कश्मीर समस्या पर निबंध Essay on kashmir problem in hindi

Essay on kashmir problem in hindi

हमारे देश में कई सालों पहले मुसलमानों का राज था इसके बाद अंग्रेजी शासन भारत में व्यापार करने के उद्देश्य से आई और यहां पर व्यापार करके भारत पर शासन करने लगी और हम सभी अंग्रेजों के गुलाम हो गए । कई सालों तक अंग्रेजों ने भारत को गुलाम बनाए रखा लेकिन भारत के लोग अंग्रेजों के बर्ताव को समझ गए थे और वह भारत को स्वतंत्र करना चाहते थे लेकिन अंग्रेजों के दिमाग में एक ही बात चल रही थी कि फूट डालो शासन करो ।

Essay on kashmir problem in hindi
Essay on kashmir problem in hindi

15 अगस्त 1947 को अंग्रेजो के द्वारा भारत को स्वतंत्र घोषित कर दिया गया लेकिन अंग्रेजों की कूटनीति के कारण भारत को 2 देशों में बांट अंग्रेज सरकार हिंदू और मुसलमानों में फूट डालकर शासन करती रही तब हमारे देश के महान लोगों ने अंग्रेजो के खिलाफ लड़ना शुरू कर दिया और सभी के प्रयासों से हमारा देश आजाद हो गया । दिया गया । जब हमारा देश आजाद हुआ तब जम्मू कश्मीर के राजा हरिसिंह थे और वह जम्मू कश्मीर को अलग राज्य बनाना चाहते थे और उसको अपने निर्णय स्वयं लेने के अधिकार थे कि वह किसके साथ रहना चाहते हैं पाकिस्तान के साथ या भारत के साथ ।

जम्मू कश्मीर में सबसे अधिक मुसलमान रहते थे और वहां के राजा हरिसिंह हिंदू थे और भारत की आजादी के बाद हरि सिंह ने पाकिस्तान के साथ वार्ता की और हिंदुस्तान के साथ भी वार्ता की लेकिन राजा हरि सिंह हिंदू होने के कारण हमेशा भारत के साथ रहे और भारत के साथ रहने की बात की लेकिन यह बात पाकिस्तान को अच्छी नहीं लगी और पाकिस्तान के द्वारा कश्मीर पर कब्जा करने के लिए जम्मू कश्मीर पर हमला करवा दिया । इस स्थिति में वहां के राजा हरि सिंह भारत के साथ खड़े रहे और उन्होंने भारत में शामिल होने का फैसला किया ।

पाकिस्तान भारत से लड़ने की बात करने लगा और पाकिस्तान ने कश्मीर पर आक्रमण किया फिर भारत ने जम्मू कश्मीर मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र संघ के मंच पर रखा और वहां पर अमेरिका ने पाकिस्तान का साथ दिया और रूस ने भारत का साथ दिया और जम्मू कश्मीर का मुद्दा विश्व स्तर पर चल कर ही रह गया । कई बार भारत और पाकिस्तान के बीच शांति के समझौते भी हुए लेकिन पाकिस्तान यह मानने को तैयार नहीं है कि कश्मीर भारत के पास रहे । आज एक हिस्सा कश्मीर का पाकिस्तान के पास है तो तीन हिस्से कश्मीर के भारत के पास है । पाकिस्तान भारत से कश्मीर को छिनना चाहता है और भारत की शांति व्यवस्था को भंग करना चाहता है ।

कई बार पाकिस्तान के द्वारा भारत में आतंकवादी भेजे गए लेकिन हमारा भारत आज की स्थिति में बहुत ही मजबूत देश है हर तरह की व्यवस्थाएं हमारे भारत में है । अगर पाकिस्तान युद्ध करेगा तो उसे मुंह की खानी पड़ेगी । हमारे देश के प्रधानमंत्री के द्वारा कई बार पाकिस्तान से कश्मीर समझौते की बात की गई लेकिन पाकिस्तान के लोग इस बात को करने के लिए तैयार नहीं है , उनका तो यही कहना है कि पाकिस्तान कश्मीर लेकर ही रहेगा इसके लिए चाहे कुछ भी करना पड़े ।

पाकिस्तान मे आतंकवादियों को पनाह दी जाती है और उनको सिखाया जाता है कि भारत को किस तरह से खत्म करना है और वहां के लोगों के दिमाग में यह बात डाली जाती है कि भारत के लोग हमारे दुश्मन है और कश्मीर हमारे हिस्से में ही आना चाहिए । भारत के द्वारा कश्मीर में धारा 370 लागू की गई जिसके तहत कश्मीर को एक ताकत दी गई जिससे वह स्वतंत्र रहें और किसी तरह कि आतंकी गतिविधियां उत्पन्न ना हो और वहां के लोग आराम से रह सके ।

हमें बताये की ये पोस्ट Essay on kashmir problem in hindi आपको कैसी लगी.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *