सकल घरेलू उत्पाद पर निबंध Essay on gdp in hindi

Essay on gdp in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी, आज हम आपके लिए लाए हैं सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी के बारे में जानकारी तो चलिए पढ़ते हैं हमारे आज के आर्टिकल को।

जीडीपी क्या है

जीडीपी यानी सकल घरेलू उत्पाद किसी समयावधि में वस्तु या सेवाओं के उत्पादन की कुल कीमत ही जीडीपी है यह किसी देश की आर्थिक स्थिति को मापने का पैमाना होता है। आसान शब्दों में हम ऐसे समझ सकते हैं कि यदि देश की आर्थिक विकास दर बढ़ जाती है तो जीडीपी का आंकड़ा भी बढ़ जाता है और यदि आर्थिक विकास दर कम होती है तो जीडीपी का आंकड़ा भी घट जाता है।

Essay on gdp in hindi
Essay on gdp in hindi

image source-https://hi.wikipedia.org/wiki/

भारत देश में सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी की गणना हर तिमाही के आधार पर होती है भारत में तरह-तरह की उद्योग चलते हैं इन सभी घटने या बढ़ने भारत में कृषि की दशा एवं भारत में चलने वाली तरह तरह की सेवाएं इन सभी के घटने एवं बढ़ने के आधार पर ही सकल घरेलू उत्पाद की दर निश्चित की जाती है।

जीडीपी का राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय मापक

सकल घरेलू उत्पाद का राष्ट्रीय मापन राष्ट्रीय सरकार सांख्यिकी एजेंसी के जरिए मापा जाता है क्योंकि इस तरह की एजेंसी के पास सरकारी खर्चो एवं उत्पादन की जानकारी एवं जरूरी जानकारी होती है।

इसके अलावा जीडीपी का अंतर्राष्ट्रीय मापन विश्व बैंक एवं संयुक्त राष्ट्र के प्रतिनिधियों के द्वारा तैयार की गई। पुस्तक सिस्टम ऑफ नेशनल अकाउंट्स(1993) के नियमों और प्रक्रियाओं के आधार पर किया जाता है।

जीडीपी की स्थिति समय के साथ घटती एवं बढ़ती रहती हैं क्योंकि देश की आर्थिक स्थिति भी कुछ ऐसी होती है। देश की आर्थिक स्थिति पर कई चीजों का प्रभाव पड़ता है उसी तरह से जीडीपी पर भी प्रभाव पड़ता है हमें चाहिए कि हम अपने देश की आर्थिक स्थिति मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाए जिससे हमारे देश की जीडीपी मजबूत हो।

सकल घरेलू उत्पाद की दर कम होने से देश में प्रभाव

यदि किसी देश की सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी कम हो जाती है तो कई प्रभाव देखने को मिलते हैं। जीडीपी कम होने से रुपए के भाव में कमी आती है, तेल की कीमतों में वृद्धि आती है, जीडीपी की दर कम होने से भारत के व्यवस्थाओं पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, यदि जीडीपी कम हो जाती हैं तो देश में महंगाई भी बढ़ती जाती हैं जिस वजह से देश की जनता को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

दोस्तों मेरे द्वारा लिखा यहां आर्टिकल सकल घरेलू उत्पाद पर निबंध आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं, इस आर्टिकल को अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूलें और हमें सब्सक्राइब जरूर करें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *