पालतू जानवर पर निबंध Essay on pet animal in hindi

Essay on pet animal in hindi

अक्सर मनुष्य अपने मनोरंजन के लिए या पालतू जानवरों की देखरेख करने के लिए या उनकी सेवा करने के लिए कुछ जानवर पालता है जैसे कि बिल्ली, कुत्ता, खरगोश,गाय, बकरी आदि। मैं भी एक गाय अपने घर में पाले हुए हूं गाय काफी समय से हमारे घर में बने कच्चे मकान में रहती है उसकी हम सभी सेवा करते हैं। गाय हमें दूध देती है इसलिए हमें बाजार से दूध लेने की जरूरत नहीं पड़ती। गाय बहुत ही उपयोगी जानवर है इसे हम गौ माता भी कहते हैं मैं गाय को बहुत पसंद करता हूं।

Essay on pet animal in hindi
Essay on pet animal in hindi

गाय का एक बछड़ा भी है जो मुझे बहुत ही प्रिय है मैं जब भी फ्री होता हूं अक्सर गाय और गाय के बछड़े के साथ समय बिताना पसंद करता हूं वह दिखने में बहुत ही प्यारे लगते हैं। हमारी गाय सुबह शाम दूध देती हैं वह सुबह ही घर से निकल जाती है और जंगल के इलाकों में चारा चरने या विचरण करने अन्य गायो के साथ चली जाती है उसका बछड़ा दिन भर हमारे साथ रहता है। मेरे घर में गाय और गाय का बछड़ा सभी को पसंद है लेकिन सबसे ज्यादा वह मुझे और मेरी बड़ी बहन जो कि मुझ से 2 साल बड़ी है उसको गाय और गाय का बछडा बहुत पसंद हैं।

हम दिवाली के त्यौहार पर गाय की पूजा करते हैं और गाय को गले में पहनाने के लिए बाजार से हार खरीदते हैं उसके तिलक लगाते हैं वह दीवाली के मौके पर सजी हुई बहुत ही भाती है। गाय की सेवा करने से हमें पूण्य भी मिलता है और पौष्टिक दूध भी मिलता है क्योंकि बाजार में आज दूध मिलावटी मिलता है या बहुत ही कम दूध हमें अच्छा मिल पाता है। गाय कों पालकर हमें अच्छा दूध मिलता है और हम गाय और गाय के बछड़े के साथ अपना टाइम पास भी कर पाते हैं।

अक्सर गाय जब हमारे घर से सुबह के समय बाहर निकलती है तो उसका बच्चा उसे आवाज़ लगाता है और जब वह श्याम को वापस आती है तब भी वह अपनी मां को देखकर आवाज लगाने लगता है। उसका आवाज लगाना हम सबको बहुत ही भाता है गाय हमें दूध के अलावा गोबर भी देती है जिसके कंडे आग जलाने के काम आते हैं।

गोबर घर में लीपापोती करने में भी काम आता है कहते हैं कि गाय के गोबर से घर को लीपने से घर शुद्ध हो जाता है वैसे तो मैं रोजाना स्कूल जाता हूं लेकिन जब भी रविवार के दिन घर पर रहता हूं तो मैं गाय के साथ अपना समय बिताता हूं मैं पास में हीं एक कुर्सी रखकर गाय की गर्दन पर हाथ फेरता रहता हूं वह भी मेरे पास में आकर ऐसा करने के लिए मुझे कहती है ऐसा मुझे लगता है। गाय घर को अपना घर एवं घर में रहने वालो को अपना समझती है। वास्तव में गाय जैसे पालतू जानवरों को पालना कितना अच्छा होता है बस हम ऐसे जानवरों पर किसी भी तरह के अत्याचार ना करें और पूरी तरह से उनकी सेवा करें तो वास्तव में हमें पुण्य मिलेगा।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Essay on pet animal in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *