अंतरिक्ष यात्री पर निबंध Essay on astronaut in hindi

Antariksh yatri essay in hindi

अंतरिक्ष में कई ऐसे सफल प्रशिक्षण किए जा चुके हैं जिसका फायदा हम सभी नागरिकों को मिल रहा है , यह सब वैज्ञानिक और अंतरिक्ष यात्रियों की ही देन है अंतरिक्ष यात्रा की सहायता से हमको कई सुविधाएं मिल सकी हैं जैसे कि आज हम जो मोबाइल और इंटरनेट का यूज कर रहे हैं यह अंतरिक्ष यात्रियों और वैज्ञानिकों की ही देन है उन्हीं की सहायता से अंतरिक्ष में सेटेलाइट सेट किए गए और सफल प्रशिक्षण करके हमको कई सुविधाएं प्रदान की गई हैं ।

दोस्तों आज हम जानने वाले हैं अंतरिक्ष यात्रियों के बारे में कि वह किस तरह से पृथ्वी से अंतरिक्ष के सफर को पूरा करते हैं। संसार में जितनी भी अंतरिक्ष के माध्यम से सुविधाएं हम लोगों को प्राप्त हुई हैं इन सुविधाओं को पूरा लोगो तक पहुचाने लिए हमारे अंतरिक्ष यात्रियों ने अपनी जान की भी परवाह ना करके उस प्रशिक्षण को पूरा किया हैं ।

Essay on astronaut in hindi
Essay on astronaut in hindi

अंतरिक्ष यात्री बनना मेरा सबसे बड़ा सपना है मैं जब आसमान को देखता हूं तो मुझे ऐसा लगता है कि मैं आसमान तक पहुंच जाऊं , जब मैं दिन में आसमान को देखता हूं तो आसमान में बादल मुझे बहुत ही सुंदर दिखाई पड़ते हैं । आकाश में सफेद नीला रंग हमको दिखाई देता है जब मैं रात में आसमान को देखता हूं को टिमटिमाते हुए तारे मुझे बहुत ही सुंदर लगते हैं और मेरा मन करता है कि शायद मैं तारों तक पहुंच सकूं इस तरह सेें सोचते-सोचते मैंने अपने मन में कब अंतरिक्ष यात्री बनने का सपना जगा लिया है मुझे भी मालूम नहीं पड़ा ।

मैं अगर अंतरिक्ष यात्री बन जाता हूं तो मेरे सारे सपने पूरे हो जाएंगे। जब मैं अंतरिक्ष यात्रियों के बारे में पढ़ता हूं तो मुझे अंदर से ही खुशी महसूस होने लगती है और मैं यह सोचने लगता हूं कि मैं भी अंतरिक्ष यात्री बन जाऊं और मेरा नाम भी अखबारों, समाचार पत्रों में आए ।

अंतरिक्ष यात्रियों को जब अंतरिक्ष स्टेशन पर दिखाया जाता है जब वह अंतरिक्ष में जाने के लिए तैयार किए जाते हैं तो उनको देखकर ऐसा लगता है की उन यात्रियों को अपनी जिंदगी की परवाह नही है और वह यह भी नहीं सोचते कि रास्ते में दुर्घटना ना हो जाए उनका एक ही मकसद होता है कि वह इस यात्रा को पूरा करकेे लौंटे।

अंतरिक्ष यात्री को अंतरिक्ष से हमारी जो पृथ्वी है वह गोल और नीली दिखाई देती है मैं कल्पना करता हूं कि अंतरिक्ष से हमारी पृथ्वी कितनी अदभुत दिखाई देती होगी, मैं कभी कभी कल्पना करने लगता हूं और सोचने लगता हूं कि मनुष्य चंद्रमा पर पहुंच चुका है । पुराने समय में लोग यह कल्पना नहीं करते होंगे कि मनुष्य कभी चंद्रमा पर भी पहुंच सकेगा लेकिन यह हो चुका है अब हमारे वैज्ञानिक मंगल पर पहुंचने की तैयारी कर रहे हैं और कुछ ही सालों में वहां पर भी पहुंच जाएंगे ।

मैं अपने पैरंट्स और अपने स्कूल , कॉलेज मैं पढ़ाने वाले गुरु से हमेशा यह पूछता रहता हूं कि अंतरिक्ष यात्री बनने के लिए क्या करना चाहिए तो हमारे गुरु बताते थे कि अंतरिक्ष यात्री बनने के लिए हमें हमारा शरीर स्वस्थ रखना होगा और हम हर मौसम मैं हमारे शरीर को एडजस्ट करके रखेे और अच्छे – अच्छे फल फ्रूट , भोजन खाना चाहिए जिससे हमारा शरीर स्वस्थ होगा ।

मैं हमेशा मेरे बेस्ट अंतरिक्ष यात्री वेलेंटीना टैरेशकोवा और नील आर्म्सट्रांग जैसे अंतरिक्ष यात्री के बारे में पढ़ता रहता हूं यह दोनों अंतरिक्ष यात्री मेरे फेवरेट हैं यह पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने सबसे पहले चांद पर कदम रखा और इतिहास में अपना नाम रोशन कर दिया । मैं हमेशा उनके द्वारा दी गई टिप्स को पढ़ता रहता हूं और हमारा देश भी अंतरिक्ष मैं काफी तरक्की कर रहा है और मेरी तो यही सोच है की हमारे भारत की ओर से अंतरिक्ष यात्री बनकर वहां पर पहुंचू।

हमें बताये की ये निबंध Essay on astronaut in hindi आपको कैसा लगा.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *