पीढ़ी अंतराल पर निबंध Essay on generation gap in hindi

Essay on generation gap in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल जनरेशन गैप पर निबंध आप सभी के लिए बहुत ही हेल्पफुल है चलिए पढ़ते हमारे आज के इस निबंध को

Essay on generation gap in hindi
Essay on generation gap in hindi

प्रस्तावना

हमारे देश में सभी तरह के लोग रहते हैं देश के लोगों की जाति अलग अलग होती है, भाषाएं भी भिन्न-भिन्न होती हैं कुछ लोग बुजुर्ग होते हैं तो कुछ नौजवान होते है तो कुछ बच्चे। हमारे समाज में कई रूल्स होते हैं जिस वजह से हम समाज में अच्छी तरह से रह पाते हैं लोग उन रूल्स को निभाते हैं लेकिन जनरेशन गैप की वजह से इन सभी तरह के लोगों में एक अंतर होता है, उनकी सोच, कार्य करने की प्रणाली आदि में अंतर होता है इसे जनरेशन गैप कहते हैं अलग-अलग उम्र वाले लोगों में अलग अलग तरह के गुण होते हैं।

जनरेशन गैप की वजह से समस्याएं

इस जनरेशन गैप की वजह से हमारे देश और समाज में कई तरह का अंतर होता है देश कई तरह की समस्याओं से जूझता हैं पहले यहां परिवार में, समाज में सभी मिल जुलकर रहते थे लेकिन इस जनरेशन गैप की वजह से परिवार बिखरने लगे हैं। पहले के लोग जो अपने पूरे परिवार के साथ रहते थे लेकिन इस जनरेशन गैप की वजह से नए युवाओं की सोच बदल चुकी है हमारे बुजुर्गों, नौजवानों की सोच अलग-अलग है इसमें बहुत ज्यादा गैप है इस वजह से वह संयुक्त परिवार में नहीं रह पाते वह एकल परिवार में रहते हैं।

जनरेशन गेप की वजह से इस नई जनरेशन के लोग यानी नई युवा पीढ़ी हर समय कुछ नया सीखना चाहती हैं, नया करना चाहती हैं पहले जहां हमारे देश में हिंदी भाषा सबसे ज्यादा बोली जाती थी लेकिन आजकल के जमाने में वही हिंदी इंग्लिश की तरह बोली जाती हैं यानी हिंदी में भी कई शब्दों का इस्तेमाल इंग्लिश का होता है।

अगर पुरानी जनरेशन और नई जनरेशन के बीच में तालमेल बिठाया जाए तो पुरानी जनरेशन युवाओं की कुछ बातों को समझ ही नहीं पाएगी क्योंकि उनकी भाषा अलग हो चुकी है भाषा में अंग्रेजी शब्द आ चुके हैं जिस वजह से बुजुर्गों को उनकी बात समझने में परेशानी आती है। आज हम देखें तो नए जमाने में लोग तरह-तरह के फैशन करते हैं लड़कियां भी लड़कों की तरह पैंट शर्ट या जींस पहनने लगी है, बालों का स्टाइल भी उनका लड़कों की तरह होने लगा है जिस वजह से उनको पहचानना भी थोड़ा मुश्किल होता है।

पुराने जनरेशन के लोग इस बात को ठीक प्रकार से नहीं समझ पाते वह नए लोगों के साथ तालमेल नहीं बैठा पाते जिस वजह से हमारे समाज में कई समस्याएं उत्पन्न होती हैं, परिवार में लड़ाई झगड़े भी हो सकते हैं और परिवार बिखर जाते हैं। संयुक्त परिवार एकल परिवार में विभाजित हो जाते हैं पहले लड़को, लड़कियों और महिलाओं की अलग-अलग पोशाक थी लेकिन नई जनरेशन ने यह अंतर भी नहीं रहने दिया।

पुराने समय में महिलाओं को विशेष अधिकार नहीं थे वह अपने घर की चारदीवारी मे रहती थी और केवल खाना बनाने का कार्य करती थी वह जब भी किसी पुरुष के समक्ष आती थी तो पर्दा करके आती थी लेकिन नई जनरेशन इन बातों को नहीं मानते वह अपने हिसाब से जीवन जीते हैं।

आजकल के जमाने में महिलाएं पुरुषों के समान चल रही हैं वह भी पुरुषों की तरह बाहर का काम करना चाहती हैं और करती हैं वह किसी भी मामले में पुरुष से कम नहीं हैं और पर्दा प्रथा जैसी प्रथाएं धीरे-धीरे कम होती जा रही हैं। कुछ पुराने लोग इस पर्दा प्रथा को अच्छा समझते हैं तो नए लोग इसको अच्छा नही समझते हैं यह जनरेशन गैप ही है

इसलिए लोगों की सोच अलग-अलग है वह जैसा देखते हैं वैसा ही अपने चारों ओर देखना चाहते हैं उन्हें वही अच्छा लगता है अब इसमें सही कौन है और गलत कौन है यह समझना तो बहुत मुश्किल है लेकिन इतना जरूर है की पहले के लोग अपने माता पिता, गुरु की बहुत इज्जत किया करते थे जब भी वह अपने माता पिता या गुरु से मिलते हैं तो आदर सम्मान से मिलते थे, उनके चरण स्पर्श करते थे लेकिन आजकल की जनरेशन इन सबसे भटकती जा रही है।

आजकल के बहुत ही कम युवा हैं जो इस तरह की बातों को मानते हैं पहले जहां लोग किसी व्यक्ति के मिलने पर नमस्ते राम-राम किया करते थे लेकिन आजकल की जनरेशन किसी से मिलने पर यहां तक कि अपने बड़े बुजुर्गों से भी मिलने पर हाय, हेलो करते हैं कहने का मतलब यह है कि नई जनरेशन अंग्रेजी भाषा को अपना रही है वह अपने आपको विदेशों की तरह बदलना चाहती हैं।

पहले की जनरेशन ने कभी भी यह नहीं सोचा था कि नए जमाने में मोबाइल फोन जैसा यंत्र आएगा पुराने जनरेशन के लोगों को तो मोबाइल सही से चलाना भी नहीं आता क्योंकि उन्होंने अपने बचपन में यह देखा तक नहीं तो उनको समझने में थोड़ा समय लगता लेकिन नई जनरेशन वाले बच्चे भी मोबाइल सही तरह से चलाने लगे हैं क्योंकि वह अपने बचपन से ही मोबाइल फोन को चलाते हुए देखते हैं तो सीखना उनके लिए कोई बड़ी बात नहीं होती।

नई जनरेशन और पुरानी जनरेशन में गैप भले ही आज कल के युग में थोड़ा बहुत हो लेकिन अगर हमने इस आधुनिक युग में अपने पुराने रीति रिवाज और संस्कारों को भूलने की कोशिश की तो वास्तव में हम हमारे देश को आगे नहीं बढ़ा पाएंगे, उसकी संस्कृति को भूल कर विदेशों की संस्कृति को अपनाकर विदेश की ही तरह बनकर रह जाएंगे हमें चाहिए कि हम भले ही इस जनरेशन गैप को दूर न कर सके लेकिन अपने संस्कारों को हमेशा याद रखें और जीवन में आगे बढ़ते जाएं।

poem on generation gap in hindi

तुझमे मुझमे है यह अंतर

ना होगा खत्म ये अंतर

खुशी खुशी से फिर भी सीख ले

जीवन का यह मंतर

 

सम्मान बड़ो का करले

अब ना संस्कारो को भूलता जा

तुझमे मुझमे है यह अंतर

ना होगा खत्म ये अंतर

खुशी खुशी से फिर भी सीख ले

जीवन का यह मंतर

generation gap quotes in hindi

वास्तव में जनरेशन गैप एक तरह से लोगो मे सोच का अंतर होता है।

अगर हम जीवन में समझदारी से काम लें तो इस जनरेशन गैप के बावजूद भी हम अपने परिवार में अच्छी तरह से रह सकते हैं।

जनरेशन गैप भले ही हो लेकिन हमें हमारे बुजुर्गों, माता पिता और गुरु का सम्मान करना कभी भी नहीं भूलना चाहिए।

हमें हमेशा अपने संस्कारों को याद रखना चाहिए उन्हें बिल्कुल भी नहीं भूलना चाहिए।

हमें हमारे देश की भाषा मातृभाषा हिंदी को ही बढ़ावा देना चाहिए।

भले ही आजकल की जनरेशन पहले के लोगों से कुछ बातों में आगे हैं लेकिन वह हर बात में आगे नहीं हो सकती।

जनरेशन गैप के बारे में अलग-अलग लोगों की अलग-अलग धारणाएं हो सकती हैं।

हमें अपने जनरेशन गैप को कभी भी इतना बड़ा नहीं बनाना चाहिए कि इससे हमारे समाज में और परिवार में परेशानी खड़ी हो।

हम भले ही नई जनरेशन के हो तो भी हमें हमेशा बुजुर्गों के बताए हुए सत्य और ईमानदारी के मार्ग पर चलना चाहिए इसी से हम आगे बढ़ सकते हैं।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल Essay on generation gap in hindi पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा जिससे नए नए आर्टिकल लिखने प्रति हमें प्रोत्साहन मिल सके और इसी तरह के नए-नए आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाने के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करें जिससे हमारे द्वारा लिखी कोई भी पोस्ट आप पढना भूल ना पाए.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *