खेल के विकास में हिन्दी सिनेमा का योगदान पर निबंध Essay on khel ke vikas mein hindi cinema ka yogdan

Essay on khel ke vikas mein hindi cinema ka yogdan

khel ke vikas mein hindi cinema ka yogdan – दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से खेल के विकास में हिंदी सिनेमा का योगदान पर लिखे निबंध के बारे में बताने जा रहे हैं । तो चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और इस आर्टिकल को पढ़कर खेल के विकास में हिंदी सिनेमा का योगदान पर लिखे निबंध के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हैं ।

Essay on khel ke vikas mein hindi cinema ka yogdan
Essay on khel ke vikas mein hindi cinema ka yogdan

खेल के विकास में हिंदी सिनेमा का योगदान के बारे में – जब खेलों की उत्पत्ति हुई तब उन खेलो को लोगों तक पहुंचाने के लिए हिंदी सिनेमा का एक महत्वपूर्ण योगदान रहा है क्योंकि देश में खेलों की प्रगति के लिए हिंदी सिनेमा का एक महत्वपूर्ण योगदान रहा है । यदि हम भारत देश की बात करें तो भारत देश के हिंदी सिनेमा के माध्यम से कई फिल्में खेलो के ऊपर बनाई गई हैं जिससे कि देश के युवा खेल के प्रति जागरूक हो क्योंकि खेल के माध्यम से व्यक्ति का शरीर तंदुरुस्त रहता है । युवा पीढ़ी खेल के माध्यम से अपने ज्ञान को बढ़ाने के साथ-साथ अपने शरीर को स्वस्थ रख सकती हैं । कई फिल्में हैं जो खेल के ऊपर बनाई गई हैं ।

भारत देश में खेल के प्रति युवा पीढ़ी को जागरूक करने के उद्देश्य 1984 में एक फिल्म बनाई गई थी जिस फिल्म का नाम था  हिप हिप हुर्रे । यह फिल्म 1 जनवरी 1984 को रिलीज हुई थी । जो फिल्म स्पोर्ट्स कोच पर आधारित थी । जिस फिल्म का उद्देश्य युवा पीढ़ी को खेलों से परिचित कराना था । इसके बाद और भी कई हिंदी फिल्में खेलों पर आधारित थी । जिसके बाद भारत देश के अंदर युवक  खेलों के प्रति जागरूक हुए थे । आज भारत देश सभी खेलों में रुचि रखता है । देश की युवा पीढ़ी सभी खेलों के माध्यम से कई स्वर्ण और रजत पदक हासिल कर चुकी है ।

इसके बाद 1990 में क्रिकेट के ऊपर एक फिल्म आयोजित की गई थी जिस फिल्म का नाम अब्बल नंबर था । जब यह फिल्म सिनेमा थियेटरों में प्रकाशित की गई तब सभी लोग इस फिल्म को देखने के लिए गए और वह क्रिकेट के प्रति जागरूक हुए थे और उनकी रुचि क्रिकेट खेल में होने लगी थी । क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो पूरे विश्व में खेला जाता है । क्रिकेट खेल को लेकर और भी कई फिल्में बनाई गई हैं जिन फिल्मों ने खेलों के प्रति युवा पीढ़ी को जागरूक किया है और आज क्रिकेट की दुनिया में भारत एक ऊंची उपलब्धि प्राप्त कर चुका है । क्रिकेट विश्व रैंकिंग में भारत की टीम बहुत अच्छा मुकाम हासिल कर चुकी है ।

ऐसा तब हुआ है जब देश की युवा पीढ़ी क्रिकेट खेल के प्रति जागरूक हुई थी ।इसके बाद क्रिकेट खेल पर आधारित और भी कई फिल्में बनाई जा चुकी हैं । जैसे कि 2011 में क्रिकेट खेल पर पटियाला हाउस फिल्म बनाई गई थी । जो फिल्म क्रिकेट पर आधारित थी । इसके साथ साथ 2011 में क्रिकेट पर लगान फिल्म भी बनाई गई है जिस फिल्म में क्रिकेट के साथ साथ ब्रिटिश शासन के बारे में भी बताया गया है ।इसके बाद क्रिकेट पर आधारित भारत में 2012 में फेरारी की सवारी फिल्म बनाई गई है जिस फिल्म को काफी दर्शकों ने पसंद किया है क्योंकि क्रिकेट खेल के प्रति सभी की रुचि बढ़ती जा रही है ।

क्रिकेट के साथ-साथ एथलीट खेलों पर आधारित फिल्में बनाई जा चुकी हैं । जिन फिल्मों का उद्देश्य था देश के युवाओं को खेलों के प्रति जागरूक करना । 2014 में मेरी कॉम फिल्म बनाई गई थी जो फिल्म बॉक्सिंग पर आधारित थी । इसके बाद 2012 में पान सिंह तोमर फिल्म बनाई गई थी जो फिल्म एथलीट  पर आधारित थी । इस फिल्म में इरफान खान के द्वारा मुख्य अभिनय किया गया था । एथलीट पर और भी कई फिल्में बनाई गई है । 2014 में ख्वाब डियर टू ड्रीम फिल्म बनाई गई जो फिल्म एथलीट पर आधारित थी ।इसके बाद 2014 में हवा हवाई फिल्म बनाई गई थी जो फिल्म स्केटिंग पर आधारित थी ।

इसके बाद 2007 में फुटबॉल खेल पर आधारित एक फिल्म बनाई गई थी जिस फिल्म का नाम ढन ढना ढन गोल था । इसकेेेे साथ-साथ हॉकी खेल पर भी एक फिल्म बनाई जा चुकी है जिस फिल्म का नाम चक दे इंडिया था । यह फिल्म 2007 में बनी थी । 2013 में एथलीट पर आधारित फिल्म बनाई गई जिस फिल्म का नाम भाग मिल्खा भाग था । जिस फिल्म को काफी दर्शकोंं के द्वारा पसंद किया गया है ।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह बेहतरीन आर्टिकल खेल के विकास में हिंदी सिनेमा का योगदान पर निबंध Essay on khel ke vikas mein hindi cinema ka yogdan यदि आपको पसंद आए तो सबसे पहले आप सब्सक्राइब करें इसके बाद अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों में शेयर करना ना भूले । दोस्तों यदि आपको इस लेख में कुछ कमी नजर आए तो आप हमें उस कमी के बारे में हमारी ईमेल आईडी पर अवश्य बताएं जिससे कि हम उस गलती को सुधार कर यह आर्टिकल आपके समक्ष पुनः प्रस्तुत कर सके धन्यवाद ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *