर्माण भारत में मुस्लिम शासकों की जीत के जश्न में कराया गया.

दो बार प्राकृतिक आपदा की वजह से कुतुब मीनार को नुकसान भी हुआ है लेकिन इसकी मरम्मत कराई गई और पहले की तरह सुंदर बनाया गया। वास्तव में कुतुब मीनार हमारे भारत का एक बहुत ही प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है यहां पर देश विदेश से कई लोग घूमने के लिए भी आते हैं और अपने नेत्रों का लाभ उठाते हैं।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल essay on qutub minar in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *