निरस्त्रीकरण पर निबंध Essay on disarmament in hindi

Essay on disarmament in hindi

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से निरस्त्रीकरण पर  लिखे  निबंध  के बारे में बताने जा रहे है .  चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं और निरस्त्रीकरण पर लिखे  इस निबंध को बड़े ध्यान से पढ़ते हैं . निरस्त्रीकरण  के माध्यम से हमें पूरी दुनिया की सबसे बढ़ी समस्या को हल करना है . आज सबसे बड़ी  समस्या परमाणु हथियार से युद्ध करना है . आज विज्ञान हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर रहा है , हर क्षेत्र में अपना योगदान दे रहा है . वहीं दूसरी ओर विज्ञान का दुरुपयोग भी किया जा रहा है .

essay on disarmament in hindi
essay on disarmament in hindi

आज बड़े बड़े जितने भी देश हैं वह अपने देश को मजबूत एवं शक्तिशाली करने में लगे हुए हैं . अपने देश को शक्तिशाली बनाने के लिए घातक से घातक  परमाणु बम एवं अणु बम बनाने में लगे हुए हैं  . ऐसे परमाणु हथियारो  का  उपयोग  युद्ध में किया गया तो काफी हानि हो सकती है . आज सभी देश शक्तिशाली हो चुके हैं , सभी के पास परमाणु हथियार मौजूद है . यदि यह सभी हथियार युद्ध में उपयोग किए गए तो पूरा विश्व तवा हो सकता है .

ऐसे परमाणु हथियारो  का  दुष्परिणाम हम देख चुके हैं . सभी देश अपने देश को मजबूत करने की होड़ में है . इसलिए परमाणु बम एवं घातक हथियार बनाने से पीछे नहीं हट रहे हैं . अमेरिका एवं रूस जैसे कई ताकतवर देश भी निशस्त्रीकरण पर जोर दे रहे हैं क्योंकि यदि लड़ाई से किसी समस्या का हल निकाला जाए तो काफी तबाही होने से रोका जा सकता है . इसलिए बिना हथियार के बातचीत के द्वारा समस्या का हल निकाला जाए .

इसलिए अंतरराष्ट्रीय पैनल तैयार किया गया है . विश्व के जितने बड़े देश हैं उनके नेताओं के माध्यम से पहली बार 1945 को निशस्त्रीकरण पर चर्चा की गई और विचार-विमर्श किया गया . उन्हीं के प्रस्ताव से 1946 को अमेरिका , ब्रिटेन , सोवियत रूस के अथक प्रयासों से संयुक्त राष्ट्र शक्ति आयोग की नियुक्ति की गई थी . सभी देशों से यह आग्रह किया गया कि कोई विनाशकारी परमाणु हथियार  ना बनाएं .  सभी देश  अपने देश की जनता की भलाई के लिए कार्य करें .

विनाशकारी हथियार के माध्यम से पूरा विश्व तबाह हो सकता है . इसलिए इस पर रोक लगाई गई है . जो देश  इन  नियमो  के   खिलाफ जाकर परमाणु हथियार बनाएगा  उसको अंतरराष्ट्रीय अणुशक्ति आयोग के माध्यम से दंडित किया जाएगा . उसके सभी अधिकार छीन लिए जाएंगे . जो मदद दूसरे देश के माध्यम से उसके पास पहुंच रही है वह सभी मदद बंद कर दी जाएगी . हाइड्रोजन परमाणु , अणु शक्ति के माध्यम से पूरा विश्व तबाह हो सकता है .

इसकी चिंता करते हुए संयुक्त राष्ट्र अणु शक्ति आयोग की नियुक्ति की गई है . यहां पर उन सभी देशों की सूची मौजूद है जिनको यहां से बनाये गए नियमों का पालन करना होगा . जो भी देश इन नियमों का पालन नहीं करेगा उसको दंडित किया जाएगा . आज हमें बड़ा दुख होता है  यह सोचकर की   विज्ञान की उत्पत्ति मनुष्य के जीवन को सफल बनाने के लिए की गई थी लेकिन आज इसका दुरुपयोग परमाणु बम हथियार बनाकर किया जा रहा है .

आज ऐसे  ऐसे हथियार बन चुके हैं यदि उनका उपयोग किया जाए तो एक बार में पूरा संसार नष्ट हो सकता है . निरस्त्रीकरण के माध्यम से हम विनाशकारी हथियारों पर रोक लगा सकते हैं . निरस्त्रीकरण अर्थ होता है विनाशकारी हथियारों के बिना युद्ध लड़ना . यह जरूरी नहीं होता है कि किसी युद्ध को लड़ने के लिए इतने घातक विनाशकारी हथियारो  का उपयोग  किया जाये . यह  हथियार बहुत ही विनाशकारी होते हैं इसलिए निरस्त्रीकरण के माध्यम से इन हत्यारों पर रोक लगाना बहुत ही आवश्यक है .

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल निरस्त्रीकरण पर निबंध essay on disarmament in hindi यदि पसंद आए तो शेयर अवश्य करें धन्यवाद .

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *